Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Apr 2023 · 1 min read

🍂तेरी याद आए🍂

🍂तेरी याद आए🍂

हरे बृक्ष हैं हरी दूब हैं
हरित घास ने ली अंगड़ाई हैं
टीस उठी एक मन के कोने में
हर पल याद तुम्हारी आयी।
नयनो में हरियाली छाई
शूल सी चुभे तेरी जुदाई
पीड़ पुरानी हरी हो आईं
हरियाली देख तेरी याद आई।
उपवन देख हरा भरा चमके
हरियाले पेड़ मादक हुए चमके
पत्ता पत्ता महके चमके
हरियाली देख मेरा मन बहके।
पेड़ो पर कोयल भी गाये
पपीहा देखो टेट लगाए
बारिश भी देखो झड़ी लगाए
रह रह याद तुम्हारी आए।

1 Like · 75 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr Manju Saini
View all
You may also like:
प्रेम कविता
प्रेम कविता
Rashmi Sanjay
तांका
तांका
Ajay Chakwate *अजेय*
Kitna hasin ittefak tha ,
Kitna hasin ittefak tha ,
Sakshi Tripathi
"भव्यता"
*Author प्रणय प्रभात*
उनको मत समझाइए
उनको मत समझाइए
राहुल द्विवेदी 'स्मित'
*जिंदगी तब तक सही है, देह में उत्साह है (मुक्तक)*
*जिंदगी तब तक सही है, देह में उत्साह है (मुक्तक)*
Ravi Prakash
गर तू होता क़िताब।
गर तू होता क़िताब।
Taj Mohammad
I know that I am intelligent because I know that I know nothing...
I know that I am intelligent because I know that I know nothing...
Dr. Rajiv
तस्वीर देख कर सिहर उठा था मन, सत्य मरता रहा और झूठ मारता रहा…
तस्वीर देख कर सिहर उठा था मन, सत्य मरता रहा और झूठ मारता रहा…
Anand Kumar
मौका जिस को भी मिले वही दिखाए रंग ।
मौका जिस को भी मिले वही दिखाए रंग ।
Mahendra Narayan
हिन्दुत्व_एक सिंहावलोकन
हिन्दुत्व_एक सिंहावलोकन
मनोज कर्ण
सब गुण संपन्य छी मुदा बहिर बनि अपने तालें नचैत छी  !
सब गुण संपन्य छी मुदा बहिर बनि अपने तालें नचैत छी !
DrLakshman Jha Parimal
आत्म बोध
आत्म बोध
DR ARUN KUMAR SHASTRI
बचपन की यादें
बचपन की यादें
AMRESH KUMAR VERMA
आई सावन की बहार,खुल कर मिला करो
आई सावन की बहार,खुल कर मिला करो
Ram Krishan Rastogi
फ़ितरत को जब से
फ़ितरत को जब से
Dr fauzia Naseem shad
जय जय तिरंगा
जय जय तिरंगा
gurudeenverma198
बदल गए तुम
बदल गए तुम
Kumar Anu Ojha
परेशानियों का सामना
परेशानियों का सामना
Paras Nath Jha
कुंठाओं के दलदल में,
कुंठाओं के दलदल में,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
माटी जन्मभूमि की दौलत ......
माटी जन्मभूमि की दौलत ......
लक्ष्मण 'बिजनौरी'
यह सूखे होंठ समंदर की मेहरबानी है
यह सूखे होंठ समंदर की मेहरबानी है
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
"वो बचपन के गाँव"
Dr. Kishan tandon kranti
*कुछ कहा न जाए*
*कुछ कहा न जाए*
Shashi kala vyas
क्या करें
क्या करें
Surinder blackpen
’जूठन’ आत्मकथा फेम के हिंदी साहित्य के सबसे बड़े दलित लेखक ओमप्रकाश वाल्मीकि / MUSAFIR BAITHA
’जूठन’ आत्मकथा फेम के हिंदी साहित्य के सबसे बड़े दलित लेखक ओमप्रकाश वाल्मीकि / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
हर बला से दूर रखता,
हर बला से दूर रखता,
Satish Srijan
सच्चा प्यार
सच्चा प्यार
Anamika Singh
खुलकर बोलो
खुलकर बोलो
Shekhar Chandra Mitra
प्यार क्या है
प्यार क्या है
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
Loading...