Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 Feb 2023 · 1 min read

💐प्रेम कौतुक-257💐

क्या अंदाज़ा ग़लत था मेरा?हाँ ग़लत,
शबनम की चोट से पत्ते नहीं टूटते।।

©®अभिषेक: पाराशरः “आनन्द”

84 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
एक बेरोजगार शायर
एक बेरोजगार शायर
Shekhar Chandra Mitra
शीर्षक-मिलती है जिन्दगी में मुहब्बत कभी-कभी
शीर्षक-मिलती है जिन्दगी में मुहब्बत कभी-कभी
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
पराये सपने!
पराये सपने!
Saransh Singh 'Priyam'
जिंदगी में हजारों लोग आवाज
जिंदगी में हजारों लोग आवाज
Shubham Pandey (S P)
धागा भाव-स्वरूप, प्रीति शुभ रक्षाबंधन
धागा भाव-स्वरूप, प्रीति शुभ रक्षाबंधन
Pt. Brajesh Kumar Nayak
एक फौजी का अधूरा खत...
एक फौजी का अधूरा खत...
Dalveer Singh
अपना सपना :
अपना सपना :
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
जवाब दो
जवाब दो
shabina. Naaz
बारिश
बारिश
AMRESH KUMAR VERMA
हम पर्यावरण को भूल रहे हैं
हम पर्यावरण को भूल रहे हैं
VINOD KUMAR CHAUHAN
■ परिहास
■ परिहास
*Author प्रणय प्रभात*
अब हम रोबोट हो चुके हैं 😢
अब हम रोबोट हो चुके हैं 😢
Rohit yadav
कृतज्ञ बनें
कृतज्ञ बनें
Sanjay ' शून्य'
तू मुझे क्या समझेगा
तू मुझे क्या समझेगा
Arti Bhadauria
ज़िंदगी को चुना
ज़िंदगी को चुना
अंजनीत निज्जर
आखिर कब तक ?
आखिर कब तक ?
Dr fauzia Naseem shad
मेरा शिमला
मेरा शिमला
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
वरदान दो माँ
वरदान दो माँ
Saraswati Bajpai
💐प्रेम कौतुक-207💐
💐प्रेम कौतुक-207💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
✍️मेरा प्रिय भारत सबसे न्यारा✍️
✍️मेरा प्रिय भारत सबसे न्यारा✍️
'अशांत' शेखर
ओमप्रकाश वाल्मीकि : व्यक्तित्व एवं कृतित्व
ओमप्रकाश वाल्मीकि : व्यक्तित्व एवं कृतित्व
Dr. Narendra Valmiki
खामों खां
खामों खां
Taj Mohammad
जो चाहो यदि वह मिले,
जो चाहो यदि वह मिले,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
बादल
बादल
लक्ष्मी सिंह
Gazal
Gazal
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
बेटा बेटी है एक समान
बेटा बेटी है एक समान
Ram Krishan Rastogi
सम्मान में किसी के झुकना अपमान नही होता
सम्मान में किसी के झुकना अपमान नही होता
Kumar lalit
*शस्त्रधारी हैं (गीतिका)*
*शस्त्रधारी हैं (गीतिका)*
Ravi Prakash
ॐ
Prakash Chandra
कभी कभी खुद को खो देते हैं,
कभी कभी खुद को खो देते हैं,
Ashwini sharma
Loading...