Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Feb 2023 · 1 min read

💐अज्ञात के प्रति-150💐

दिल की दुकान पर इश्क़ का सौदा करिए,
उलफ़त की तराज़ू वफ़ा के वज़न के साथ।।

शुभ रात्रि Bonie😉

©®अभिषेक: पाराशरः ‘आनन्द

Language: Hindi
62 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
ख़ुशी मिले कि मिले ग़म मुझे मलाल नहीं
ख़ुशी मिले कि मिले ग़म मुझे मलाल नहीं
Anis Shah
*......सबको लड़ना पड़ता है.......*
*......सबको लड़ना पड़ता है.......*
Naushaba Suriya
■ विनम्र आग्रह...
■ विनम्र आग्रह...
*Author प्रणय प्रभात*
आप और हम जीवन के सच
आप और हम जीवन के सच
Neeraj Agarwal
“ लूकिंग टू लंदन एण्ड टाकिंग टू टोकियो “
“ लूकिंग टू लंदन एण्ड टाकिंग टू टोकियो “
DrLakshman Jha Parimal
✍️कोई नहीं ✍️
✍️कोई नहीं ✍️
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
कैसे प्रेम इज़हार करूं
कैसे प्रेम इज़हार करूं
Er.Navaneet R Shandily
ऐ जिन्दगी
ऐ जिन्दगी
Anamika Singh
जीतना अच्छा है,पर अपनों से हारने में ही मज़ा है।
जीतना अच्छा है,पर अपनों से हारने में ही मज़ा है।
अनिल कुमार निश्छल
"हरी सब्जी या सुखी सब्जी"
Dr Meenu Poonia
शृंगार
शृंगार
Kamal Deependra Singh
सरकारी निजीकरण।
सरकारी निजीकरण।
Taj Mohammad
कभी आंख मारना कभी फ्लाइंग किस ,
कभी आंख मारना कभी फ्लाइंग किस ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
आज फिर गणतंत्र दिवस का
आज फिर गणतंत्र दिवस का
gurudeenverma198
पिछली भूली बिसरी बातों की बहुत अधिक चर्चा करने का सीधा अर्थ
पिछली भूली बिसरी बातों की बहुत अधिक चर्चा करने का सीधा अर्थ
Paras Nath Jha
हिन्दू साम्राज्य दिवस
हिन्दू साम्राज्य दिवस
jaswant Lakhara
इक नयी दुनिया दारी तय कर दे
इक नयी दुनिया दारी तय कर दे
सिद्धार्थ गोरखपुरी
शिकायत खुद से है अब तो......
शिकायत खुद से है अब तो......
डॉ. अनिल 'अज्ञात'
दिल धड़क उठा
दिल धड़क उठा
Surinder blackpen
आखिर कब तक ?
आखिर कब तक ?
Dr fauzia Naseem shad
Book of the day: महादेवी के गद्य साहित्य का अध्ययन
Book of the day: महादेवी के गद्य साहित्य का अध्ययन
Sahityapedia
झुकाव कर के देखो ।
झुकाव कर के देखो ।
Buddha Prakash
जै जै अम्बे
जै जै अम्बे
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
जाति प्रथा का अंत
जाति प्रथा का अंत
Shekhar Chandra Mitra
चूँ-चूँ चूँ-चूँ आयी चिड़िया
चूँ-चूँ चूँ-चूँ आयी चिड़िया
Pt. Brajesh Kumar Nayak
संघर्ष
संघर्ष
पंकज कुमार कर्ण
हर घर तिरंगा
हर घर तिरंगा
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
गज़ल
गज़ल
Sunita Gupta
*सैनिक 【कुंडलिया】*
*सैनिक 【कुंडलिया】*
Ravi Prakash
ठोकरों ने गिराया ऐसा, कि चलना सीखा दिया।
ठोकरों ने गिराया ऐसा, कि चलना सीखा दिया।
Manisha Manjari
Loading...