Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Jan 2023 · 1 min read

💐💐मेरी बहुत शिक़ायत है तुमसे💐💐

##मणिकर्णिका##
##यहाँ जाना है तुम्हें##
##बौनी बौनी बौनी##
##सब सूचना पहुँच रही है##
##परिचय दीजिए अपना##
##अपना परिचय-एक शिक्षक से ऐसे बात करते हैं😊##
##कमजोर हो तुम##
##आयरन की गोलियां खाती रहना##
##हाइपरवोला पढ़ा होगा##
##अब तो फ़ोटो डालने में भी शर्म लग रही##
##बौनी को##
##तारापीठ चली जा अब,माता हमारी ही सुनेगी##
##कोई न बचाएगा##

मेरी बहुत शिक़ायत है तुमसे,
मेरी बहुत शिक़ायत है तुमसे,
उलझे रहे नयन उनके नयन में,
मैं था मगन उनकी मगन में,
वो सरमा गए न कह सके अपनी बातें,
बह से गए जैसे ख़ुश्बू पवन में,
कुछ बच चुकी इनायत है तुमसे,
मेरी बहुत शिक़ायत है तुमसे।।1।।
ठहरने से भी वो इनकार करते,
क्यों सादगी पर सवाल करते?
शायद कोई मुख़ालिफ़ हश्र था क्या?
तो जरूर मिलकर हर बात करते,
सच है कि मेरी हिफाज़त है तुमसे,
मेरी बहुत शिक़ायत है तुमसे।।2।।
कौन बचा है दुनिया में ग़म से,
कोई ज़्यादा कोई निपट गया कम से,
सब इसी सफ़ में थे, हैं और रहेंगे,
छलकते रहे आँसू कभी तेज और हल्के नम से,
तुम्हें देखकर रोशनी की किफ़ायत है तुमसे,
मेरी बहुत शिक़ायत है तुमसे।।3।।
‘उन्हें पत्थर कहें तो राज़ी नहीं हैं,
‘कुछ नया नाम दें’तो कहा ताज़ी नहीं हैं,
ख़ामोश रहकर उन्हें देखा और बोले,
तुम्हें देखे बिना हम तो नाज़ी नहीं है,
‘कोई तसल्ली दो’आख़िरी हिदायत है तुमसे,
मेरी बहुत शिक़ायत है तुमसे।।4।।

इनायत-कृपा, मुख़ालिफ़-विरोधी, हिफाज़त-सुरक्षा
किफ़ायत-बचत, कमी पूरा होना, हिदायत-अनुदेश
नाजी-स्वतंत्र, free, liberated

©®अभिषेक: पाराशरः ‘आनन्द’

Language: Hindi
Tag: गीत
39 Views
You may also like:
चुनावी जुमला
चुनावी जुमला
Shekhar Chandra Mitra
💐प्रेम कौतुक-316💐
💐प्रेम कौतुक-316💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
गोवर्धन पूजन
गोवर्धन पूजन
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
The Digi Begs [The Online Beggars]
The Digi Begs [The Online Beggars]
AJAY AMITABH SUMAN
"बेवकूफ हम या गालियां"
Dr Meenu Poonia
वादा तो किया था
वादा तो किया था
Ranjana Verma
कोई भी रिश्ता
कोई भी रिश्ता
Dr fauzia Naseem shad
■ समयोचित सलाह
■ समयोचित सलाह
*Author प्रणय प्रभात*
आख़िरी मुलाक़ात
आख़िरी मुलाक़ात
N.ksahu0007@writer
*सर्दी (कुंडलिया)*
*सर्दी (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
प्रेम का फिर कष्ट क्यों यह, पर्वतों सा लग रहा है||
प्रेम का फिर कष्ट क्यों यह, पर्वतों सा लग रहा...
संजीव शुक्ल 'सचिन'
रहस्य
रहस्य
Shyam Sundar Subramanian
चांद का पहरा
चांद का पहरा
Surinder blackpen
मेरे मलिक तू
मेरे मलिक तू
gurudeenverma198
जरूरत उसे भी थी
जरूरत उसे भी थी
अभिषेक पाण्डेय ‘अभि’
आलिंगन हो जानें दो।
आलिंगन हो जानें दो।
Taj Mohammad
जान का नया बवाल
जान का नया बवाल
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
बेटियां
बेटियां
सुशील कुमार सिंह "प्रभात"
तुझे बताने
तुझे बताने
Sidhant Sharma
मोहन ने मीरा की रंग दी चुनरिया
मोहन ने मीरा की रंग दी चुनरिया
अनुराग दीक्षित
नीति अनैतिकता को देखा तो,
नीति अनैतिकता को देखा तो,
Er.Navaneet R Shandily
होली के रंग
होली के रंग
Anju ( Ojhal )
वाह रे पशु प्रेम ! ( हास्य व्यंग कविता)
वाह रे पशु प्रेम ! ( हास्य व्यंग कविता)
ओनिका सेतिया 'अनु '
एक अबोध बालक
एक अबोध बालक
DR ARUN KUMAR SHASTRI
जन्नत चाहिए तो जान लगा दे
जन्नत चाहिए तो जान लगा दे
D.k Math { ਧਨੇਸ਼ }
बह रही थी जो हवा
बह रही थी जो हवा
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
रंग मे रंगोली मे गीत मे बोली
रंग मे रंगोली मे गीत मे बोली
Vindhya Prakash Mishra
#चाकलेटडे
#चाकलेटडे
सत्य कुमार प्रेमी
इधर उधर न देख तू
इधर उधर न देख तू
Shivkumar Bilagrami
"माँ की ख्वाहिश"
Dr. Kishan tandon kranti
Loading...