Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Mar 2023 · 1 min read

💐उनकी नज़र से दोस्ती कर ली💐

##मणिकर्णिका
##जिसकी क्षमता से लिखा गया उनके लिए समर्पित।
##पूज्य गुरूदेव के लिए समर्पित।
##बौनी **ना में न बन रही है।
##**ना भटक रहा है।बेचारा।
##कहाँ जाओगे बच्चू।
##बौनी क्या हाल चाल हैं।सब ठीक सै।
##नीबूं पानी मैं ही दूँगा।
##मार्च का महीना,फिर वही खिड़की,कूँद जा।🤣😂
##तेरे मन को शान्ति न मिलेगी।गुड्डू🤣😂😂
##परचून की दुकान खोल ले,गाँव चली जा।

उनकी नज़र से दोस्ती कर ली,
उनकी नज़र से दोस्ती कर ली,
खास हैं जो अपने में समाता देखा मैंने,
फिर इस दिल को उनसे उलझाया मैंने,
वो ऐसे समाए इजारा कर लिया,
हर राह को उनके बिना न गुजारा मैंने,
उनकी हर बात से दोस्ती कर ली,
उनकी नज़र से दोस्ती कर ली।।1।।
ख़ुद लबालब हैं मुझे भी लबालब चाहते हैं,
अपनी सदाक़त का असर वो देखना चाहते हैं,
उनके ईमान के आगे मेरा अक्स भी नहीं,
उनकी इनायत से जमाने को देखना चाहते हैं,
उनकी इनायत से दोस्ती कर ली,
उनकी नज़र से दोस्ती कर ली।।2।।
बहुत दूर नहीं हैं नज़दीक हैं मेरे,
मेरे हिज़्र के मालिक हैं रफ़ीक हैं मेरे,
अपने इशारों से तसल्ली देते हैं,
साँसों से निकलते हैं उनके तरन्नुम मेरे,
अपनी नज़र में रखके उनको हिफाज़त कर ली,
उनकी नज़र से दोस्ती कर ली।।3।।
गज़ब सलीक़ा है उनका मेरे दिल में आने जाने का,
बहाने करके उनके मुस्कुराने का,
आशिक़ी की बात करते हैं एतिबार के संग,
मुस्तक़िल बने रहना कोई तोहमत न लगाते हैं,
उनसे बे-लौस मुहब्बत कर ली,
उनकी नज़र से दोस्ती कर ली।।4।।
इजारा-एकाधिकार,
सदाकत-सच्चाई, सत्यता
बे-लौस-निः स्वार्थ

©®अभिषेक: पाराशरः “आनन्द”

Language: Hindi
Tag: गीत
85 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
हाथ पर हाथ रखा उसने
हाथ पर हाथ रखा उसने
Vishal babu (vishu)
प्रकृति
प्रकृति
Sûrëkhâ Rãthí
"कल्पनाओं का बादल"
Ajit Kumar "Karn"
सच बोलने की हिम्मत
सच बोलने की हिम्मत
Shekhar Chandra Mitra
मत ज़हर हबा में घोल रे
मत ज़हर हबा में घोल रे
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
बरसात (विरह)
बरसात (विरह)
लक्ष्मी सिंह
तकदीर
तकदीर
Anamika Singh
फ़क़ीरी में खुश है वो
फ़क़ीरी में खुश है वो
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
बीरबल जैसा तेज तर्रार चालाक और समझदार लोग आज भी होंगे इस दुन
बीरबल जैसा तेज तर्रार चालाक और समझदार लोग आज भी होंगे इस दुन
Dr. Man Mohan Krishna
अब कुछ बचा नहीं बिकने को बाजार में
अब कुछ बचा नहीं बिकने को बाजार में
Ashish shukla
ये  भी  क्या  कमाल  हो  गया
ये भी क्या कमाल हो गया
shabina. Naaz
दिए जो गम तूने, उन्हे अब भुलाना पड़ेगा
दिए जो गम तूने, उन्हे अब भुलाना पड़ेगा
Ram Krishan Rastogi
अखंड भारत
अखंड भारत
विजय कुमार अग्रवाल
*मृत्यु (सात दोहे)*
*मृत्यु (सात दोहे)*
Ravi Prakash
छुपा रखा है।
छुपा रखा है।
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
ऐ जाने वफ़ा मेरी हम तुझपे ही मरते हैं।
ऐ जाने वफ़ा मेरी हम तुझपे ही मरते हैं।
सत्य कुमार प्रेमी
व्यर्थ विवाद की
व्यर्थ विवाद की
*Author प्रणय प्रभात*
पवनपुत्र, हे ! अंजनि नंदन ....
पवनपुत्र, हे ! अंजनि नंदन ....
ईश्वर दयाल गोस्वामी
When the ways of this world are, but
When the ways of this world are, but
Dhriti Mishra
सम्मान की निर्वस्त्रता
सम्मान की निर्वस्त्रता
Manisha Manjari
Bieng a father,
Bieng a father,
Satish Srijan
🌴❄️हवाओं से ज़िक्र किया तेरा❄️🌴
🌴❄️हवाओं से ज़िक्र किया तेरा❄️🌴
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
एक पल में जीना सीख ले बंदे
एक पल में जीना सीख ले बंदे
Dr.sima
*
*"परिवर्तन नए पड़ाव की ओर"*
Shashi kala vyas
डगर-डगर नफ़रत
डगर-डगर नफ़रत
Dr. Sunita Singh
सारी गलतियां ख़ुद करके सीखोगे तो जिंदगी कम पड़ जाएगी, सफलता
सारी गलतियां ख़ुद करके सीखोगे तो जिंदगी कम पड़ जाएगी, सफलता
dks.lhp
भाई बहन का रिश्ता बचपन और शादी के बाद का
भाई बहन का रिश्ता बचपन और शादी के बाद का
Rajni kapoor
मुक्त्तक
मुक्त्तक
Rajesh vyas
ज़िंदगी देख मेरे हाथों में कुछ नहीं आया
ज़िंदगी देख मेरे हाथों में कुछ नहीं आया
Dr fauzia Naseem shad
उपहार
उपहार
Dr. Pradeep Kumar Sharma
Loading...