Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

💐प्रेम की राह पर-26💐

20-कल शहतूत वृक्ष के समीप उतिष्ठ होने पर उसके पके फल सन्देश दे रहे थे कि हमारा पकना भी इतना आसान नहीं है,हमने जाने क्या-क्या नहीं सहा है।अपनी यह संक्षिप्त यात्रा हमे बड़ा सन्तोष देती है।फलित होने में।यह था उनका विश्वास उष्ण और शैत्य को सहकर भी प्रमुदित होना।परं हे मित्र!मैंने तो तुम्हें कैसे भी प्रकोप से पीड़ित नहीं किया।फिर तुम्हारा इस तरह किस बात को लेकर रुष्ट हुआ गया।किसी अन्य की निन्दा-स्तुति करना बड़ा आसान है, कभी-कभी अपने दोष भी देख लेने चाहिए।कल्याण की भावना तो स्वतः प्रकट होती है।कर्म की गति इतनी गहन है कि किस कर्म का क्या परिणाम हो कुछ नहीं पता।किसी भी गुण का गुरूतर होना श्रेष्ठ हैं।परन्तु अति तो उसकी भी बुरी है।निश्चित ही वह अहंकार को जन्म देगा और अहंकार ठहरा सबसे बड़ा पतन का कारण।मृत्य लोक में बार-बार पटका जाएगा।कहीं तुममे तो किसी गुण की अधिकता तो नहीं समझ बैठो हो।फिर तो जन्म ले चुका है अहंकार जो तुम्हे डूबो देगा पतन के गहरे जल में वहाँ साँस देती रहेगी झूठी भावना।चलो ठीक है तुम्हें बताया अपने तरफ से तुम्हें अपना मानने के कारण।तुम अपना शत्रु ही समझते रहना मुझे।तुम्हें मेरी सरलता रास नहीं आई।मेरी निष्कपटता, आख़िर क्या दोष था इनमें।क्या?हे मित्र तुमने मेरे अन्तः और बाह्य रूप के नख-शिख दर्शन कर लिए थे।तुमने अपने समर्थन में,अपने पक्ष की कैसी भी बात साझा न कर सके।फिर निश्चित ही मैं कह सकता हूँ कि किसान बिलों को पास न कराने पर,सरकार की तपस्या में कमी की तरह,मेरे भी सुष्टु प्रेम तप में कमी रह गई थी।बड़ी आशा थी कि तुमसे तुम्हारी पुस्तक मंगाएंगे।पर तुमने सभी रास्ते ऐसे बन्द कर दिए जैसे मैं कोई जंगली हिंसक जानवर हूँ और तुम्हें कहीं खा न जाऊँ।अभी भी कोई छोटी जगह बाकी हो तो अपनी पुस्तक तो भेज ही देना।उसे ही तकिया समझ लेंगे।अब तो जीवन काटना है। दो होकर भी अकेला ही रहूँगा।वैसे वह पुस्तक संजाल पर उपलब्ध है फिर भी यदि तुम्हारे हाथों से मिल सके तो बेहतर हो।न कहने की दशा में तुम मूर्ख ही कहलाओगे।क्यों समझ लो।स्वतः ही।

©अभिषेक: पाराशरः

67 Views
You may also like:
तेरे हाथों में जिन्दगानियां
DESH RAJ
साल नूतन तुम्हें प्रेम-यश-मान दे
Pt. Brajesh Kumar Nayak
जीवन में ही सहे जाते हैं ।
Buddha Prakash
# जज्बे सलाम ...
Chinta netam " मन "
✍️मेरा साया छूकर गया✍️
"अशांत" शेखर
इन्तज़ार का दर्द
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
दर्द भरे गीत
Dr.sima
अधर मौन थे, मौन मुखर था...
डॉ.सीमा अग्रवाल
सीख
Pakhi Jain
" राजस्थान दिवस "
jaswant Lakhara
आंखों का वास्ता।
Taj Mohammad
1-साहित्यकार पं बृजेश कुमार नायक का परिचय
Pt. Brajesh Kumar Nayak
पिता आदर्श नायक हमारे
Buddha Prakash
तेरी याद में
DR ARUN KUMAR SHASTRI
तलाश
Dr. Rajeev Jain
महापंडित ठाकुर टीकाराम
श्रीहर्ष आचार्य
" समुद्री बादल "
Dr Meenu Poonia
✍️मौत का जश्न✍️
"अशांत" शेखर
साहित्यकारों से
Rakesh Pathak Kathara
मोहब्बत।
Taj Mohammad
💐💐💐न पूछो हाल मेरा तुम,मेरा दिल ही दुखाओगे💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
प्रार्थना(कविता)
श्रीहर्ष आचार्य
मांँ की लालटेन
श्री रमण
ग़ज़ल
Mahendra Narayan
हनुमान जी वंदना ।। अंजनी सुत प्रभु, आप तो विशिष्ट...
Kuldeep mishra (KD)
बेफिक्री का आलम होता है।
Taj Mohammad
गांधी : एक सोच
Mahesh Ojha
बहते हुए लहरों पे
Nitu Sah
पानी का दर्द
Anamika Singh
बहाना
Vikas Sharma'Shivaaya'
Loading...