Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
31 Dec 2022 · 1 min read

😊 आज की बात :–

■ पलायन क्यों……?
【प्रणय प्रभात】
“अपना घर आख़िर क्यों छोड़ा जाए? जिसे बरसों के श्रम से सजाया-संवारा गया। घर की जगह
हम घर और उसके आसपास व्याप्त नकारात्मक ऊर्जा को क्यों न हटाएं? पलायन के बजाय अपने इर्द-गिर्द जमा निष्क्रियों और उदासीनो को अलविदा क्यों न कहें? सलाह सबसे अच्छे, सच्चे और विवेकशील मित्र “समय” की है। इस नेक सलाह पर अमल में शायद कोई हर्ज भी नहीं। लिहाजा, “स्वच्छता अभियान” आरंभ करें और उसे दृढ़ता व प्रतिबद्धता के साथ जारी रखें। हर दिन आत्म-केन्द्रितों को मुक्ति दें। मात्र चार माह में सुखद, अनुकूल व सकारात्मक परिणाम सामने आएंगे। जो सन्देश पढ़ पा रहे हैं वो सब इस विचार को कार्य-रूप दे सकते हैं। आज से नहीं बल्कि अभी से।।
🙅🙅🙅🙅🙅🙅🙅🙅🙅🙅🙅🙅🙅🙅🙅🙅

Language: Hindi
2 Likes · 53 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मंतर मैं पढ़ूॅंगा
मंतर मैं पढ़ूॅंगा
नन्दलाल सिंह 'कांतिपति'
तेरी गली से निकलते हैं तेरा क्या लेते है
तेरी गली से निकलते हैं तेरा क्या लेते है
Ram Krishan Rastogi
पाँव में छाले पड़े हैं....
पाँव में छाले पड़े हैं....
डॉ.सीमा अग्रवाल
हो जाओ तुम किसी और के ये हमें मंजूर नहीं है,
हो जाओ तुम किसी और के ये हमें मंजूर नहीं है,
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
★उसकी यादों का साया★
★उसकी यादों का साया★
★ IPS KAMAL THAKUR ★
पर्यावरण
पर्यावरण
Dr Praveen Thakur
"बीज"
Dr. Kishan tandon kranti
रंग बरसे
रंग बरसे
पंकज पाण्डेय सावर्ण्य
मैल
मैल
Gaurav Sharma
खुद को संभालो यारो
खुद को संभालो यारो
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
STOP looking for happiness in the same place you lost it....
STOP looking for happiness in the same place you lost it....
आकांक्षा राय
कविता// घास के फूल
कविता// घास के फूल
Shiva Awasthi
"बहरे होने का अपना अलग ही आनंद है साहब!
*Author प्रणय प्रभात*
*बहू- बेटी- तलाक* कहानी लेखक: राधाकिसन मूंदड़ा, सूरत।
*बहू- बेटी- तलाक* कहानी लेखक: राधाकिसन मूंदड़ा, सूरत।
Radhakishan Mundhra
क्या प्यार है तुमको हमसे
क्या प्यार है तुमको हमसे
gurudeenverma198
माँ के सपने
माँ के सपने
Rajdeep Singh Inda
संविधान  की बात करो सब केवल इतनी मर्जी  है।
संविधान की बात करो सब केवल इतनी मर्जी है।
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
कातिल अदा
कातिल अदा
Bodhisatva kastooriya
*मैं अमर आत्म-पद या मरणशील तन【गीत】*
*मैं अमर आत्म-पद या मरणशील तन【गीत】*
Ravi Prakash
प्यार है रब की इनायत या इबादत क्या है।
प्यार है रब की इनायत या इबादत क्या है।
सत्य कुमार प्रेमी
2234.
2234.
Dr.Khedu Bharti
वीर वैभव श्रृंगार हिमालय🏔️⛰️🏞️🌅
वीर वैभव श्रृंगार हिमालय🏔️⛰️🏞️🌅
तारकेशवर प्रसाद तरुण
दोहावली
दोहावली
Prakash Chandra
تہذیب بھلا بیٹھے
تہذیب بھلا بیٹھے
Ahtesham Ahmad
सुन सको तो सुन लो
सुन सको तो सुन लो
Shekhar Chandra Mitra
"अंतिम-सत्य..!"
Prabhudayal Raniwal
प्रोत्साहन
प्रोत्साहन
Dr. Pradeep Kumar Sharma
महफ़िल में गीत नहीं गाता
महफ़िल में गीत नहीं गाता
Satish Srijan
गीतिका-* (रामनवमी की हार्दिक शुभकामनाएँ)
गीतिका-* (रामनवमी की हार्दिक शुभकामनाएँ)
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
💐अज्ञात के प्रति-4💐
💐अज्ञात के प्रति-4💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
Loading...