Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Apr 2023 · 1 min read

💐प्रेम कौतुक-529💐

💐हमारे माता पिता का निर्णय ही अन्तिम रूप से मान्य होगा।जीवन मेरा बे-दाग़ है,फिर कोई दाग़ क्यों लगाएँ💐

इन पयामों की कोशिश हर वक़्त ठीक नहीं,
जो बिछड़ गया उससे मुलाक़ात ठीक नहीं,
जो आएगा बहुत अच्छा है तक़दीर में मेरे,
बे-सुरे राग से नज़्म गाना कतई ठीक नहीं।।

©®अभिषेक: पाराशरः “आनन्द”

Language: Hindi
1 Like · 205 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
'बेदर्दी'
'बेदर्दी'
Godambari Negi
*पास में अगर न पैसा 【कुंडलिया】*
*पास में अगर न पैसा 【कुंडलिया】*
Ravi Prakash
रिश्तों पर नाज़
रिश्तों पर नाज़
shabina. Naaz
आओ हम पेड़ लगाए, हरियाली के गीत गाए
आओ हम पेड़ लगाए, हरियाली के गीत गाए
जगदीश लववंशी
"आत्म-मन्थन"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
✍️राहे हमसफ़र✍️
✍️राहे हमसफ़र✍️
'अशांत' शेखर
Ranjeet Shukla
Ranjeet Shukla
Ranjeet Kumar Shukla
“ सज्जन चोर ”
“ सज्जन चोर ”
DrLakshman Jha Parimal
दहलीज़ पराई हो गई जब से बिदाई हो गई
दहलीज़ पराई हो गई जब से बिदाई हो गई
सुशील मिश्रा (क्षितिज राज)
ज़िंदगी का ये
ज़िंदगी का ये
Dr fauzia Naseem shad
मुझसे बचकर वह अब जायेगा कहां
मुझसे बचकर वह अब जायेगा कहां
Ram Krishan Rastogi
"मैं तेरी शरण में आई हूँ"
Shashi kala vyas
जन्म दायनी माँ
जन्म दायनी माँ
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
विश्व पुस्तक दिवस
विश्व पुस्तक दिवस
Rohit yadav
इंसानियत
इंसानियत
Neeraj Agarwal
2292.पूर्णिका
2292.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
मुक्तक- जो लड़ना भूल जाते हैं...
मुक्तक- जो लड़ना भूल जाते हैं...
आकाश महेशपुरी
भगवा हटा बिहार में, चढ़ गया हरा रंग
भगवा हटा बिहार में, चढ़ गया हरा रंग
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
💐प्रेम कौतुक- 292💐
💐प्रेम कौतुक- 292💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
कहाँ लिखता है
कहाँ लिखता है
Mahendra Narayan
मै तैयार हूँ
मै तैयार हूँ
Anamika Singh
दिल के अरमान मायूस पड़े हैं
दिल के अरमान मायूस पड़े हैं
Harminder Kaur
नेहा सिंह राठौर
नेहा सिंह राठौर
Shekhar Chandra Mitra
अनवरत का सच
अनवरत का सच
Rashmi Sanjay
सफर ऐसा की मंजिल का पता नहीं
सफर ऐसा की मंजिल का पता नहीं
Anil chobisa
कविता : व्रीड़ा
कविता : व्रीड़ा
Sushila Joshi
मिटटी की मटकी
मिटटी की मटकी
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
■ यादगार लम्हे
■ यादगार लम्हे
*Author प्रणय प्रभात*
कल सबको पता चल जाएगा
कल सबको पता चल जाएगा
MSW Sunil SainiCENA
इंद्रदेव की बेरुखी
इंद्रदेव की बेरुखी
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
Loading...