Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
31 Dec 2022 · 1 min read

💐💐किं विचारणीय:?💐💐

यदि एकः अंगुली विच्छेद: भवति तु पुनः न निर्माणं भवति।तु इयत् वृहद शरीर: किं निर्माणं भविष्यति?स: बुद्धिमान् मन्येत्।परं यदि पच्छाघातः भवतु तु?नेत्रे क्षीण: भवति तु ‘ऐनक:’इति किं प्रयोगः करोति?स्व बलस्य अभिमानं करोतु।परं यदा लघुशंका अवरुद्ध: भवति तदा किं करोति?विचारणीय:।

©®अभिषेक:पाराशरः ‘आनन्द’

Language: Sanskrit
40 Views
You may also like:
जियले के नाव घुरहूँ
जियले के नाव घुरहूँ
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
बहेलिया(मैथिली काव्य)
बहेलिया(मैथिली काव्य)
मनोज कर्ण
मिले तो हम उनसे पहली बार
मिले तो हम उनसे पहली बार
DrLakshman Jha Parimal
नवसंवत्सर लेकर आया , नव उमंग उत्साह नव स्पंदन
नवसंवत्सर लेकर आया , नव उमंग उत्साह नव स्पंदन
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
प्रकृति सुनाये चीखकर, विपदाओं के गीत
प्रकृति सुनाये चीखकर, विपदाओं के गीत
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
कविता (घनाक्षरी)
कविता (घनाक्षरी)
Jitendra Kumar Noor
मैं तुझमें तू मुझमें
मैं तुझमें तू मुझमें
Varun Singh Gautam
विनाश की जड़ 'क्रोध' ।
विनाश की जड़ 'क्रोध' ।
Buddha Prakash
हिन्दू धर्म और अवतारवाद
हिन्दू धर्म और अवतारवाद
पंकज कुमार शर्मा 'प्रखर'
कैसे प्रेम इज़हार करूं
कैसे प्रेम इज़हार करूं
Er.Navaneet R Shandily
"मीनू की कुर्सी"
Dr Meenu Poonia
★दर्द भरा जीवन तेरा दर्दों से घबराना नहीं★
★दर्द भरा जीवन तेरा दर्दों से घबराना नहीं★
★ IPS KAMAL THAKUR ★
*रोने वाली सूरत है, लेकिन मुस्काएँ होली में 【 हिंदी गजल/ गीत
*रोने वाली सूरत है, लेकिन मुस्काएँ होली में 【 हिंदी...
Ravi Prakash
रोज डे पर रोज देकर बदले में रोज लेता है,
रोज डे पर रोज देकर बदले में रोज लेता है,
डी. के. निवातिया
गुरु मंत्र
गुरु मंत्र
Shekhar Chandra Mitra
इस बार फागुन में
इस बार फागुन में
Rashmi Sanjay
भले उधार सही
भले उधार सही
Satish Srijan
!! सांसें थमी सी !!
!! सांसें थमी सी !!
RAJA KUMAR 'CHOURASIA'
आखिर में मर जायेंगे सब लोग अपनी अपनी मौत,
आखिर में मर जायेंगे सब लोग अपनी अपनी मौत,
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
Aksar rishte wahi tikte hai
Aksar rishte wahi tikte hai
Sakshi Tripathi
बहुत सहा है दर्द हमने।
बहुत सहा है दर्द हमने।
Taj Mohammad
■ सियासी व्यंग्य-
■ सियासी व्यंग्य-
*Author प्रणय प्रभात*
🐾🐾अपने नक़्शे पा पर तुम्हें खोज रहा हूँ🐾🐾
🐾🐾अपने नक़्शे पा पर तुम्हें खोज रहा हूँ🐾🐾
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
इश्क वो गुनाह है
इश्क वो गुनाह है
Surinder blackpen
लाखों सवाल करता वो मौन।
लाखों सवाल करता वो मौन।
Manisha Manjari
कभी कभी मन करता है या दया आती है और लगता है कि तुम्हे खूदकी औकात नापने का मौका द
कभी कभी मन करता है या दया आती है और...
Nav Lekhika
क्या रखा है, वार (युद्ध) में?
क्या रखा है, वार (युद्ध) में?
Dushyant Kumar
नारी_व्यथा
नारी_व्यथा
संजीव शुक्ल 'सचिन'
उमीदों के चरागों को कभी बुझने नहीं देना
उमीदों के चरागों को कभी बुझने नहीं देना
Dr Archana Gupta
जो व्यक्ति
जो व्यक्ति
Dr fauzia Naseem shad
Loading...