Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Dec 2022 · 1 min read

💐💐संसारः निरन्तर: प्रवाहवान्💐💐

संसारः निरन्तर: प्रवाहवान्।एतं सत्ता-ममतायाः दानं त्रुटिपूर्णं।के अपि वस्तु सर्वदा न चेतनास्ति।एषः सर्वे अनुभवः।येन केन प्रकारेण स्वानुभवस्य तु आदरः कुर्यु:.प्रत्येकं क्षणे भगवन्तं स्मरणं च नामजपः च कुर्यात्।प्रत्येकं क्षणे सावधान भवतु।सावधानकरणस्य कृते एव एषः सत्संग:।

©®अभिषेक: पाराशरः ‘आनन्द’

Language: Sanskrit
Tag: गीत
35 Views
You may also like:
औरत
औरत
shabina. Naaz
गाँव के दुलारे
गाँव के दुलारे
जय लगन कुमार हैप्पी
शहीद दिवस पर शहीदों को सत सत नमन 🙏🙏🙏
शहीद दिवस पर शहीदों को सत सत नमन 🙏🙏🙏
Prabhu Nath Chaturvedi
जगन्नाथ जी ( कुंडलिया )
जगन्नाथ जी ( कुंडलिया )
Ravi Prakash
एक महान सती थी “पद्मिनी”
एक महान सती थी “पद्मिनी”
पंकज कुमार शर्मा 'प्रखर'
Teri gunehgar hu mai ,
Teri gunehgar hu mai ,
Sakshi Tripathi
इंक़लाबी शायर
इंक़लाबी शायर
Shekhar Chandra Mitra
संत एकनाथ महाराज
संत एकनाथ महाराज
Pravesh Shinde
जी उठती हूं...तड़प उठती हूं...
जी उठती हूं...तड़प उठती हूं...
Seema 'Tu hai na'
💐उनकी नज़र से दोस्ती कर ली💐
💐उनकी नज़र से दोस्ती कर ली💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
धन की देवी
धन की देवी
कुंदन सिंह बिहारी
तू मेरा मैं  तेरी हो जाऊं
तू मेरा मैं तेरी हो जाऊं
Ananya Sahu
हम बच्चों की आई होली
हम बच्चों की आई होली
लक्ष्मी सिंह
बसेरा उठाते हैं।
बसेरा उठाते हैं।
रोहताश वर्मा मुसाफिर
ख्वाहिश
ख्वाहिश
अमरेश मिश्र 'सरल'
~~बस यूँ ही~~
~~बस यूँ ही~~
Dr Manju Saini
दोहे शहीदों के लिए
दोहे शहीदों के लिए
दुष्यन्त 'बाबा'
बेटियां
बेटियां
सुशील कुमार सिंह "प्रभात"
"मन"
Dr. Kishan tandon kranti
हिचकियां
हिचकियां
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
Book of the day- कुछ ख़त मोहब्बत के (गीत ग़ज़ल संग्रह)
Book of the day- कुछ ख़त मोहब्बत के (गीत ग़ज़ल...
Sahityapedia
चांद ने सितारों से कहा,
चांद ने सितारों से कहा,
Radha jha
एक झूठा और ब्रह्म सत्य
एक झूठा और ब्रह्म सत्य
ज्ञानीचोर ज्ञानीचोर
भले ही तुम कड़वे नीम प्रिय
भले ही तुम कड़वे नीम प्रिय
Ram Krishan Rastogi
प्रेम की अनिवार्यता
प्रेम की अनिवार्यता
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
■ बातों बातों में...
■ बातों बातों में...
*Author प्रणय प्रभात*
“प्रतिक्रिया, समालोचना आ टिप्पणी “
“प्रतिक्रिया, समालोचना आ टिप्पणी “
DrLakshman Jha Parimal
एक दिन
एक दिन
Ranjana Verma
कोई अपना नहीं है
कोई अपना नहीं है
Dr fauzia Naseem shad
अमृत उद्यान
अमृत उद्यान
मनोज कर्ण
Loading...