Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Dec 2022 · 1 min read

💐माधवेन सह प्रीति:💐

##बौनी##
##मणिकर्णिका##
##शांत न समझना##

यथा सर्वान् देवताः नमस्कार: करोति तु नमस्कार: भगवन्तं समया उपस्थित: भवति।सम्यक प्रकारेण सर्वै सह प्रेमस्य संवाद: अपि ईश्वरस्य समया प्राप्त: भवति।ईश्वर: सर्वस्य हृदये तिष्ठति।अतः सर्वेस्मिन् भगवन्तं पश्यन् सर्वं नमस्कार: करोतु।सर्वै: सह आदरस्य च प्रेमस्य च पालनं करोतु।

©®अभिषेक: पाराशर:

Language: Sanskrit
61 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
भूख दौलत की जिसे,  रब उससे
भूख दौलत की जिसे, रब उससे
Anis Shah
"जब शोहरत मिली तो"
Dr. Kishan tandon kranti
तेरे इश्क़ में
तेरे इश्क़ में
Gouri tiwari
#दोहा
#दोहा
*Author प्रणय प्रभात*
💐अज्ञात के प्रति-108💐
💐अज्ञात के प्रति-108💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
जबसे उनके हाथ पीले हो गये
जबसे उनके हाथ पीले हो गये
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
Ranjeet Kumar Shukla
Ranjeet Kumar Shukla
Ranjeet Kumar Shukla
जिये
जिये
विजय कुमार नामदेव
लतिका
लतिका
DR ARUN KUMAR SHASTRI
बेटी और प्रकृति
बेटी और प्रकृति
लक्ष्मी सिंह
भीड़ में खुद को खो नहीं सकते
भीड़ में खुद को खो नहीं सकते
Dr fauzia Naseem shad
ऑंसू छुपा के पर्स में, भरती हैं औरतें
ऑंसू छुपा के पर्स में, भरती हैं औरतें
Ravi Prakash
खूब उड़ रही तितलियां
खूब उड़ रही तितलियां
surenderpal vaidya
रूबरू मिलने का मौका मिलता नही रोज ,
रूबरू मिलने का मौका मिलता नही रोज ,
Anuj kumar
इस टूटे हुए दिल को जोड़ने की   कोशिश मत करना
इस टूटे हुए दिल को जोड़ने की कोशिश मत करना
Anand.sharma
ज़हर ही ज़हर है और जीना भी है,
ज़हर ही ज़हर है और जीना भी है,
Dr. Rajiv
माता रानी की भेंट
माता रानी की भेंट
umesh mehra
यूँही तुम पर नहीं हम मर मिटे हैं
यूँही तुम पर नहीं हम मर मिटे हैं
Simmy Hasan
यकीन
यकीन
Sidhartha Mishra
अंतिम इच्छा
अंतिम इच्छा
Shekhar Chandra Mitra
नवगीत
नवगीत
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
सजाया जायेगा तुझे
सजाया जायेगा तुझे
Vishal babu (vishu)
स्याह रात मैं उनके खयालों की रोशनी है
स्याह रात मैं उनके खयालों की रोशनी है
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
एहसासों से हो जिंदा
एहसासों से हो जिंदा
Buddha Prakash
अभी गहन है रात.......
अभी गहन है रात.......
Parvat Singh Rajput
मुझको कुर्सी तक पहुंचा दे
मुझको कुर्सी तक पहुंचा दे
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
Budhape ki lathi samjhi
Budhape ki lathi samjhi
Sakshi Tripathi
चुगलखोरी एक मानसिक संक्रामक रोग है।
चुगलखोरी एक मानसिक संक्रामक रोग है।
विमला महरिया मौज
हम केतबो ठुमकि -ठुमकि नाचि लिय
हम केतबो ठुमकि -ठुमकि नाचि लिय
DrLakshman Jha Parimal
दोहे- दास
दोहे- दास
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
Loading...