Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Mar 2023 · 2 min read

💐कुड़ी तें लग री शाइनिंग💐

##मणिकर्णिका
##लिख दिया।
##चैलेंज स्वीकार नहीं किया जाएगा।
##और क्या लिखबाना है।बताओ।
##डिग्री की मिठाई।
##भेज नहीं तो होगी पिटाई😎😃😁

कुड़ी तें लग री शाइनिंग,
कुड़ी तें लग री शाइनिंग,
आजाओ बता दूँ तुम्हें पीछे का सीन क्या है?
पीछे चाचा खड़ा है उसके आगे मिस्टर बीन क्या है?
डाइस पर खड़ीं हैं ये लेडीज पाँच,
दो जेंट्स भीं हैं,ये रूपा चल तू नाच,
नीचे खड़े हैं दो कैमरामैन,
रूपा जी स्माइल प्लीज़,हमें पिला दो पेप्सी की कैन,
पीछे बोर्ड के कॉर्नर पर लिखा है आज़ादी का अमृत महोत्सव,
असमिया ड्रेस पहनकर रूपा मना रही है डिग्री का उत्सव,
मैं भी बना लेता हूँ अच्छी राइमिंग,
कुड़ी तें लग री शाइनिंग।।1।।
रूपा तो है ये गाँव की गोरी,
मेरे हर्ट में सेंध लगा दी चोरी चोरी,
यूनिवर्सिटी का था सिक्स्थ कनवोकेशन,
मुझे बताती तो लगाता छुट्टी की एप्लिकेसन,
ये अंकल पीछे वाला चाची हाथ को घूरता है,
आगे का कुछ सीन नहीं है क्या चूमता है,
लेफ्ट से तीसरा नम्बर लग रही है मुन्नी,
हाथ में डिग्री है,गले में है चुन्नी,
कौन हैं जो डिग्री दे रहें हैं रूपा को चाचा,
अग्निपथ में गंजी चांद वाला था कांचा,
रूपा डिग्री को लेकर करेगी बिटकॉइन की माइनिंग,
कुड़ी तें लग री शाइनिंग।।2।।
अब तो डिग्री की तोप मिल गई,
कौन से कोरियोग्राफी की हिपहॉप मिल गई,
रूपा अब पढ़ाएगी हिंदी की एबीसीडी,
मत पीना छिप छिप के टोरस की बीड़ी,
क्या बताऊँ मुझे टाइम नहीं मिलता,
गाड़ी पटरी से है उतरी काम नही चलता,
रूपा की नौकरी होती तो बात करता दोबारा,
अभिषेक तो निकला बहुत ही बेचारा,
शादी की तैयारी है चल रही है पेंडिंग,
कुड़ी तें लग री शाइनिंग।।3।।
गीत लिख लेता हूँ,मारा था मुझे सैंडल,
अभिषेक नू बुरा न लगदा,चाहे सिर पर जलाओ केंडल,
रात को खोल देना पानी की टौंटी,
बाहर दुकान पर जाकर पीना तू फ्रूटी,
चल बहुत हुआ रूपा अपनी किताब सेंड कर,
मेरे इंतज़ार का जल्दी से एंडकर,
मैंने सब बन्द कर दिया,जिम जाना और रनिंग,
अभिषेक है बहुत ही सीधा, नहीं है कनिंग,
सूट है या साड़ी है जिस पर हैं लाइनिंग,
कुड़ी तें लग री शाइनिंग।।4।।

©®अभिषेक: पाराशरः “आनन्द

46 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
■ जागो या फिर भागो...!!
■ जागो या फिर भागो...!!
*Author प्रणय प्रभात*
हाँ बहुत प्रेम करती हूँ तुम्हें
हाँ बहुत प्रेम करती हूँ तुम्हें
Saraswati Bajpai
💐अज्ञात के प्रति-100💐
💐अज्ञात के प्रति-100💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मंजिल के राही
मंजिल के राही
Rahul yadav
🌹*लंगर प्रसाद*🌹
🌹*लंगर प्रसाद*🌹
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
ख्वाहिशों के समंदर में।
ख्वाहिशों के समंदर में।
Taj Mohammad
उत्कर्षता
उत्कर्षता
अंजनीत निज्जर
घर की चाहत ने, मुझको बेघर यूँ किया, की अब आवारगी से नाता मेरा कुछ ख़ास है।
घर की चाहत ने, मुझको बेघर यूँ किया, की अब आवारगी से नाता मेरा कुछ ख़ास है।
Manisha Manjari
कभी आधा पौन कभी पुरनम, नित नव रूप निखरता है
कभी आधा पौन कभी पुरनम, नित नव रूप निखरता है
हरवंश हृदय
अज़ब सा हाल तेरे मजनू ने बना रक्खा है By Vinit Singh Shayar
अज़ब सा हाल तेरे मजनू ने बना रक्खा है By Vinit Singh Shayar
Vinit kumar
हिन्दी दोहे- सलाह
हिन्दी दोहे- सलाह
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
युवा अंगार
युवा अंगार
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
#आलिंगनदिवस
#आलिंगनदिवस
सत्य कुमार प्रेमी
मुस्कानों की परिभाषाएँ
मुस्कानों की परिभाषाएँ
Shyam Tiwari
Har roj tumhara wahi intajar karti hu
Har roj tumhara wahi intajar karti hu
Sakshi Tripathi
शिकायत लबों पर
शिकायत लबों पर
Dr fauzia Naseem shad
जिम्मेदारी और पिता (मार्मिक कविता)
जिम्मेदारी और पिता (मार्मिक कविता)
Dr. Kishan Karigar
राह हूं या राही हूं या मंजिल हूं राहों की
राह हूं या राही हूं या मंजिल हूं राहों की
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
सूरज मेरी उम्मीद का फिर से उभर गया........
सूरज मेरी उम्मीद का फिर से उभर गया........
shabina. Naaz
जीत कहां ऐसे मिलती है।
जीत कहां ऐसे मिलती है।
नेताम आर सी
पथिक तुम इतने विव्हल क्यों ?
पथिक तुम इतने विव्हल क्यों ?
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
पीक चित्रकार
पीक चित्रकार
शांतिलाल सोनी
उम्र निकलती है जिसके होने में
उम्र निकलती है जिसके होने में
Anil Mishra Prahari
रहे टनाटन गात
रहे टनाटन गात
Satish Srijan
फुदक फुदक कर ऐ गौरैया
फुदक फुदक कर ऐ गौरैया
Rita Singh
मिस्टर चंदा (बाल कविता)
मिस्टर चंदा (बाल कविता)
Ravi Prakash
बहुजन विमर्श
बहुजन विमर्श
Shekhar Chandra Mitra
विधवा
विधवा
Buddha Prakash
*भगवान के नाम पर*
*भगवान के नाम पर*
Dushyant Kumar
तुम कब आवोगे
तुम कब आवोगे
gurudeenverma198
Loading...