Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Apr 2023 · 2 min read

💐यू लूजर फॉरएवर💐

##मणिकर्णिका
##तेरी uह काँपेगी।
##रूपा रूपकिशोर अलग अलग रहते हैं।
##तेरा अन्त बहुत होगा।
##नीबूं पानी मैं ही दूँगा।
##बौनी बौने की बन नहीं रही है।
##दोनों अलग अलग रहते हैं।
##अभी क्या है।देखते चलो।
##सब रोड पर आ जायेगा।
##**से शादी कौन करेगा अब।
##मेरी तो तय हो गई।
##यू लूजर लूजर लूजर।
##ले ले फ़ोन samsung ले ले।

बेबी निकली एक्सट्रीमिली लूजर,
कितनी आवाज़ दी रूपा निकली गूँगीं,
शायद जूली ने अफ़ीम है सूंघी,
बारह साल हो गए ना मिल पाई नौकरी,
गाँव जाके पिसेगी चावल इन ओखली,
और निकली फट्टू,
नेपाली आँख कोई न हो रहा तुझ पर लटट्टू,
आई विल से यू प्योर लूज़र,
बेबी निकली एक्सट्रीमिली लूजर।।1।।
हेक्टर की तैयारी हो गई है,
रूपा की और किसी से यारी हो गई है,
बौना रूपा को अच्छा नहीं लगता,
रूपा को अब कोई नया छोरा मंगता,
रूपा की हर बात निकली फेक,
सुन तू अपनी रोटी और कहीं सेक,
तू न निकली बेस्ट चूजर,
बेबी निकली एक्सट्रीमिली लूजर।।2।।
फालतू में मैसेज मत किया कर,
एक टाइम कॉफी एक टाइम चाय तू पिया कर,
अभी भी टाइम है, आजा मेरे राह पर,
बता जल्दी से रूपा मिलेगी कहाँ पर,
सब हो जाएगा ज़ल्दी खतम,
रूपा की जेब में नहीं है कुछ भी रकम,
तेरी लाइफ का बनेगा बुरा टीजर,
बेबी निकली एक्सट्रीमिली लूजर।।3।।
कब तक चलेगा यह मत कर ख़राब खोपड़ी,
चल गाँव जा रहना इनसाइड इन झोपड़ी,
बौने को जो समझा था वह ना निकला ट्रू,
और गूँगी बन जा होठों से लगा ले ग्लू,
यू हेव नोट डाइजेस्ट माई लव,
अब न मिल सके फिर मिलेंगे कब,
मेरे मुँह से निकला तेरे लिये अगेन लूजर,
बेबी निकली एक्सट्रीमिली लूजर।।4।।

©®अभिषेक: पाराशरः “आनन्द”

Language: Hindi
166 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मेरी माटी मेरा देश
मेरी माटी मेरा देश
नूरफातिमा खातून नूरी
यूं हुस्न की नुमाइश ना करो।
यूं हुस्न की नुमाइश ना करो।
Taj Mohammad
क्या ज़रूरत थी
क्या ज़रूरत थी
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
💐अज्ञात के प्रति-54💐
💐अज्ञात के प्रति-54💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
:::::::::खारे आँसू:::::::::
:::::::::खारे आँसू:::::::::
MSW Sunil SainiCENA
खुद को सम्हाल ,भैया खुद को सम्हाल
खुद को सम्हाल ,भैया खुद को सम्हाल
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
भगवान सुनता क्यों नहीं ?
भगवान सुनता क्यों नहीं ?
ओनिका सेतिया 'अनु '
# जज्बे सलाम ...
# जज्बे सलाम ...
Chinta netam " मन "
तितली
तितली
Shyam Sundar Subramanian
गाय
गाय
Dr. Pradeep Kumar Sharma
जहां हिमालय पर्वत है
जहां हिमालय पर्वत है
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
चाय की चुस्की लेते ही कुछ देर तक ऊर्जा शक्ति दे जाती है फिर
चाय की चुस्की लेते ही कुछ देर तक ऊर्जा शक्ति दे जाती है फिर
Shashi kala vyas
"जीवनसाथी राज"
Dr Meenu Poonia
और मैं बहरी हो गई
और मैं बहरी हो गई
Surinder blackpen
सीख
सीख
Anamika Singh
*साँस लेने से ज्यादा सरल कुछ नहीं (मुक्तक)*
*साँस लेने से ज्यादा सरल कुछ नहीं (मुक्तक)*
Ravi Prakash
सच होता है कड़वा
सच होता है कड़वा
gurudeenverma198
चेहरा और वक्त
चेहरा और वक्त
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
■ ग़ज़ल / धूप की सल्तनत में... 【प्रणय प्रभात】
■ ग़ज़ल / धूप की सल्तनत में... 【प्रणय प्रभात】
*Author प्रणय प्रभात*
कैसे भुल जाऊ उस राह को जिस राह ने मुझे चलना सिखाया
कैसे भुल जाऊ उस राह को जिस राह ने मुझे चलना सिखाया
Shakil Alam
✍️तलाश ज़ारी रखनी चाहिए✍️
✍️तलाश ज़ारी रखनी चाहिए✍️
'अशांत' शेखर
मेरा देश एक अलग ही रसते पे बढ़ रहा है,
मेरा देश एक अलग ही रसते पे बढ़ रहा है,
नेताम आर सी
आ.अ.शि.संघ ( शिक्षक की पीड़ा)
आ.अ.शि.संघ ( शिक्षक की पीड़ा)
Dhananjay Verma
* साम वेदना *
* साम वेदना *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
विरासत
विरासत
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
जिसकी जिससे है छनती,
जिसकी जिससे है छनती,
महेश चन्द्र त्रिपाठी
*जिंदगी के  हाथो वफ़ा मजबूर हुई*
*जिंदगी के हाथो वफ़ा मजबूर हुई*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
*एक पुराना तन*
*एक पुराना तन*
अनिल अहिरवार"अबीर"
दूर नज़र से होकर भी जो, रहता दिल के पास।
दूर नज़र से होकर भी जो, रहता दिल के पास।
डॉ.सीमा अग्रवाल
'अकेलापन'
'अकेलापन'
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
Loading...