Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jun 15, 2022 · 1 min read

💐 माये नि माये 💐

डॉ अरूण कुमार शास्त्री 💐 एक अबोध बालक💐 अरुण अतृप्त
💐माये नि माये 💐

आगाज़ कर रहा हूँ , तेरी हसरतों से माँ
मैं जब भी घर से निकला , मुझे तूने दी दुआ ।।

दुनिया के सफ़र को , जब भी बढ़े कदम
तेरी दुआओं ने है की मेरे लिए बिस्मिल्लाह।।

मैं आदतन ही हरदम रहता हूँ हरकदम बेखबर बेखौफ
मालूम है मुझे ओ माँ तू जहाँ भी होगी करती होगी दुआ ।।

मेरी हर सांस पर है मुझको यकीन इतना
मुझे धूप न सतायेगी मेरी माँ का साया है साथ निकला ।।

पड़े जब कदम मिरे तपती हुई रेत पर
मिरे पाओ न जले ना ही कोई उफ़ ही निकली

मुझको यकीन था मेरी माँ है ठण्डी छाया ।।

आगाज़ कर रहा हूँ , तेरी हसरतों से माँ
मैं जब भी घर से निकला , मुझे तूने दी दुआ ।।

दुनिया के सफ़र को , जब भी बढ़े कदम
तेरी दुआओं ने है की मेरे लिए बिस्मिल्लाह।।

उम्र दराज़ हूँ अब और उम्र भी है हो चली मेरी
तेरी नज़र में रहुंगा पर, मैं मुन्ना, चाहे दाढ़ी सफ़ेद हो ली ।।

दुनिया के अलमों अमान से मैं
जब भी घबराकर देखता हूँ चारों तरफ़ ।।
मुझे तू ही दिखाई देती हैं चौखट से,
आसीस देती , अब तलक ।।

आगाज़ कर रहा हूँ , तेरी हसरतों से माँ
मैं जब भी घर से निकला , मुझे तूने दी दुआ ।।

दुनिया के सफ़र को , जब भी बढ़े कदम
तेरी दुआओं ने है की मेरे लिए बिस्मिल्लाह।।

55 Views
You may also like:
अपने दिल को।
Taj Mohammad
हौसला
Mahendra Rai
नन्हा बीज
मनोज कर्ण
माई री [भाग२]
Anamika Singh
नियमित बनाम नियोजित(मरणशील बनाम प्रगतिशील)
Sahil
उम्रें गुज़र गई हैं।
Taj Mohammad
दुर्गावती:अमर्त्य विरांगना
दीपक झा रुद्रा
हम समझते हैं
Dr fauzia Naseem shad
बारिश की बौछार
Shriyansh Gupta
सर रख कर रोए।
Taj Mohammad
वक़्त
Mahendra Rai
" COMMUNICATION GAP AMONG FRIENDS "
DrLakshman Jha Parimal
स्पर्धा भरी हयात
AMRESH KUMAR VERMA
मुझे छल रहे थे
Anamika Singh
ऊपज
Mahender Singh Hans
नरसिंह अवतार
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
धरती कहें पुकार के
Mahender Singh Hans
पहले ग़ज़ल हमारी सुन
Shivkumar Bilagrami
सृजनकरिता
DR ARUN KUMAR SHASTRI
तेरी यादें मुझे सोने नहीं देती
Ram Krishan Rastogi
पत्ते ने अगर अपना रंग न बदला होता
Dr.Alpa Amin
मालूम था।
Taj Mohammad
क्या मेरी कलाई सूनी रहेगी ?
Kumar Anu Ojha
सीधे सीधे कहते हैं।
Taj Mohammad
हृदय का सरोवर
सुनील कुमार
✍️अभी उलझे नहीं✍️
'अशांत' शेखर
पुस्तक समीक्षा *तुम्हारे नेह के बल से (काव्य संग्रह)*
Ravi Prakash
जिंदगी एक बार
Vikas Sharma'Shivaaya'
पेड़ों का चित्कार...
Chandra Prakash Patel
✍️मेरी शख़्सियत✍️
'अशांत' शेखर
Loading...