Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 May 2023 · 1 min read

👌ग़ज़ल :–

👌ग़ज़ल :–
■ फिर सुबह क्या, शाम क्या…?
【प्रणय प्रभात】

★ चाहतों की राह में आग़ाज़ क्या अंजाम क्या?
हो जहां खोना ही खोना चैन क्या आराम क्या?

★ प्यार में मक़सद की बातें, ये तिज़ारत तो नहीं।
ज़िन्दगी के इस जुए में बुज़दिली का काम क्या?

★ दो घड़ी यारी निभाई ज़िन्दगी तुझ को सलाम।
मौत से बेहतर तुझे दूं इस वफ़ा का दाम क्या?

★ ग़फ़लतों में दिन गुज़रते रात की तो बात क्या?
बेबसी हो, बेक़ली हो फिर सुबह क्या शाम क्या?

★ अब कहां की फ़िक़्र, किसका ज़िक्र या परवाह है?
इस फ़क़ीरी ज़िन्दगी में नाम क्या, बदनाम क्या?

★ रिन्द को मतलब नशे से उम्र भर तारी रहे।
हाथ साकी के सुराही हो अगर तो जाम क्या?

★ चारदीवारी जिसे भाने लगे उसके लिए।
क्या झरोखा क्या मुंडेरी क्या सहन है बाम क्या?

●संपादक/न्यूज़&व्यूज़●
श्योपुर (मध्यप्रदेश)

Language: Hindi
1 Like · 34 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
2- साँप जो आस्तीं में पलते हैं
2- साँप जो आस्तीं में पलते हैं
Ajay Kumar Vimal
दलाल ही दलाल (हास्य कविता)
दलाल ही दलाल (हास्य कविता)
Dr. Kishan Karigar
हम भाई भाई थे
हम भाई भाई थे
Anamika Singh
कलयुग की माया
कलयुग की माया
डी. के. निवातिया
जिस दिन तुम हो गए विमुख जन जन से
जिस दिन तुम हो गए विमुख जन जन से
Prabhu Nath Chaturvedi
*जब से मुझे पता चला है कि*
*जब से मुझे पता चला है कि*
Manoj Kushwaha PS
# जज्बे सलाम ...
# जज्बे सलाम ...
Chinta netam " मन "
'बेवजह'
'बेवजह'
Godambari Negi
हृदय में धड़कन सा बस जाये मित्र वही है
हृदय में धड़कन सा बस जाये मित्र वही है
Er. Sanjay Shrivastava
तुम्हारा एक दिन..…........एक सोच
तुम्हारा एक दिन..…........एक सोच
Neeraj Agarwal
✍️व्हाट्सअप यूनिवर्सिटी✍️
✍️व्हाट्सअप यूनिवर्सिटी✍️
'अशांत' शेखर
बंद मुट्ठी बंदही रहने दो
बंद मुट्ठी बंदही रहने दो
Abasaheb Sarjerao Mhaske
प्यार है तो सब है
प्यार है तो सब है
Shekhar Chandra Mitra
वक़्त  की गर्द में गुम हो के ।
वक़्त की गर्द में गुम हो के ।
Dr fauzia Naseem shad
गमों के समंदर में।
गमों के समंदर में।
Taj Mohammad
*मंदिर पंडित दत्त राम (कुंडलिया)*
*मंदिर पंडित दत्त राम (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
2458.पूर्णिका
2458.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
हे आशुतोष !
हे आशुतोष !
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
अपना...❤❤❤
अपना...❤❤❤
Vishal babu (vishu)
प्रयत्न लाघव और हिंदी भाषा
प्रयत्न लाघव और हिंदी भाषा
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
ਲਿਖ ਲਿਖ ਕੇ ਮੇਰਾ ਨਾਮ
ਲਿਖ ਲਿਖ ਕੇ ਮੇਰਾ ਨਾਮ
Surinder blackpen
गुरु
गुरु
Kavita Chouhan
हमने यूं ही नहीं मुड़ने का फैसला किया था
हमने यूं ही नहीं मुड़ने का फैसला किया था
कवि दीपक बवेजा
बिन हमारे तुम एक दिन
बिन हमारे तुम एक दिन
gurudeenverma198
पुस्तकें
पुस्तकें
नन्दलाल सुथार "राही"
" हालात ए इश्क़ " ( चंद अश'आर )
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
डर डर के उड़ रहे पंछी
डर डर के उड़ रहे पंछी
डॉ. शिव लहरी
'आभार' हिन्दी ग़ज़ल
'आभार' हिन्दी ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
हरतालिका तीज की काव्य मय कहानी
हरतालिका तीज की काव्य मय कहानी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
■सामान संहिता■
■सामान संहिता■
*Author प्रणय प्रभात*
Loading...