Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Jul 2022 · 1 min read

💐संसारे कः अपि स्व न💐

संसारे कः अपि स्व न।केवलं भगवान् एव स्व अस्ति।संसारे ‘मेरापन’ इति महान् पतनकर्ता।येषु त्यागस्य अभिमानम् अस्ति।ते त्यागिनः न।प्रत्युत महाभोगिनःसन्ति।किं मलस्य मूत्रस्य त्यागस्य अभिमान स्पर्श करोति?
अहं धनी च त्यागी च-द्वयोः कोSपि अन्तरं न।

©®अभिषेक:पाराशरः

58 Views
You may also like:
शरद ऋतु ( प्रकृति चित्रण)
Vishnu Prasad 'panchotiya'
तुमसे कोई शिकायत नही
Ram Krishan Rastogi
पिता
Satpallm1978 Chauhan
गुरुजी!
Vishnu Prasad 'panchotiya'
पिता की अभिलाषा
मनोज कर्ण
कोई एहसास है शायद
Dr fauzia Naseem shad
बच्चों के पिता
Dr. Kishan Karigar
बाबा साहेब जन्मोत्सव
Mahender Singh Hans
जंगल में कवि सम्मेलन
मनोज कर्ण
अपना ख़्याल
Dr fauzia Naseem shad
उफ ! ये गर्मी, हाय ! गर्मी / (गर्मी का...
ईश्वर दयाल गोस्वामी
जब भी तन्हाईयों में
Dr fauzia Naseem shad
✍️आशिकों के मेले है ✍️
Vaishnavi Gupta
याद तेरी फिर आई है
Anamika Singh
"सावन-संदेश"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
"समय का पहिया"
Ajit Kumar "Karn"
कुछ नहीं
Dr fauzia Naseem shad
रबीन्द्रनाथ टैगोर पर तीन मुक्तक
Anamika Singh
✍️दूरियाँ वो भी सहता है ✍️
Vaishnavi Gupta
यादें वो बचपन के
Khushboo Khatoon
माँ
आकाश महेशपुरी
✍️बचपन का ज़माना ✍️
Vaishnavi Gupta
मातृ रूप
श्री रमण 'श्रीपद्'
टूटा हुआ दिल
Anamika Singh
✍️क्या सीखा ✍️
Vaishnavi Gupta
पिता:सम्पूर्ण ब्रह्मांड
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
✍️जरूरी है✍️
Vaishnavi Gupta
बेरोज़गारों का कब आएगा वसंत
Anamika Singh
संकुचित हूं स्वयं में
Dr fauzia Naseem shad
दीवार में दरार
VINOD KUMAR CHAUHAN
Loading...