Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 May 2023 · 1 min read

😢दंडक वन के दृश्य😢

😢दंडक वन के दृश्य😢

भीड़ सारी मूक दर्शक
आदमी बस पेड़ है।
डाकुओं की डाकुओं से
हो रही मुठभेड़ है।।

■प्रणय प्रभात■

1 Like · 46 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मेरे हमसफ़र
मेरे हमसफ़र
Shyam Sundar Subramanian
Success is not final
Success is not final
Swati
लोगों के दिलों में बसना चाहते हैं
लोगों के दिलों में बसना चाहते हैं
Harminder Kaur
शिक्षा मनुष्य के विकास की परवाह करता है,
शिक्षा मनुष्य के विकास की परवाह करता है,
Buddha Prakash
एक फौजी का अधूरा खत...
एक फौजी का अधूरा खत...
Dalveer Singh
"बड़ पीरा हे"
Dr. Kishan tandon kranti
क्या रखा है? वार में,
क्या रखा है? वार में,
Dushyant Kumar
मैं उसका ही आईना था जहाँ मोहब्बत वो मेरी थी,तो अंदाजा उसे कह
मैं उसका ही आईना था जहाँ मोहब्बत वो मेरी थी,तो अंदाजा उसे कह
AmanTv Editor In Chief
मेरे पिता
मेरे पिता
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
अनाथ
अनाथ
Kavita Chouhan
शायद मुझसा चोर नहीं मिल सकेगा
शायद मुझसा चोर नहीं मिल सकेगा
gurudeenverma198
आसमान में छाए बादल, हुई दिवस में रात।
आसमान में छाए बादल, हुई दिवस में रात।
डॉ.सीमा अग्रवाल
आंधियां* / PUSHPA KUMARI
आंधियां* / PUSHPA KUMARI
Dr MusafiR BaithA
पिया घर बरखा
पिया घर बरखा
Kanchan Khanna
ये दूरियां मिटा दो ना
ये दूरियां मिटा दो ना
Nitu Sah
*बनाता स्वर्ग में जोड़ी, सुना है यह विधाता है (मुक्तक)*
*बनाता स्वर्ग में जोड़ी, सुना है यह विधाता है (मुक्तक)*
Ravi Prakash
💐प्रेम कौतुक-322💐
💐प्रेम कौतुक-322💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
देशभक्त
देशभक्त
Shekhar Chandra Mitra
■ कटाक्ष / ढोंगी कहीं के...!
■ कटाक्ष / ढोंगी कहीं के...!
*Author प्रणय प्रभात*
कवि की नज़र से - पानी
कवि की नज़र से - पानी
बिमल
हिन्दी दिवस
हिन्दी दिवस
मनोज कर्ण
शिव हैं शोभायमान
शिव हैं शोभायमान
surenderpal vaidya
बारिश ए मोहब्बत।
बारिश ए मोहब्बत।
Taj Mohammad
वक्त और पैसा
वक्त और पैसा
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
दोहा
दोहा
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
मशहूर हो जाऊं
मशहूर हो जाऊं
सुशील कुमार सिंह "प्रभात"
वो घर घर नहीं होते जहां दीवार-ओ-दर नहीं होती,
वो घर घर नहीं होते जहां दीवार-ओ-दर नहीं होती,
डी. के. निवातिया
ਇਸ਼ਕ਼ ਨੂੰ ਮਹਿਸੂਸ ਕਰਦਿਆਂ
ਇਸ਼ਕ਼ ਨੂੰ ਮਹਿਸੂਸ ਕਰਦਿਆਂ
Surinder blackpen
ज़िन्दगी में अगर ऑंख बंद कर किसी पर विश्वास कर लेते हैं तो
ज़िन्दगी में अगर ऑंख बंद कर किसी पर विश्वास कर लेते हैं तो
Paras Nath Jha
दिल पर लिखे अशआर
दिल पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
Loading...