Sep 16, 2021 · 2 min read

” आल -राउंडर “

डॉ लक्ष्मण झा ” परिमल ”
===========
व्यक्तित्वक विकास मे रूचि ( हॉबी ) एक्सरा केरीकुलर एक्टिविटीज क स्थान सर्वोपरि मानल गेल अछि ! किनको गीत सुनबाक हॉबी छैनि ..कियो गीत गबैत छथि ..किनको किताब सं प्रेम छनि..कियो कविता लिखैत छथि..किनको चित्रकारिता सं सिनेह छनि..कियो फोटोग्राफी सं जुडल छथि..किनको घुमनाई पसंद छैनि इत्यादि …..इत्यादि !
खाली समयक उपयोगिता अपना आनंद प्राप्ति क लेल अप्पन- अप्पन लोग हॉबी चुनैत अछि ! आई ० ए० एस ,….. आई ० पी ० एस .. एलाइड सर्विसेज ..डॉक्टर ..इंजिनियर ..सेना अधिकारी सभहक बायोडाटा मे एकर कॉलम होइत छैक आ एहि विषय क विस्तार पूर्वक साक्षात्कार मे पूछल जाइत छैक ! एकर बिना हम सफल नेतृत्व क अभिलाषा नहि क सकैत छी ! …
आब “एक्सरा केरीकुलर एक्टिविटीज ” जाहि मे ग्रुप डिस्कशन ..लेक्चर अभिनय …सांस्कृतिक कार्यक्रम सेहो देखल जाइत छैक ! सफल नेतृत्व क लेल एहि उपक्रम कें नजर अंदाज नहि क सकैत छी !
तेसर श्रेणी मे गेम्स आ स्पोर्ट्स क स्थान छैक मुदा महत्व एक समान ! इंडोर गेम्स हम खेलैत छी..आउटडोर गेम्स खेलैत छी तखने आहांक महत्व अन्यथा आहां कें महत्वहीन बुझल जायत !
एहि भांज मे नहि रहू कि अपना पुत्र आ पुत्री कें खाली किताबे सं बान्हीं काल कोठरी मे बंद केने रहू आ अपेक्षा अनंत राखि ! जेते विधाक चर्चा भेल….. इ कतो कथमपि हमरलोकनिक प्रोफेशन मे अवरोधक नहि होइत छैक ! दू रंगक गप्प नहि हेबाक चाहि ! अप्पन संतान सब गुण संपन्न हुये आ हम आन सं प्रश्न करि “-आहां यदि एहि विधा मे लागल रहब त प्रोफेशन केना चलत ?..आ नहि चलत !
आहां स्वतंत्र छी ..अप्पन व्यक्तित्व कें केना चमकायब ! प्रत्येक व्यक्ति आल- राउंडर बनय चाहेत अछि तकरा बोल भरोसक अपेक्षा रहित छैक आलोचना क नहि !
===================
डॉ लक्ष्मण झा ” परिमल ”
दुमका
भारत

109 Views
You may also like:
तीन किताबें
Buddha Prakash
उम्मीद से भरा
Dr.sima
"बीते दिनों से कुछ खास हुआ है"
Lohit Tamta
मोहब्बत का समन्दर।
Taj Mohammad
बेजुबां जीव
Jyoti Khari
मेरे पिता है प्यारे पिता
Vishnu Prasad 'panchotiya'
भगवान श्री परशुराम जयंती
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
हिन्दी थिएटर के प्रमुख हस्ताक्षर श्री पंकज एस. दयाल जी...
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
उत्तर प्रदेश दिवस
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
प्रणाम नमस्ते अभिवादन....
Dr. Alpa H.
बेजुबान और कसाई
मनोज कर्ण
मां
Anjana Jain
मां-बाप
Taj Mohammad
FATHER IS REAL GOD
KAMAL THAKUR
हे पिता,करूँ मैं तेरा वंदन
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
साँप की हँसी होती कैसी
AJAY AMITABH SUMAN
ग़ज़ल
Anis Shah
【29】!!*!! करवाचौथ !!*!!
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
जो चाहे कर सकता है
Alok kumar Mishra
हम भी है आसमां।
Taj Mohammad
** यकीन **
Dr. Alpa H.
*!* मेरे Idle मुन्शी प्रेमचंद *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
"साहित्यकार भी गुमनाम होता है"
Ajit Kumar "Karn"
इलाहाबाद आयें हैं , इलाहाबाद आये हैं.....अज़ल
लवकुश यादव "अज़ल"
नाम
Ranjit Jha
परिंदों सा।
Taj Mohammad
ग़ज़ल
सुरेखा कादियान 'सृजना'
कराहती धरती (पृथ्वी दिवस पर)
डॉ. शिव लहरी
मनस धरातल सरक गया है।
Saraswati Bajpai
मां की दुआ है।
Taj Mohammad
Loading...