Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Jan 2023 · 1 min read

👸कोई हंस रहा, तो कोई रो रहा है💏

कोई हंस रहा है, कोई रो रहा है
ए मेरे खुदा तू, कहां सो रहा है
कोई हंस………..
1) ये कैसी अनोखी है, जीवन की रेखा
कोई रोता तो, कोई मगरूर देखा
तेरा न्याय पल्डा़, कहां झुक रहा है
कोई हंस…………..
2) किसी घर का दामन, खुशी से भरा है
कोई घर क्यों मातम के, भय से डरा है
बता लिखने वाले तू, क्या लिख रहा है
कोई हंस …………
3) कोई शानो शौकत से, ना वाज आये
गरीबी किसी को जी, भर के रुलाये
ओ सुन देने वाले, तू ये क्या दे रहा है
कोई हंस………….
4) तेरे भव की नैया में, बैठे हैं हम सब
तू इतना बता एक, होवेंगे हम कब
तेरी आस में सब, स्वाहा हो रहा है
कोई हंस…………
लेखक:- खैमसिहं सैनी
गाँव – गोविंदपुरा, पो. मुहारी,
तहसील – वैर, भरतपुर
M.A, M.Ed, B.Ed
Mob.No. 9266034599

Language: Hindi
2 Likes · 258 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.

Books from Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)

You may also like:
तरक़्क़ी देखकर फुले नहीं समा रहे थे ….
तरक़्क़ी देखकर फुले नहीं समा रहे थे ….
Piyush Goel
जल धारा में चलते चलते,
जल धारा में चलते चलते,
Satish Srijan
मित्रता का बीज
मित्रता का बीज
लक्ष्मी सिंह
हाँ, कल तक तू मेरा सपना थी
हाँ, कल तक तू मेरा सपना थी
gurudeenverma198
रात्रि पहर की छुटपुट चोरी होते सुखद सबेरे थे।
रात्रि पहर की छुटपुट चोरी होते सुखद सबेरे थे।
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
Loneliness in holi
Loneliness in holi
Ankita Patel
लाठी बे-आवाज (कुंडलिया)
लाठी बे-आवाज (कुंडलिया)
Ravi Prakash
दूरदर्शिता~
दूरदर्शिता~
दिनेश एल० "जैहिंद"
बादलों के घर
बादलों के घर
Ranjana Verma
हम आए हैं बुद्ध के देश से
हम आए हैं बुद्ध के देश से
Shekhar Chandra Mitra
चाहता है जो
चाहता है जो
सुशील मिश्रा (क्षितिज राज)
ਸਾਡੀ ਪ੍ਰੇਮ ਕਹਾਣੀ
ਸਾਡੀ ਪ੍ਰੇਮ ਕਹਾਣੀ
Surinder blackpen
बढ़ने वाला बढ़ रहा, तू यूं ही सोता रह...
बढ़ने वाला बढ़ रहा, तू यूं ही सोता रह...
AMRESH KUMAR VERMA
तेरी गली से निकलते हैं तेरा क्या लेते है
तेरी गली से निकलते हैं तेरा क्या लेते है
Ram Krishan Rastogi
कोई साया
कोई साया
Dr fauzia Naseem shad
छोटे गाँव का लड़का था मै और वो बड़े शहर वाली
छोटे गाँव का लड़का था मै और वो बड़े शहर वाली
D.k Math { ਧਨੇਸ਼ }
बेवफा मैं कहूँ कैसे उसको बता,
बेवफा मैं कहूँ कैसे उसको बता,
Arvind trivedi
Bato ki garma garmi me
Bato ki garma garmi me
Sakshi Tripathi
हिम्मत है तो मेरे साथ चलो!
हिम्मत है तो मेरे साथ चलो!
विमला महरिया मौज
जोशीला
जोशीला
RAKESH RAKESH
#लघुकथा / कॉलेज का आख़िरी दिन
#लघुकथा / कॉलेज का आख़िरी दिन
*Author प्रणय प्रभात*
बहुत बातूनी है तू।
बहुत बातूनी है तू।
Buddha Prakash
अपना...❤❤❤
अपना...❤❤❤
Vishal babu (vishu)
हवा की डाली
हवा की डाली
Dr. Rajiv
2268.
2268.
Dr.Khedu Bharti
💐प्रेम कौतुक-558💐
💐प्रेम कौतुक-558💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
जो बिकता है!
जो बिकता है!
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
हद
हद
अभिषेक पाण्डेय ‘अभि ’
एक दिन यह समय भी बदलेगा
एक दिन यह समय भी बदलेगा
कवि दीपक बवेजा
तेरी यादें
तेरी यादें
Neeraj Agarwal
Loading...