Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Feb 2023 · 1 min read

😊 चलने दो चोंचलेबाजी-

👌चोंचलेबाजी-
■ 07 फरवरी से शुरू हो कर 14 फरवरी और 21 फरवरी तक (दो चरणो मे) प्रतिदिन चलने वाली इंटरनेशनल नौटंकी में भाग लेने वाले सभी शादी-शुदा कलाकारों के लिए 08 फरवरी (प्रपोज डे) का अवकाश रहेगा। बाक़ी अपना काम फुल्ली बेशर्मी के साथ जारी रखें। कुल मिला कर वो तमाशा चलता रहना चाहिए। जिसका समापन ज़िल्लत और फ़ज़ीहत के साथ होना पूर्व निर्धारित है। ब्रेकअप डे के रूप में। आख़िर आधुनिकता और अपसंस्कृति का मूल संदेश भी तो यही है। लिमिटेड समय के लिए बनने वाले रिश्ते को “फ्यूज़” होने तक “यूज़” करो और “लूज़” होने के बाद “थ्रो” कर दो डस्ट-बिन में। फ़िलहाल “गुलाब” बांटो जम कर। आगे मर्ज़ी पाने वाली की। जूड़े में सजाए या गुलकंद बना कर खाए।। 😜
निवेदक:-
【प्रणय_प्रभात】
“Show must go on” 😛

1 Like · 33 Views
Join our official announcements group on Whatsapp & get all the major updates from Sahityapedia directly on Whatsapp.
You may also like:
ऑनलाईन शॉपिंग।
ऑनलाईन शॉपिंग।
लक्ष्मी सिंह
2225.
2225.
Dr.Khedu Bharti
*पलटते बाजी आँसू (कुंडलिया)*
*पलटते बाजी आँसू (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
लड़खड़ाने से न डर
लड़खड़ाने से न डर
Satish Srijan
*हम पर अत्याचार क्यों?*
*हम पर अत्याचार क्यों?*
Dushyant Kumar
अरे! पतझड़ बहार संदेश ले आई, बसंत मुसुकाई।
अरे! पतझड़ बहार संदेश ले आई, बसंत मुसुकाई।
राकेश चौरसिया
"भूल से भी देख लो,
*Author प्रणय प्रभात*
ज़ख़्म दिल का
ज़ख़्म दिल का
मनोज कर्ण
उसका अपना कोई
उसका अपना कोई
Dr fauzia Naseem shad
दर्द भरा गीत यहाँ गाया जा सकता है Vinit Singh Shayar
दर्द भरा गीत यहाँ गाया जा सकता है Vinit Singh Shayar
Vinit kumar
हज़ारों रंग बदलो तुम
हज़ारों रंग बदलो तुम
shabina. Naaz
पैसों के छाँव तले रोता है न्याय यहां (नवगीत)
पैसों के छाँव तले रोता है न्याय यहां (नवगीत)
Rakmish Sultanpuri
क्या डरना?
क्या डरना?
Shekhar Chandra Mitra
तू और तुझसे प्रेरित मुसाफ़िर
तू और तुझसे प्रेरित मुसाफ़िर
Skanda Joshi
💐प्रेम कौतुक-166💐
💐प्रेम कौतुक-166💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
साँसों का संग्राम है, उसमें लाखों रंग।
साँसों का संग्राम है, उसमें लाखों रंग।
सूर्यकांत द्विवेदी
प्रकृति से हम क्या सीखें?
प्रकृति से हम क्या सीखें?
Rohit Kaushik
हमने देखा है हिमालय को टूटते
हमने देखा है हिमालय को टूटते
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
रात चाहें अंधेरों के आलम से गुजरी हो
रात चाहें अंधेरों के आलम से गुजरी हो
कवि दीपक बवेजा
"मानो या न मानो"
Dr. Kishan tandon kranti
कभी जब ग्रीष्म ऋतु में
कभी जब ग्रीष्म ऋतु में
Ranjana Verma
उपदेश से तृप्त किया ।
उपदेश से तृप्त किया ।
Buddha Prakash
दोहा
दोहा
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
बो रही हूं खाब
बो रही हूं खाब
Surinder blackpen
माँ का महत्व
माँ का महत्व
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
नववर्ष
नववर्ष
Vijay kumar Pandey
"माँ की छवि"
Ekta chitrangini
उठाना होगा यमुना के उद्धार का बीड़ा
उठाना होगा यमुना के उद्धार का बीड़ा
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
Keep saying something, and keep writing something of yours!
Keep saying something, and keep writing something of yours!
DrLakshman Jha Parimal
इक झटका सा लगा आज,
इक झटका सा लगा आज,
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
Loading...