Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Nov 2023 · 1 min read

🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀

🥀 गुरु चरणों की धूल🥀
हर्षित मन के वाचन से,नित रोज ये गाथायें पढूं।
माँ बाप श्री गुरु चरणों में,आज्ञा सुपथ पे आगे बढूं।
मन में ठान ली ठानी हमने,ये कदम न हटा
येंगे।
रँगी हमराही के चरणों में,श्रद्धा सुमन नित्य में चढूं।।
✍जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी
झाँसी उ•प्र•

15 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Follow our official WhatsApp Channel to get all the exciting updates about our writing competitions, latest published books, author interviews and much more, directly on your phone.
You may also like:
सञ्जीवनी साधना
सञ्जीवनी साधना
Er.Navaneet R Shandily
#शर्माजी के शब्द
#शर्माजी के शब्द
pravin sharma
मिलेंगे लोग कुछ ऐसे गले हॅंसकर लगाते हैं।
मिलेंगे लोग कुछ ऐसे गले हॅंसकर लगाते हैं।
सत्य कुमार प्रेमी
हम स्वार्थी मनुष्य
हम स्वार्थी मनुष्य
AMRESH KUMAR VERMA
फूल को,कलियों को,तोड़ना पड़ा
फूल को,कलियों को,तोड़ना पड़ा
कवि दीपक बवेजा
बचपन और पचपन
बचपन और पचपन
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
जब से आया शीतल पेय
जब से आया शीतल पेय
डॉ. श्री रमण 'श्रीपद्'
🥀* अज्ञानी की कलम*🥀
🥀* अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
दोहा
दोहा
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
जुदाई
जुदाई
Shekhar Chandra Mitra
विश्व फादर्स डे पर शुभकामनाएं
विश्व फादर्स डे पर शुभकामनाएं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
माँ की दुआ
माँ की दुआ
Anil chobisa
* दिल का खाली  गराज है *
* दिल का खाली गराज है *
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
*सदा खामोश होता है (मुक्तक)*
*सदा खामोश होता है (मुक्तक)*
Ravi Prakash
■ पूछती है दुनिया ..!!
■ पूछती है दुनिया ..!!
*Author प्रणय प्रभात*
सांसे चले अब तुमसे
सांसे चले अब तुमसे
Rj Anand Prajapati
एक अबोध बालक
एक अबोध बालक
DR ARUN KUMAR SHASTRI
किधर चले हो यूं मोड़कर मुँह मुझे सनम तुम न अब सताओ
किधर चले हो यूं मोड़कर मुँह मुझे सनम तुम न अब सताओ
Dr Archana Gupta
मारुति
मारुति
Kavita Chouhan
आसमाँ के परिंदे
आसमाँ के परिंदे
VINOD KUMAR CHAUHAN
2584.पूर्णिका
2584.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
सितम फिरदौस ना जानो
सितम फिरदौस ना जानो
प्रेमदास वसु सुरेखा
💐प्रेम कौतुक-523💐
💐प्रेम कौतुक-523💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
"लक्ष्य"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
फहराये तिरंगा ।
फहराये तिरंगा ।
Buddha Prakash
मोहता है सबका मन
मोहता है सबका मन
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
* किधर वो गया है *
* किधर वो गया है *
surenderpal vaidya
इस तरह से
इस तरह से
Dr fauzia Naseem shad
*फितरत*
*फितरत*
Dushyant Kumar
अंबेडकरवादी विचारधारा की संवाहक हैं श्याम निर्मोही जी की कविताएं - रेत पर कश्तियां (काव्य संग्रह)
अंबेडकरवादी विचारधारा की संवाहक हैं श्याम निर्मोही जी की कविताएं - रेत पर कश्तियां (काव्य संग्रह)
आर एस आघात
Loading...