Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Mar 2023 · 1 min read

💐प्रेम कौतुक-503💐

ये भी कोई बात है यूँ छिपकर मुस्कुराना,
यूँ जारी रखें वो मेरे दिल में आना जाना,
कैसे कहें,आइश नहीं ज़िंदगी उनके बिना,
कभी मिलते,मिलते ग़र वो देते बहाना।

©®अभिषेक: पाराशरः “आनन्द”

Language: Hindi
45 Views
Join our official announcements group on Whatsapp & get all the major updates from Sahityapedia directly on Whatsapp.
You may also like:
कंचन कर दो काया मेरी , हे नटनागर हे गिरधारी
कंचन कर दो काया मेरी , हे नटनागर हे गिरधारी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
जल खारा सागर का
जल खारा सागर का
Dr Nisha nandini Bhartiya
इश्क़ का असर
इश्क़ का असर
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
"समझदार से नासमझी की
*Author प्रणय प्रभात*
बचपन की यादों को यारो मत भुलना
बचपन की यादों को यारो मत भुलना
Ram Krishan Rastogi
मोहन ने मीरा की रंग दी चुनरिया
मोहन ने मीरा की रंग दी चुनरिया
अनुराग दीक्षित
কিছু ভালবাসার গল্প অমর হয়ে রয়
কিছু ভালবাসার গল্প অমর হয়ে রয়
Sakhawat Jisan
हालत खराब है
हालत खराब है
Shekhar Chandra Mitra
Girvi rakh ke khud ke ashiyano ko
Girvi rakh ke khud ke ashiyano ko
Sakshi Tripathi
ਸਤਾਇਆ ਹੈ ਲੋਕਾਂ ਨੇ
ਸਤਾਇਆ ਹੈ ਲੋਕਾਂ ਨੇ
Surinder blackpen
सेंगोल और संसद
सेंगोल और संसद
Damini Narayan Singh
कुंडलिया छंद की विकास यात्रा
कुंडलिया छंद की विकास यात्रा
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
जगमगाती चाँदनी है इस शहर में
जगमगाती चाँदनी है इस शहर में
Dr Archana Gupta
फुटपाथ
फुटपाथ
Prakash Chandra
ख़्वाहिशों का कोई
ख़्वाहिशों का कोई
Dr fauzia Naseem shad
जनता की कमाई गाढी
जनता की कमाई गाढी
Bodhisatva kastooriya
दिल जानता है दिल की व्यथा क्या है
दिल जानता है दिल की व्यथा क्या है
कवि दीपक बवेजा
सह जाऊँ हर एक परिस्थिति मैं,
सह जाऊँ हर एक परिस्थिति मैं,
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
"नायक"
Dr. Kishan tandon kranti
ये साँसे जब तक मुसलसल चलती है
ये साँसे जब तक मुसलसल चलती है
'अशांत' शेखर
सेना का एक सिपाही हूँ
सेना का एक सिपाही हूँ
Satish Srijan
*ये उन दिनो की बात है*
*ये उन दिनो की बात है*
Shashi kala vyas
"ऊँची ऊँची परवाज़ - Flying High"
Sidhartha Mishra
✍️प्रेम की राह पर-71✍️
✍️प्रेम की राह पर-71✍️
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
Kalebs Banjo
Kalebs Banjo
shivanshi2011
बड़ा अखरता है मुझे कभी कभी
बड़ा अखरता है मुझे कभी कभी
ruby kumari
मक्खनबाजी में सदा , रहो बंधु निष्णात (कुंडलिया)
मक्खनबाजी में सदा , रहो बंधु निष्णात (कुंडलिया)
Ravi Prakash
छोड़ जाएंगे
छोड़ जाएंगे
रोहताश वर्मा मुसाफिर
बाल कविता- कौन क्या बोला?
बाल कविता- कौन क्या बोला?
आर.एस. 'प्रीतम'
अपना बिहार
अपना बिहार
AMRESH KUMAR VERMA
Loading...