Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Jan 2023 · 1 min read

💐गीता च रामायणं च ग्रन्थद्वयं बहु विलक्षणं💐

गीता च रामायणं च ग्रन्थद्वयं बहु विलक्षणं।रामायणं लेखनं समये तुलसीदासमहाभागेन सर्वप्रथम ‘अयोध्याकाण्डं’ अलिखत्।यतः सः स्वस्य कृते भरतं महाभागं आदर्श: मन्यते स्म।अयोध्याकाण्डस्य आरम्भे गुरु-वंदना।
‘गोस्वामीजी’इति बहु सावधानतया लिखति।सः ‘भरतजी’ ‘ब्रह्माजी’ च इत्यस्य कृते पंकजस्य उपमा न ददाति।कारणं कि ‘भरतजी’ इत्यस्य मनवत् भ्रमर: भगवान् रामस्य चरणकमलयोः पर्यन्तं गच्छति।स्व चरणकमलयो: पर्यन्तम् न।स्वचरणौ अधिकं समया।ब्रह्माजी’इति कमलेन उत्पन्नम् भवति।अतः तस्य चरणयोः अपि उपमा कमलेन न ददातु।

©®अभिषेक: पाराशरः ‘आनन्द’

Language: Sanskrit
51 Views
Join our official announcements group on Whatsapp & get all the major updates from Sahityapedia directly on Whatsapp.
You may also like:
😢हे माँ माताजी😢
😢हे माँ माताजी😢
*Author प्रणय प्रभात*
🌿⚘️ मेरी दिव्य प्रेम कविता ⚘️🌿
🌿⚘️ मेरी दिव्य प्रेम कविता ⚘️🌿
Ms.Ankit Halke jha
प्यार की स्टेजे (प्रक्रिया)
प्यार की स्टेजे (प्रक्रिया)
Ram Krishan Rastogi
चलते जाना
चलते जाना
Satish Srijan
तपन ऐसी रखो
तपन ऐसी रखो
Ranjana Verma
औकात
औकात
साहित्य गौरव
पीताम्बरी आभा
पीताम्बरी आभा
manisha
दुआ
दुआ
Shekhar Chandra Mitra
✍️प्रेम की राह पर-72✍️
✍️प्रेम की राह पर-72✍️
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
रंग हरा सावन का
रंग हरा सावन का
श्री रमण 'श्रीपद्'
वेलेंटाइन डे की प्रासंगिकता
वेलेंटाइन डे की प्रासंगिकता
मनोज कर्ण
दलाल ही दलाल (हास्य कविता)
दलाल ही दलाल (हास्य कविता)
Dr. Kishan Karigar
हमारा देश भारत
हमारा देश भारत
surenderpal vaidya
बवंडरों में उलझ कर डूबना है मुझे, तू समंदर उम्मीदों का हमारा ना बन।
बवंडरों में उलझ कर डूबना है मुझे, तू समंदर उम्मीदों का हमारा ना बन।
Manisha Manjari
एहसास
एहसास
Dr fauzia Naseem shad
ना गौर कर इन तकलीफो पर
ना गौर कर इन तकलीफो पर
Taran Verma
ये जो समुद्र है कि बड़े अकड़ में रहता है
ये जो समुद्र है कि बड़े अकड़ में रहता है
कवि दीपक बवेजा
एक अबोध बालक
एक अबोध बालक
DR ARUN KUMAR SHASTRI
जब तक हो तन में प्राण
जब तक हो तन में प्राण
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
मैथिल ब्राह्मण महासभामे मैथिली वहिष्कार, संस्कृत भाषाके सम्मान !
मैथिल ब्राह्मण महासभामे मैथिली वहिष्कार, संस्कृत भाषाके सम्मान !
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
दो ही हमसफर मिले जिन्दगी में..
दो ही हमसफर मिले जिन्दगी में..
Vishal babu (vishu)
'ठहरो'
'ठहरो'
Dr. Rajiv
शिशिर ऋतु-३
शिशिर ऋतु-३
Vishnu Prasad 'panchotiya'
कोशिस करो कि दोगले लोगों से
कोशिस करो कि दोगले लोगों से
Shankar J aanjna
यक्ष प्रश्न
यक्ष प्रश्न
Manu Vashistha
कल मालूम हुआ हमें हमारी उम्र का,
कल मालूम हुआ हमें हमारी उम्र का,
Shivam Sharma
माँ वाणी की वन्दना
माँ वाणी की वन्दना
Prakash Chandra
दमके क्षितिज पार,बन धूप पैबंद।
दमके क्षितिज पार,बन धूप पैबंद।
Neelam Sharma
*प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी का संबोधन : 2 फरवरी 2022*
*प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी का संबोधन : 2 फरवरी 2022*
Ravi Prakash
उसके सवालों का जवाब हम क्या देते
उसके सवालों का जवाब हम क्या देते
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
Loading...