Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings

?”सत्ता और रसोई”का”व्यंग्यात्मक संबंध”?

“रसोई और सत्ता”का”व्यंग्यात्मक संबंध”

प्याज ने हमसे दिल्ली छीनी,
टमाटर तू…..
लाल-किला छीन न लेना,
समझ नहीं आया तेरा व्यवहार,
ऊपर से आया दीवाली का त्यौहार,

हरियाणा मिल गया,
गम नहीं जो गया पंजाब,
जो समझ न सके दाल तेरा मिजाज

GST ने लाज़ बचाई है,
जो मिल गया हारा हुआ बिहार,

नोटबंदी बड़े काम की निकली,
जो फतह किया आधा हिंदुस्तान,

म.प्रदेश और गुजरात में …
हो नहीं सकती है किरकिरी हमारी
पहले से ही है जो सरकार ….हमारी,
चेहरे विजयी अपने से लड़वा देंगे चुनाव,
जनता को सत्ता पलटने के हर कोण से समझाऐंगे वोट आखिर हम ही पाऐंगे,

ऐसी ऐसी जगह उभर हम आए है,
राष्ट्रपति उप-राष्ट्रपति अपना बनाए है,
जो पूर्ण बहुमत से आएं है…..।।

1 Like · 1 Comment · 224 Views
You may also like:
भोजपुरी के संवैधानिक दर्जा बदे सरकार से अपील
आकाश महेशपुरी
इज़हार
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
ओ मेरे साथी ! देखो
Anamika Singh
भारत भाषा हिन्दी
शेख़ जाफ़र खान
कभी-कभी / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
और जीना चाहता हूं मैं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
क्या लगा आपको आप छोड़कर जाओगे,
Vaishnavi Gupta
झुलसता पर्यावरण / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
कण-कण तेरे रूप
श्री रमण 'श्रीपद्'
चराग़ों को जलाने से
Shivkumar Bilagrami
पिता एक विश्वास - डी के निवातिया
डी. के. निवातिया
फेसबुक की दुनिया
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
सही-ग़लत का
Dr fauzia Naseem shad
पिता मेरे /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
काश....! तू मौन ही रहता....
Dr. Pratibha Mahi
मैं कुछ कहना चाहता हूं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
.✍️वो थे इसीलिये हम है...✍️
'अशांत' शेखर
कौन होता है कवि
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
गर्मी का कहर
Ram Krishan Rastogi
एसजेवीएन - बढ़ते कदम
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
गरम हुई तासीर दही की / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
मेरी उम्मीद
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
मोहब्बत की दर्द- ए- दास्ताँ
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
"आम की महिमा"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
सो गया है आदमी
कुमार अविनाश केसर
कैसे गाऊँ गीत मैं, खोया मेरा प्यार
Dr Archana Gupta
जिंदगी
Abhishek Pandey Abhi
ख़्वाब सारे तो
Dr fauzia Naseem shad
✍️सच बता कर तो देखो ✍️
Vaishnavi Gupta
ख़्वाहिशें बे'लिबास थी
Dr fauzia Naseem shad
Loading...