Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Oct 2021 · 1 min read

🙏माॅं सिद्धिदात्री🙏

मॉं सिद्धिदात्री
…….🙏……

हे जगदम्बे , ‘नवदुर्गा’ की नौवीं रूप;
‘भक्तों’ को भाये, तेरा ‘सिद्धिस्वरूप’
‘माता’ तू ही , जग की ‘अधिष्ठात्री’ है;
हर ‘सिद्धि की देवी’, “सिद्धिदात्री” है;
तू ही ‘मॉं’, ‘सर्वशास्त्रमयी’, ‘चतुर्भुजा’
तू, ‘पद्मवासिनी’, ‘श्वेतवस्त्रधारिणी’ है;
विद्या दो हे ‘माता’, ‘सरस्वतिस्वरूपा’;
तू, ‘शंख’,’चक्र’ ‘गदाधारी’, ‘विश्वरूपा’
तू तो , अपने भक्तों को सदा प्यारी है;
‘सिंह’ , अपने जगमाता की सवारी है;
हे ‘मॉं’, तू ही ‘साध्वी’ तू ‘सावित्री’ हो;
तू ही, ‘शिवदूती’, ‘परमेश्वरी”आर्या’ हो;
तुम, ‘महेश्वर’ ‘महादेव’ की ‘भार्या’ हो;
तेरी कृपा से ही शिव भी, सिद्धि पाए;
फिर आधा स्वरूप, ‘देवी’ सा करवाए;
तब तो महादेव,अर्द्धनारीश्वर कहलाए;
तू ही , ‘जगमाता’, ‘दुर्गा’ व ‘पार्वती’ है;
हरेक ‘सिद्धि’, ‘मॉं’ तुमसे ही आती है;
‘अणिमा’ , ‘महिमा’, ‘गरिमा’, ‘लघिमा’
‘प्रकाम्य’ ‘ईशित्व’ ‘वाशित्व’ व प्राप्ति;
इन आठों सिद्धि की , तू ही है ‘शक्ति’;
यह तेरी आराधना से ही संभव है, मॉं;
पाये सब , ‘रिद्धि’ ‘सिद्धि’ और ‘मुक्ति’;
चाहे; देव, दानव,’किन्नर’ हो या ‘ऋषि’
सब करे ‘माता’ , तेरी ही सदा ‘स्तुति’;
हे मॉं तु, ‘सर्वदेवस्तुता’, ‘वैष्णवीमाता’;
तू ही हो ‘अष्टसिद्धि नौ निधि के दाता’;
तेरी आराधना से ही, हे ‘ब्राह्मणीमाता’;
हर कोई , अच्छा तन व मन को पाता;
तेरी भक्ति से ही ; यश,धन,बल आता;
तू ही तो मॉं , सबका है भाग्य विधाता;
हे माता , आज हर भक्त-जन तेरे द्वारे;
”जय माता दी”, “जय माता दी” गाता।
**************🙏*************

स्वरचित सह मौलिक;
…..✍️ पंकज ‘कर्ण’
………….कटिहार।।
तिथि:१४/१०/२९२१

Language: Hindi
6 Likes · 14 Comments · 1046 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Follow our official WhatsApp Channel to get all the exciting updates about our writing competitions, latest published books, author interviews and much more, directly on your phone.
You may also like:
" इच्छापूर्ति अक्टूबर "
Dr Meenu Poonia
लाचार बचपन
लाचार बचपन
Shyam kumar kolare
कुछ तो है
कुछ तो है
मानक लाल मनु
कुदरत
कुदरत
manisha
हार को तिरस्कार ना करें
हार को तिरस्कार ना करें
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
मौन पर एक नजरिया / MUSAFIR BAITHA
मौन पर एक नजरिया / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
अख़बार में आ गएँ by Vinit Singh Shayar
अख़बार में आ गएँ by Vinit Singh Shayar
Vinit kumar
"सौन्दर्य"
Dr. Kishan tandon kranti
कि हम हुआ करते थे इश्क वालों के वाक़िल कभी,
कि हम हुआ करते थे इश्क वालों के वाक़िल कभी,
Vishal babu (vishu)
💐 Prodigy Love-4💐
💐 Prodigy Love-4💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
नव गीत
नव गीत
Sushila Joshi
कुछ नींदों से अच्छे-खासे ख़्वाब उड़ जाते हैं,
कुछ नींदों से अच्छे-खासे ख़्वाब उड़ जाते हैं,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
कैसे चला जाऊ तुम्हारे रास्ते से ऐ जिंदगी
कैसे चला जाऊ तुम्हारे रास्ते से ऐ जिंदगी
देवराज यादव
“ प्रेमक बोल सँ लोक केँ जीत सकैत छी ”
“ प्रेमक बोल सँ लोक केँ जीत सकैत छी ”
DrLakshman Jha Parimal
जीवन बूटी कौन सी
जीवन बूटी कौन सी
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
हिंदी दिवस
हिंदी दिवस
Vandana Namdev
"सत्ता से संगठम में जाना"
*Author प्रणय प्रभात*
तेरे गम का सफर
तेरे गम का सफर
Rajeev Dutta
वो पहली पहली मेरी रात थी
वो पहली पहली मेरी रात थी
Ram Krishan Rastogi
कोशिश करो
कोशिश करो
Dr fauzia Naseem shad
जब तुम्हारे भीतर सुख के लिए जगह नही होती है तो
जब तुम्हारे भीतर सुख के लिए जगह नही होती है तो
Aarti sirsat
"क्या लिखूं क्या लिखूं"
Yogendra Chaturwedi
*जातिवाद का खण्डन*
*जातिवाद का खण्डन*
Dushyant Kumar
भाये ना यह जिंदगी, चाँद देखे वगैर l
भाये ना यह जिंदगी, चाँद देखे वगैर l
अरविन्द व्यास
सात अंगना के हमरों बखरियां सखी
सात अंगना के हमरों बखरियां सखी
Er.Navaneet R Shandily
राजा जनक के समाजवाद।
राजा जनक के समाजवाद।
Acharya Rama Nand Mandal
इंतजार
इंतजार
Anamika Singh
✍️जुस्तजू आसमाँ की..✍️
✍️जुस्तजू आसमाँ की..✍️
'अशांत' शेखर
*टैगोर काव्य गोष्ठी/ संपूर्ण रामचरितमानस का पाठ* आज दिनांक 1
*टैगोर काव्य गोष्ठी/ संपूर्ण रामचरितमानस का पाठ* आज दिनांक 1
Ravi Prakash
244.
244. "प्यारी बातें"
MSW Sunil SainiCENA
Loading...