Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Dec 2022 · 1 min read

🚩एकांत महान

🚩
अकेलापन सचमुच वरदान।
भीड़भाड़ की माया नगरी से एकांत महान।

🧿
दिव्य आत्मा के संगी बन।
जुड़ें स्वयं के साथ सुधी जन।
अंतर्मुखी बना लो निज को तजकर भ्रम-अज्ञान।
अकेलापन सचमुच वरदान।
भीड़भाड़ की माया नगरी से एकांत महान।

🧿
क्षरने लगे निशामय दीमक।
जले दिव्य अंतस् में दीपक।
मिले सहजता, ध्यान कीजिए, मरे द्वंद शैतान।
अकेलापन सचमुच वरदान।
भीड़भाड़ की माया नगरी से एकांत महान।

🧿
दिव्य प्रेम का मार्ग दिखेगा।
जीवन फूल-समान खिलेगा।
पकड़ो बोध, दिव्य संतों का है यह अनुसंधान।
अकेलापन सचमुच वरदान।
भीड़भाड़ की माया नगरी से एकांत महान।

🧿
अमल ज्ञान अनुसरण कीजिए।
इच्छाओं को कफन दीजिए।
निश्चित ही हो जाएगा तबआनंदी रस-पान।
अकेलापन सचमुच वरदान।
भीड़भाड़ की माया नगरी से एकांत महान।

🧿

बड़े बड़े ऋषि-मुनि औ ध्यानी।
खिले कमल -सम बनकर ज्ञानी।
ईश-दिव्यता पकड़ मिलेगा मोक्ष-ज्ञान सह मान।
अकेलापन सचमुच वरदान।
भीड़भाड़ की माया नगरी से एकांत महान।
————————–
पं बृजेश कुमार नायक
विद्यावाचस्पति
विद्यासागर

शिष्य सद्गुरु श्री श्री रविशंकर “विश्व प्रसिद्ध योगी”
इंटरनैशनल आर्ट ऑफ लिविंग के संस्थापक

मोबाइल – 9956928367

Language: Hindi
Tag: गीत
2 Likes · 197 Views

Books from Pt. Brajesh Kumar Nayak

You may also like:
Sharminda kyu hai mujhse tu aye jindagi,
Sharminda kyu hai mujhse tu aye jindagi,
Sakshi Tripathi
हाइकु: आहार।
हाइकु: आहार।
Prabhudayal Raniwal
💐अज्ञात के प्रति-96💐
💐अज्ञात के प्रति-96💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
जब सोच की कमी हो
जब सोच की कमी हो
Dr fauzia Naseem shad
शेयर मार्केट में पैसा कैसे डूबता है ?
शेयर मार्केट में पैसा कैसे डूबता है ?
Rakesh Bahanwal
■ हाथ मे झाड़ू : गर्दभ वाहन...
■ हाथ मे झाड़ू : गर्दभ वाहन...
*Author प्रणय प्रभात*
तेज दौड़े है रुके ना,
तेज दौड़े है रुके ना,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
"हठी"
Dr. Kishan tandon kranti
*छतरी ने कमाल दिखलाया (बाल कविता)*
*छतरी ने कमाल दिखलाया (बाल कविता)*
Ravi Prakash
245.
245. "आ मिलके चलें"
MSW Sunil SainiCENA
ऐ मातृभूमि ! तुम्हें शत-शत नमन
ऐ मातृभूमि ! तुम्हें शत-शत नमन
Anamika Singh
कहाँ लिखता है
कहाँ लिखता है
Mahendra Narayan
चौबीस घन्टे साथ में
चौबीस घन्टे साथ में
Satish Srijan
कान में रुई डाले
कान में रुई डाले
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
তুমি সমুদ্রের তীর
তুমি সমুদ্রের তীর
Sakhawat Jisan
"शेर-ऐ-पंजाब महाराजा रणजीत सिंह और कोहिनूर हीरा"
Pravesh Shinde
आभरण
आभरण
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
सेतु
सेतु
Saraswati Bajpai
कल मालूम हुआ हमें हमारी उम्र का,
कल मालूम हुआ हमें हमारी उम्र का,
Shivam Sharma
प्रेम करना इबादत है
प्रेम करना इबादत है
Dr. Sunita Singh
गुरुवर बहुत उपकार है
गुरुवर बहुत उपकार है
Ravi Yadav
बिंत-ए-हव्वा के नाम
बिंत-ए-हव्वा के नाम
Shekhar Chandra Mitra
मृत्यु... (एक अटल सत्य )
मृत्यु... (एक अटल सत्य )
Dr. Akhilesh Baghel "Akhil"
हम ना हंसे हैं।
हम ना हंसे हैं।
Taj Mohammad
दुनिया एक मेला है
दुनिया एक मेला है
VINOD KUMAR CHAUHAN
।। अंतर ।।
।। अंतर ।।
Skanda Joshi
'प्रेम' ( देव घनाक्षरी)
'प्रेम' ( देव घनाक्षरी)
Godambari Negi
रिश्ते-नाते
रिश्ते-नाते
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
ज़ख़्म दिल का
ज़ख़्म दिल का
मनोज कर्ण
✍️एक फ़िरदौस✍️
✍️एक फ़िरदौस✍️
'अशांत' शेखर
Loading...