Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 May 2016 · 1 min read

??? ????वो बूढ़ा है पर अब लाचार नहीं होगा

??? ???

? गजल ⭐
*********
वो बूढ़ा है पर अब लाचार नहीं होगा ।
कहता था बच्चों पर वो भार नहीं होगा ।
जिनको कन्धों पर लेकर नांचा हूँ अब तक ।
उन पर मेरा कोई अधिकार नहीं होगा ।
परिवार वही लेकिन वो बात नहीं होगी।
अब राम लखन जैसा अवतार नहीं होगा ।
जो जुल्फ झटककर उसने आज हमे देखा ।
कैसे कह दूँ अब मैं की प्यार नहीं होगा ।
जब हार चुके हों दिल मिलने की तमन्ना हो ।
स्वीकार मेरा तुमको क्यों हार नहीं होगा ।
चुपचाप हमें मिलने जब रात को आएगी ।
पायल से तेरी कैसे झंकार नहीं होगा ।
हम हाथ मिलाते हैं तुम घात लगाते हो ।
तुझ जैसा जमाने में गद्दार नहीं होगा ।
तू लाख करे कोशिश अब पाक मिटाने की ।
हस्ती जो मिटाये वो हथियार नहीं होगा ।
सर बाँध कफ़न निकले हम आज चढ़ाई पर ।
लाहौर तलक तेरा अधिकार नहीं होगा ।
हम शीश कटा देंगे कुर्बान हों सीमा पर ।
ए वीर कभी भी माँ लाचार नहीं होगा ।
********************************
वीर पटेल

279 Views
You may also like:
ख़ूब समझते हैं ghazal by Vinit Singh Shayar
Vinit kumar
मेरे पीछे जमाना चले ओर आगे गन-धारी दो वीर हो!
Suraj kushwaha
जीवन की अनसुलझी राहें !!!
Shyam kumar kolare
पाब्लो नेरुदा
Pakhi Jain
चश्मा
राकेश कुमार राठौर
ज्ञान के प्रकाश सी सुबोध मातृभाष री।
Neelam Sharma
*हिंदुत्व 【मुक्तक】*
Ravi Prakash
हल्लाबोल
Shekhar Chandra Mitra
■ ग़ज़ल / धूप की सल्तनत में... 【प्रणय प्रभात】
*प्रणय प्रभात*
संसर्ग मुझमें
Varun Singh Gautam
रक्षाबंधन
Utsav Kumar Aarya
राष्ट्रभाषा
Prakash Chandra
नियत समय संचालित होते...
डॉ.सीमा अग्रवाल
छठ गीत (भोजपुरी)
पाण्डेय चिदानन्द
🚩वैराग्य
Pt. Brajesh Kumar Nayak
अहमियत
Dr fauzia Naseem shad
शिक्षा
Buddha Prakash
Ye Sochte Huye Chalna Pad Raha Hai Dagar Main
Muhammad Asif Ali
ऊंची शिखर की उड़ान
AMRESH KUMAR VERMA
खत्म हुआ मतदान अब
विनोद सिल्ला
स्वर कोकिला लता
RAFI ARUN GAUTAM
करना है, मतदान हमको
Dushyant Kumar
गुजरे ज़माने वाले तुझे मैं क्या नाम दूं।
Taj Mohammad
"पेट को मालिक किसान"
Dr Meenu Poonia
सियासी चालें गहरी
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
अलविदा कहने से पहले
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
बुढापा
सूर्यकांत द्विवेदी
✍️हर इँसा समता का हकदार है
'अशांत' शेखर
अपनापन
विजय कुमार अग्रवाल
मुकम्मल जहां
Seema 'Tu hai na'
Loading...