Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Apr 2023 · 1 min read

💐💐नेक्स्ट जेनरेशन💐💐

##मणिकर्णिका##
##श्रीसीताराम##
##जानते सब हैं बच्चू।
##चिन्ता न करो।
##धोखा नहीं दे सकते हैं,किसी को।

इन द वे ,इन द वे ऑफ हर्ट,
दिल नू रस्ते पे चेहरा देखा नू तेरा,
पर अब तक न हो पाया तू मेरा,
शायद मेरी गल न फिट बैठ री,
रूपा क्यों बार-बार ऐंठ री,
क्या मुझे भी उतारनी होगी शर्ट,
इन द वे ,इन द वे ऑफ हर्ट।।1।।
मैंने कई बार फील कराया,मेरी जेब फटी है,
मैंने कोई डिक्शनरी कभी न रटी है,
गीत कभी लिखबा लेना अपने लिए,
हे सुनो!प्रीत बनाए रखना यू मेरे लिए,
पहले ही सॉरी बोला है करी थी जो फ़्लर्ट,
इन द वे ,इन द वे ऑफ हर्ट।।2।।
कदे कदे मेरे दिल भी घूम जाना,
मेनू भी तेरे दिल बिच डांस कराना,
कभी मिलो तो आँख मिलाना,
स्लोली स्लोली हाथ हिलाना,
आदमी थोड़े ही पहनता है स्कर्ट,
इन द वे ,इन द वे ऑफ हर्ट।।3।।
तेरा फँसना इस ज़िंदगी में क्यों हुआ,
बोलो कभी बोलो क्यों हुआ,
ये लाइफ कुछ ऐसे गीत गाती है,
फिर भी तू यूँ ही मुस्कुराती है,
फ़ोटो डालो अपनी करो न मेरे माइंड को डर्ट,
इन द वे ,इन द वे ऑफ हर्ट।।4।।

©®अभिषेक: पाराशरः “आनन्द”

90 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
संघर्ष
संघर्ष
Anamika Singh
2468.पूर्णिका
2468.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
चिड़िया
चिड़िया
Dr. Pradeep Kumar Sharma
✍️बर्दाश्त की हद✍️
✍️बर्दाश्त की हद✍️
'अशांत' शेखर
समझता है सबसे बड़ा हो गया।
समझता है सबसे बड़ा हो गया।
सत्य कुमार प्रेमी
चांदनी की बरसात के साये में चलते
चांदनी की बरसात के साये में चलते
Dr. Rajiv
उनका ही बोलबाला है
उनका ही बोलबाला है
मानक लाल मनु
जोशीला
जोशीला
RAKESH RAKESH
खुदा रखे हमें चश्मे-बद से सदा दूर...
खुदा रखे हमें चश्मे-बद से सदा दूर...
shabina. Naaz
भेंट
भेंट
Harish Chandra Pande
आजादी अभी नहीं पूरी / (समकालीन गीत)
आजादी अभी नहीं पूरी / (समकालीन गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
देश जल रहा है
देश जल रहा है
gurudeenverma198
गुुल हो गुलशन हो
गुुल हो गुलशन हो
VINOD KUMAR CHAUHAN
विनती सुन लो हे ! राधे
विनती सुन लो हे ! राधे
Pooja Singh
डर होता है
डर होता है
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
रास्ता गलत था फिर भी मिलो तब चले आए
रास्ता गलत था फिर भी मिलो तब चले आए
कवि दीपक बवेजा
अस्फुट सजलता
अस्फुट सजलता
Rashmi Sanjay
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
जीओ और जीने दो
जीओ और जीने दो
Shekhar Chandra Mitra
मौन
मौन
लक्ष्मी सिंह
रस्म ए उल्फत भी बार -बार शिद्दत से
रस्म ए उल्फत भी बार -बार शिद्दत से
AmanTv Editor In Chief
महान जन नायक, क्रांति सूर्य,
महान जन नायक, क्रांति सूर्य, "शहीद बिरसा मुंडा" जी को उनकी श
नेताम आर सी
वक़्त पर लिखे अशआर
वक़्त पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
*भरत चले प्रभु राम मनाने (कुछ चौपाइयॉं)*
*भरत चले प्रभु राम मनाने (कुछ चौपाइयॉं)*
Ravi Prakash
Waqt
Waqt
ananya rai parashar
दास्तां-ए-दर्द
दास्तां-ए-दर्द
Seema 'Tu hai na'
#सच_स्वीकार_करें.....
#सच_स्वीकार_करें.....
*Author प्रणय प्रभात*
मुक्तक
मुक्तक
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
क़त्ल काफ़ी हैं यूँ तो सर उसके
क़त्ल काफ़ी हैं यूँ तो सर उसके
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
आदमी सा आदमी_ ये आदमी नही
आदमी सा आदमी_ ये आदमी नही
कृष्णकांत गुर्जर
Loading...