Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 Dec 2022 · 1 min read

💐मेरे संग तेरे ख्वाबों का काफ़िला है💐

##मणिकर्णिका##
##तैयारी शुरू कर दो##
##बौनी बौनी बौनी##
##तेरे खोपड़े में डंडा पड़ेगा##
##अभिमंत्रित सर्प भेजूँगा तेरे पास##
##दो तीन दिन में लोन भी ले लूँगा##
##अब क्या करना है##

मैं तन्हा नहीं हूँ,
मेरे संग तेरे ख्वाबों का काफ़िला है,
मैं तन्हा नहीं हूँ,
मेरे संग तेरे ख्वाबों का काफ़िला है,
अजनबी तुम भी थे मेरे लिए,
मैंने कहा जान लो मुझको,
फिर वही बात की मेरे लिए,
ऐसे झूठा बदनाम न करो मुझको,
मैं मरा नहीं हूँ,
मेरे संग तेरे ख्वाबों का काफ़िला है।।1।।
क्या हकीक़त हैं ग़म के मेले?
तुम भी सहो हम भी सहें अकेले,
चाँदनी चाँद का हिस्सा है,
क्यों न ग़म के भी मजे ले लें,
मैं फ़ना नहीं हूँ,
मेरे संग तेरे ख्वाबों का काफ़िला है,
संग संग चल तय करते राहें,
जो थीं तेरे निगाहें, मेरे निगाहें,
हवा के झोके सा लगा सब कुछ,
क्या फ़र्क है कोई चाहें या न चाहें,
मैं सजा नहीं हूँ,
मेरे संग तेरे ख्वाबों का काफ़िला है,।।3।।
वो पास आएँ या दूर जाएँ,
अपने किस्से किस किसको सुनाएँ,
वो खंजर रखते हैं अपने हाथों में,
कब तक अपने इस दिल को बचाएँ,
मैं इताब^ नहीं हूँ,
मेरे संग तेरे ख्वाबों का काफ़िला है,
^क्रोध,क़हर,गुस्सा
©®अभिषेक:पाराशरः ‘आनन्द’

Language: Hindi
Tag: गीत
43 Views
You may also like:
अंतर्जाल यात्रा
अंतर्जाल यात्रा
Dr. Sunita Singh
बेटियों तुम्हें करना होगा प्रश्न
बेटियों तुम्हें करना होगा प्रश्न
rkchaudhary2012
बदनाम गलियों में।
बदनाम गलियों में।
Taj Mohammad
जो बात तुझ में है, तेरी तस्वीर में कहां
जो बात तुझ में है, तेरी तस्वीर में कहां
Ram Krishan Rastogi
Life's beautiful moment
Life's beautiful moment
Buddha Prakash
Break-up
Break-up
Aashutosh Rajpoot
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Jitendra Kumar Noor
Finally, the broken souls have found each other.
Finally, the broken souls have found each other.
Manisha Manjari
कहां गये हम
कहां गये हम
Surinder blackpen
"काहे का स्नेह मिलन"
Dr Meenu Poonia
रोग से गर्दन अकड़ी( कुंडलिया)
रोग से गर्दन अकड़ी( कुंडलिया)
Ravi Prakash
मकर संक्रांति पर्व
मकर संक्रांति पर्व
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
महाशून्य
महाशून्य
Utkarsh Dubey “Kokil”
✍️मसला तो ख़्वाब का है
✍️मसला तो ख़्वाब का है
'अशांत' शेखर
सही नहीं है /
सही नहीं है /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
मक़रूज़ हूँ मैं
मक़रूज़ हूँ मैं
Satish Srijan
■ शुभ रंगोत्सव...
■ शुभ रंगोत्सव...
*Author प्रणय प्रभात*
टुलिया........... (कहानी)
टुलिया........... (कहानी)
लालबहादुर चौरसिया 'लाल'
अंतर्घट
अंतर्घट
Rekha Drolia
चाँदनी खिलने लगी, मुस्कुराना आपका
चाँदनी खिलने लगी, मुस्कुराना आपका
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
" मँगलमय नव-वर्ष 2023 "
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
खिचड़ी,तिल अरु वस्त्र का, करो हृदय से दान
खिचड़ी,तिल अरु वस्त्र का, करो हृदय से दान
Dr Archana Gupta
इसलिए तुमसे मिलता हूँ मैं बार बार
इसलिए तुमसे मिलता हूँ मैं बार बार
gurudeenverma198
प्रणय 8
प्रणय 8
Ankita Patel
💐प्रेम कौतुक-352💐
💐प्रेम कौतुक-352💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
नारी शक्ति के नौरूपों की आराधना नौरात एव वर्तमान में नारी का याथार्त
नारी शक्ति के नौरूपों की आराधना नौरात एव वर्तमान में...
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
मुक्तामणि, मुक्तामुक्तक
मुक्तामणि, मुक्तामुक्तक
muktatripathi75@yahoo.com
खुलकर बोलो
खुलकर बोलो
Shekhar Chandra Mitra
नई सुबह नव वर्ष की
नई सुबह नव वर्ष की
जगदीश लववंशी
मुझको मिट्टी
मुझको मिट्टी
Dr fauzia Naseem shad
Loading...