Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
31 Dec 2022 · 2 min read

💐💐वो न आकर भी कई बार चले गए💐💐

##मणिकर्णिका##
##बौनी,इन्तजाम कर लेना👆##
##बात करो वैसी ही योजना बनेगी##
##सभी मैसेज चाहते हैं##
##बौनी तू उड़ मत, टाइम से फ़ोटो डाला कर##
##परीक्षा मत ले##
##तुझे तो मणिकर्णिका जाना है##
##किसी भी देवता को मना ले##
##बौनी बौनी बौनी,डेढ़ फुटिया##

कितनी रातें चलीं गई सावन चले गए,
वो न आकर भी कई बार चले गए,
कितनी रातें चलीं गई सावन चले गए,
वो न आकर भी कई बार चले गए,
उनकी परछाइयाँ भी देखीं छिप-छिपकर,
उन्हें सोचा उन्हें समझा छिप-छिपकर,
कोई दस्तूर न मिला दिल्लगी से भरा,
ख्वाबों में भी आए वो छिप-छिपकर,
वादे किए वो,बिना निभाए ही चले गए,
वो न आकर भी कई बार चले गए।।1।।
उनकी तस्वीर उकेरें किस बुनियाद को लेकर,
कभी आए ही नहीं इन्तजार की कहकर,
सिसकती राहें ही बचीं हैं सुन लो,
जान भी नहीं है अब इतना सहकर,
जानकर भी वो तग़ाफ़ुल देते चले गए,
वो न आकर भी कई बार चले गए।।2।।
तुम कहो तो हम शर्मिन्दा क्यों हैं,
फिर कहोगे हम जिन्दा क्यों हैं,
कोई फ़र्क था ही नहीं मेरी फ़कीरी का,
कभी पूछो,मेरा इश्क चुनिन्दा क्यों है
कोई शिकायत थी ही नहीं, शिकायत देते चले गए,
वो न आकर भी कई बार चले गए।।3।।
हश्र तो हसीं होगा मेरी दीवानगी का,
वास्ते उनके मेरी बेख़ुद पेशगी का,
वो तबज्जो न दे सके, क्या तक़दीर में फेर था,
कोई फ़ुर्क़ान सवाल छोड़ते मेरी जिन्दगी का,
तरदीद की इनायत वो देते चले गए,
वो न आकर भी कई बार चले गए।।4।।

तग़ाफ़ुल-उपेक्षा,फ़ुर्क़ान-सत्य-असत्य में अन्तर बताने वाला
तरदीद-रद्द करना, खण्डन करना, इनायत-अनुग्रह

©®अभिषेक: पाराशरः ‘आनन्द’

Language: Hindi
Tag: गीत
1 Like · 57 Views
Join our official announcements group on Whatsapp & get all the major updates from Sahityapedia directly on Whatsapp.
You may also like:
स्वाल तुम्हारे-जवाब हमारे
स्वाल तुम्हारे-जवाब हमारे
Ravi Ghayal
उड़ानों का नहीं मतलब, गगन का नूर हो जाना।
उड़ानों का नहीं मतलब, गगन का नूर हो जाना।
डॉ.सीमा अग्रवाल
उतर गया चढ़ा था जो आसमाँ में रंग
उतर गया चढ़ा था जो आसमाँ में रंग
'अशांत' शेखर
सिर्फ लिखती नही कविता,कलम को कागज़ पर चलाने के लिए //
सिर्फ लिखती नही कविता,कलम को कागज़ पर चलाने के लिए //
गुप्तरत्न
क्या मागे माँ तुझसे हम, बिन मांगे सब पाया है
क्या मागे माँ तुझसे हम, बिन मांगे सब पाया है
Anil chobisa
#ekabodhbalak
#ekabodhbalak
DR ARUN KUMAR SHASTRI
पागल मन कहां सुख पाय ?
पागल मन कहां सुख पाय ?
goutam shaw
***
*** " बसंती-क़हर और मेरे सांवरे सजन......! " ***
VEDANTA PATEL
Mohabbat
Mohabbat
AMBAR KUMAR
हिंदी दिवस की बधाई
हिंदी दिवस की बधाई
Rajni kapoor
कर्तव्यपथ
कर्तव्यपथ
जगदीश शर्मा सहज
मानस तरंग कीर्तन वंदना शंकर भगवान
मानस तरंग कीर्तन वंदना शंकर भगवान
पागल दास जी महाराज
क्या करते हो?
क्या करते हो?
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
सच बोलने की हिम्मत
सच बोलने की हिम्मत
Shekhar Chandra Mitra
رَہے ہَمیشَہ اَجْنَبی
رَہے ہَمیشَہ اَجْنَبی
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
अर्जुन धुरंधर न सही ...एकलव्य तो बनना सीख लें ..मौन आखिर कब
अर्जुन धुरंधर न सही ...एकलव्य तो बनना सीख लें ..मौन आखिर कब
DrLakshman Jha Parimal
एक सन्त: श्रीगुरु तेग बहादुर
एक सन्त: श्रीगुरु तेग बहादुर
Satish Srijan
वचन दिवस
वचन दिवस
सत्य कुमार प्रेमी
डर कर लक्ष्य कोई पाता नहीं है ।
डर कर लक्ष्य कोई पाता नहीं है ।
Buddha Prakash
■ एक कविता / सामयिक संदर्भों में
■ एक कविता / सामयिक संदर्भों में
*Author प्रणय प्रभात*
प्यार की कस्ती पे
प्यार की कस्ती पे
Surya Barman
💐अज्ञात के प्रति-8💐
💐अज्ञात के प्रति-8💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
हर सफ़र ज़िंदगी नहीं होता
हर सफ़र ज़िंदगी नहीं होता
Dr fauzia Naseem shad
सूरज बनो तुम
सूरज बनो तुम
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
*चुनाव में उम्मीदवार (हास्य व्यंग्य)*
*चुनाव में उम्मीदवार (हास्य व्यंग्य)*
Ravi Prakash
खामोश कर्म
खामोश कर्म
Sandeep Pande
मैं बारिश में तर था
मैं बारिश में तर था
सुशील मिश्रा (क्षितिज राज)
मूकनायक
मूकनायक
मनोज कर्ण
श्री राम राज्याभिषेक
श्री राम राज्याभिषेक
नवीन जोशी 'नवल'
পৃথিবীর সবচেয়ে সুন্দর মেয়েদের
পৃথিবীর সবচেয়ে সুন্দর মেয়েদের
Sakhawat Jisan
Loading...