Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Mar 2023 · 1 min read

💐 Prodigy Love-44💐

Oh Dear!
Please wait.
That time,which will make you happy.
Not only happy but happy with pleasure also.
Whichever has concealed regarding soul.
Make it reveal from your intelligence.
Let you strive more and more.
It unleash your Humanity.
It is not simple or easy.
But,we should complete this by benedictory discourses.
From where, we will get this all.
We should have to do this under the grace of GOD.
Almighty God is listening us.
Pay attention toward every creature of this universe.
True love its patronage.
Yes,be leader of true love.
With beautiful affection

©® Abhishek Parashar “Aanand”

Language: Hindi
Tag: English Poem
16 Views
You may also like:
You have climbed too hard to go back to the heights. Never g
You have climbed too hard to go back to the...
Manisha Manjari
थप्पड़ की गूंज
थप्पड़ की गूंज
Shekhar Chandra Mitra
नवगीत
नवगीत
Mahendra Narayan
खत्म हुआ जो तमाशा
खत्म हुआ जो तमाशा
Dr fauzia Naseem shad
खुदगर्ज दुनियाँ मे
खुदगर्ज दुनियाँ मे
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
वृक्ष बोल उठे..!
वृक्ष बोल उठे..!
Prabhudayal Raniwal
■ लघुकथा / बस दो शब्द
■ लघुकथा / बस दो शब्द
*Author प्रणय प्रभात*
ऐ चाँद
ऐ चाँद
Saraswati Bajpai
दफन
दफन
Dalveer Singh
* सूर्य स्तुति *
* सूर्य स्तुति *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
~~बस यूँ ही~~
~~बस यूँ ही~~
Dr Manju Saini
कहानी संग्रह-अनकही
कहानी संग्रह-अनकही
राकेश चौरसिया
खालीपन
खालीपन
जय लगन कुमार हैप्पी
पी रहे ग़म के जाम आदमी
पी रहे ग़म के जाम आदमी
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
Tumhari khubsurat akho ne ham par kya asar kiya,
Tumhari khubsurat akho ne ham par kya asar kiya,
Sakshi Tripathi
मुक्त्तक
मुक्त्तक
Rajesh vyas
इश्क़ जोड़ता है तोड़ता नहीं
इश्क़ जोड़ता है तोड़ता नहीं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
💐प्रेम कौतुक-378💐
💐प्रेम कौतुक-378💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
Advice
Advice
Shyam Sundar Subramanian
सपेरा
सपेरा
Buddha Prakash
तुझसें में क्या उम्मीद करू कोई ,ऐ खुदा
तुझसें में क्या उम्मीद करू कोई ,ऐ खुदा
Sonu sugandh
" बच्चा दिल का सच्चा"
Dr Meenu Poonia
'ण' माने कुच्छ नहीं
'ण' माने कुच्छ नहीं
Satish Srijan
दूर जाकर सिर्फ यादें दे गया।
दूर जाकर सिर्फ यादें दे गया।
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
*रामचंद्र की जय (गीत)*
*रामचंद्र की जय (गीत)*
Ravi Prakash
वृक्षों के उपकार....
वृक्षों के उपकार....
डॉ.सीमा अग्रवाल
Shayri
Shayri
श्याम सिंह बिष्ट
बाल चुभे तो पत्नी बरसेगी बन गोला/आकर्षण से मार कांच का दिल है भामा
बाल चुभे तो पत्नी बरसेगी बन गोला/आकर्षण से मार कांच...
Pt. Brajesh Kumar Nayak
नारी_व्यथा
नारी_व्यथा
संजीव शुक्ल 'सचिन'
शायरी संग्रह नई पुरानी शायरियां विनीत सिंह शायर
शायरी संग्रह नई पुरानी शायरियां विनीत सिंह शायर
Vinit kumar
Loading...