Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings

#छप्पय छंद

★परिभाषा★

रोला + उल्लाला = छप्पय छंद

छप्पय छंद में कुंडलिया छंद की तरह छह चरण होते हैं,
प्रथम चार चरण रोला छंद के होते हैं ; जिसके प्रत्येक चरण में
24-24 मात्राएँ होती हैं , यति 11-13 पर होती है।

प्रत्येक चरण के अंत में दो गुरू या एक गुरू दो लघु या
दो लघु एक गुरू का होना अनिवार्य है।

आखिर के दो सम चरण उल्लाला छंद के होते हैं।
प्रत्येक चरण में 26-26 मात्राएँ होती हैं।
चरण की यति13-13 मात्राओं पर होती है ;
जो दोहा छंद के विषम चरणों की तरह ही होते हैंं।
जिसमें ग्यारहवीं मात्रा लघु और इसके बाद एक गुरू या
दो लघु मात्राएँ होनी अनिवार्य हैं।

इस प्रकार रोला और उल्लाला छंद मिलकर छप्पय छंद बनाते हैं।
यह एक प्राचीन छंद है।

★इसे उदाहरण द्वारा ठीक प्रकार से समझा जा सकता है।★

उदाहरण-

बोलो मीठे बोल , सभी के मन को भाएँ।
बढ़े आपका मान , प्रीति सबसे करवाएँ।
रिश्ते करें अटूट , महक जाएँ घर-आँगन।
पुष्प खिलेंं हर डाल , हँसे जैसे मन मधुबन।-(रोला)
धरा बने जब स्वर्ग-सी , प्रेम भरे हों गान सब।
आना चाहें देव भी , समझें इसको आन सब।।-(उल्लाला)

#आर.एस. ‘प्रीतम’

Sponsored

5 Likes · 2 Comments · 14717 Views
You may also like:
यह सिर्फ़ वर्दी नहीं, मेरी वो दौलत है जो मैंने...
Lohit Tamta
पिता एक विश्वास - डी के निवातिया
डी. के. निवातिया
ये कैसा धर्मयुद्ध है केशव (युधिष्ठर संताप )
VINOD KUMAR CHAUHAN
दीवार में दरार
VINOD KUMAR CHAUHAN
पिता
लक्ष्मी सिंह
✍️सूरज मुट्ठी में जखड़कर देखो✍️
'अशांत' शेखर
अमर शहीद चंद्रशेखर "आज़ाद" (कुण्डलिया)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
'फूल और व्यक्ति'
Vishnu Prasad 'panchotiya'
बाबूजी! आती याद
श्री रमण 'श्रीपद्'
जब भी तन्हाईयों में
Dr fauzia Naseem shad
पिता मेरे /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
पिता जी
Rakesh Pathak Kathara
सपना आंखों में
Dr fauzia Naseem shad
रात तन्हा सी
Dr fauzia Naseem shad
हे तात ! कहा तुम चले गए...
मनोज कर्ण
आपकी तारीफ
Dr fauzia Naseem shad
कुछ लोग यूँ ही बदनाम नहीं होते...
मनोज कर्ण
मैं कुछ कहना चाहता हूं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
मेरे पिता है प्यारे पिता
Vishnu Prasad 'panchotiya'
झरने और कवि का वार्तालाप
Ram Krishan Rastogi
पिता है भावनाओं का समंदर।
Taj Mohammad
अधूरी बातें
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
पिता - नीम की छाँव सा - डी के निवातिया
डी. के. निवातिया
बेटियों की जिंदगी
AMRESH KUMAR VERMA
पीला पड़ा लाल तरबूज़ / (गर्मी का गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
दहेज़
आकाश महेशपुरी
औरों को देखने की ज़रूरत
Dr fauzia Naseem shad
तप रहे हैं दिन घनेरे / (तपन का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
प्रेम में त्याग
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
माँ की परिभाषा मैं दूँ कैसे?
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
Loading...