Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jun 2, 2022 · 1 min read

💐 गुजरती शाम के पैग़ाम💐

डॉ अरुण कुमार शास्त्री

एक अबोध बालक 💐💐 अरुण अतृप्त

💐 गुजरती शाम के पैग़ाम💐

मैं तिल तिल बढ़ती अपनी उम्र को

देख खुश होता रहा ।।

ऊपर वाला चुपचाप हर रोज उसमें से

एक दिन कम करता रहा ।।

मैंने बुने सपने बड़े बड़े भविष्य के

सोच कर जिनको

कि मैं खुश हो ता गया ।।

झूटी खुशी के बागवां का चमन यूं

फूलता फलता गया ।।

बचपना बीता जवानी की जिंदाबाद

के नारे लगा लगा ।।

और जवानी बीती देख देख

अपनी बाहों की मछलियां ।।

आनंद में निस दिन छप्पनभोग का लेता रहा

ऊपर वाला चुपचाप हर रोज मेरे दिन गिनता रहा ।।

कुछ समझ आता इस समझ के

फेर का समीकरण मुझको जबतलक ।।

बो बा कायदा उनका गणित जयात्मिय

आधार पर गढ़ता गया।।

हर गुजरती शाम से सीखा न

मैने कुछ भी आज तक ।।

हालांकि हर गुजरती शाम से ही

वो मुझको समझाता रहा ।।

दिन फिरे फिरते रहे फिर घडी आई हिसाब की

फैसला होकर फरमान जब सुनाया जाने लगा ।।

खून के आँसूओ से मैं बिस्तर पर पड़ा

तकिया अपना भिगोता रहा ।।

याद कर बीते दिनों की याद को

जो गुज़ारे भाव मिट्टी के सुनहरा जीवन व्यथा ।।

जिंदगी एक आईना होती है साहिब,

हर शख्स के किरदार की

ये बात जिंदगी रहते कब समझता है

अबोध उस परवरदिगार , करतार की ।।

133 Views
You may also like:
जीवन-दाता
Prabhudayal Raniwal
पुरानी यादें
Palak Shreya
समसामयिक बुंदेली ग़ज़ल /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
मां
हरीश सुवासिया
ढूढ़ा जाऊंगा
सिद्धार्थ गोरखपुरी
वो काली रात...!
मनोज कर्ण
अन्तर्मन ....
Chandra Prakash Patel
जीवन संगीत
Shyam Sundar Subramanian
बरसात
मनोज कर्ण
खोकर के अपनो का विश्वास ।....(भाग - 3)
Buddha Prakash
*शंकर तुम्हें प्रणाम है (भक्ति-गीत)*
Ravi Prakash
मत पूछो कोई वो क्या थे
VINOD KUMAR CHAUHAN
✍️आसमाँ के परिंदे ✍️
Vaishnavi Gupta
हरिगीतिका
शेख़ जाफ़र खान
अज़ल की हर एक सांस जैसे गंगा का पानी है./लवकुश...
लवकुश यादव "अज़ल"
✍️फ़रिश्ता रहा नहीं✍️
'अशांत' शेखर
अब तो ज़ख्मो से रिश्ता पुराना हुआ....
डॉ. अनिल 'अज्ञात'
पायल
Dr. Sunita Singh
वक्त और दिन
DESH RAJ
Life through the window during lockdown
ASHISH KUMAR SINGH
ब्रेकिंग न्यूज़
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
'नर्क के द्वार' (कृपाण घनाक्षरी)
Godambari Negi
इश्क की खुशबू।
Taj Mohammad
कभी हक़ किसी पर
Dr fauzia Naseem shad
" लिखने की कला "
DrLakshman Jha Parimal
कविता : व्रीड़ा
Sushila Joshi
✍️सब खुदा हो गये✍️
'अशांत' शेखर
💐साधकस्य निष्ठा एव कल्याणकर्त्री💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
लता मंगेशकर
AMRESH KUMAR VERMA
अजीब दौर हकीकत को ख्वाब लिखने लगे
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
Loading...