Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

💐प्रेम की राह पर-28💐

18-ध्यान की प्रगाढ़ अवस्था वह है जब ध्यान का भी अनुभव न रहे।त्याग यदि आवेश से होगा तो यह वास्तविक रूप से कष्ट ही पहुँचाएगा।तुम्हारे विषैले तत्समय व्यवहार ने मुझे बहुत संताप दिया।उसे कैसे व्यक्त करूँ।हम कितने स्वार्थी हो गए हैं अपने लाभ के लिए।यह सब अनमोल समय है जिसे किसी के लिए मैंने व्यक्त नहीं किया कभी।पर तुम्हारे लिए समग्र दृष्टिकोण परिवर्तित किया और जो कुछ कहना था उसे अपने सुखद निःस्वार्थ भावना से लिख डाला।यह सब मेरे लिए कितना ही सुखद था।पर कैसे एक पल में तुमने उसे बदल दिया दुःख में।तुम्हारे विषयक सभी उद्देश्यों का खण्ड-खण्ड होना लाज़मी हैं और यह गँवारा है कि तुमने एक साथ यह निर्णय कैसे कर लिया यह कहकर कि तेरे ऊपर मेरा थूक भी नही न गिरेगा।।तुम्हारा थूक लेने को नहीं।प्रथम दृष्टया में यह सब मिलेगा कभी न सोचा था।कितनी आशाएँ घोंसला बनाएँ हुईं थीं।उनके घोंसलों को तुमने अपशब्द कृन्तकों से नष्ट कर डाला।भौतिकी के दृष्टिकोण से भी यह निर्णय नहीं कर पाया हूँ कि मुझे निकट दृष्टिदोष था या दूरदृष्टि दोष।मैं कैसे उपरत हो सकूँगा इससे।मेरे अन्दर चाटुकारिता और असभ्यता भी नहीं थी और मैं टुच्ची प्रेमी बनकर तुम्हारा पीछा करता।सहसा तुमने हे मित्र!कैसे उन सभी आधारों को समूल नष्ट कर दिया,जिनमें आगे के जीवन के सभी कार्यों की सूची उपस्थित थी।तुम इतने विद्रोही क्यों थे।क्या वैमनस्यता तुमने अपने अन्दर पाल रखी थी।क्या तुम भी जीवन भर एकाकी रहोगे।नहीं न।तुमने कभी मेरे प्रति अपनी प्रवणता के लिए कभी न कथन किया और क्या ही बता सकोगे।तुम जो अपने अहंकार में एकदम डूबे जो हो।तुम ऐसे ही ख्याल बनाते रहना।तुम कैसे रहनुमा हो।अपने दुःख ही तो कहे थे मैंने तुमसे और तुमने उन्हें कहाँ कहाँ कह डाला।क्या मैं मृत हूँ।यदि तुम ऐसा मानते हो तो तुम मुझे जीवन दे दो।क्रमिक विकास की हर एक कड़ी को तुमने ऐसे भंजित किया है कि उनको अब कैसे जोड़ा जाए।कैसा भी परामर्श कोई नहीं देता है।अब तो किसी से जुड़कर भी अकेले ही रहेगें और इस अकेलेपन के मूल में तुम रहोगे।

©अभिषेक : पाराशरः

57 Views
You may also like:
रामपुर का इतिहास (पुस्तक समीक्षा)
Ravi Prakash
लघुकथा: ऑनलाइन
Ravi Prakash
होली का संदेश
Anamika Singh
सारे ही चेहरे कातिल हैं।
Taj Mohammad
✍️कालचक्र✍️
"अशांत" शेखर
#क्या_पता_मैं_शून्य_न_हो_जाऊं
D.k Math
वक्त
AMRESH KUMAR VERMA
दुनिया की रीति
AMRESH KUMAR VERMA
उम्मीद की किरण हैंं बड़ी जादुगर....
Dr. Alpa H. Amin
यादों का मंजर
Mahesh Tiwari 'Ayen'
इंसानियत
AMRESH KUMAR VERMA
✍️जिंदगी का फ़लसफ़ा✍️
"अशांत" शेखर
नयी बहुरिया घर आयी*
Dr. Sunita Singh
दुर्योधन कब मिट पाया:भाग:37
AJAY AMITABH SUMAN
महँगाई
आकाश महेशपुरी
લંબાવને 'તું' તારો હાથ 'મારા' હાથમાં...
Dr. Alpa H. Amin
सूरज काका
Dr Archana Gupta
जहर कहां से आया
Dr. Rajeev Jain
विश्व विजेता कपिल देव
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
ये दिल फरेबी गंदा है।
Taj Mohammad
शर्म-ओ-हया
Dr. Alpa H. Amin
दिल टूट करके।
Taj Mohammad
कलम की वेदना (गीत)
सूरज राम आदित्य (Suraj Ram Aditya)
पिता का साथ जीत है।
Taj Mohammad
तुम्हें सुकूँ सा मिले।
Taj Mohammad
.✍️लौटा हि दूँगा...✍️
"अशांत" शेखर
तो क्या होगा?
Shekhar Chandra Mitra
हम लिखते क्यों हैं
पूनम झा 'प्रथमा'
In my Life.
Taj Mohammad
" एक हद के बाद"
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
Loading...