Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

🌻🌻🌸”इतना क्यों बहका रहे हो,अपने अन्दाज पर”🌻🌻🌸

इतना क्यों बहका रहे हो,अपने अन्दाज पर,
हर दी गई अपनी सुन्दर सी पहचान पर।।1।।
किस्मत के फूल क्या हैं, तुम ही बताओगे,
नज़र न मिल सकेंगीं ,क्यों तुम ही जताओगे,
हर मोड़ पर आई तेरी हर याद पर,
इतना क्यों बहका रहे हो,अपने अन्दाज पर
हर दी गई अपनी सुन्दर सी पहचान पर।।2।।
तुम्हारे लिए एक हँसी नज़्म बन जाऊँगा,
तुम गा सकोगे ऐसे गीत बन जाऊँगा,
मैं माहिर तो नहीं जो समझूँ तेरे रुआब,
मरता हूँ मैं तेरे नाज़ुक मिज़ाज पर,
इतना क्यों बहका रहे हो,अपने अन्दाज पर
हर दी गई अपनी सुन्दर सी पहचान पर।।3।।
तेरी संग चलूँगा तो शोर तो होगा,
तुझमें फना रहूँ,मेरा नसीब यही होगा,
बहती हुई नदी के जल की तरह,
पैबस्त हो जाऊँ आखिर में,
तेरे इस बहर-ए-ज़माल पर,
इतना क्यों बहका रहे हो,अपने अन्दाज पर,
हर दी गई अपनी सुन्दर सी पहचान पर।।4।।

©अभिषेक: पाराशरः
बहर ए ज़माल-सुन्दरता का समुद्र

63 Views
You may also like:
डर काहे का..!
"अशांत" शेखर
पिता के होते कितने ही रूप।
Taj Mohammad
✍️✍️व्यवस्था✍️✍️
"अशांत" शेखर
बारिश
AMRESH KUMAR VERMA
जूते जूती की महिमा (हास्य व्यंग)
Ram Krishan Rastogi
प्रलयंकारी कोरोना
Shriyansh Gupta
चंद सांसे अभी बाकी है
Arjun Chauhan
कुंडलिया छंद
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
भाग्य का फेर
ओनिका सेतिया 'अनु '
उसका नाम लिखकर।
Taj Mohammad
सारे निशां मिटा देते हैं।
Taj Mohammad
बात चले
सिद्धार्थ गोरखपुरी
“ हमर महिसक जन्म दिन पर आशीर्वाद दियोनि ”
DrLakshman Jha Parimal
कला के बिना जीवन सुना ..
ओनिका सेतिया 'अनु '
"ईद"
Lohit Tamta
तुम्हारे शहर में कुछ दिन ठहर के देखूंगा।
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
🍀🌺प्रेम की राह पर-43🌺🍀
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
जुद़ा किनारे हो गये
शेख़ जाफ़र खान
माँ
संजीव शुक्ल 'सचिन'
यह चिड़ियाँ अब क्या करेगी
Anamika Singh
छोटी-छोटी चींटियांँ
Buddha Prakash
✍️पैरो तले ज़मी✍️
"अशांत" शेखर
"अंतिम-सत्य..!"
Prabhudayal Raniwal
அழியக்கூடிய மற்றும் அழியாத
Shyam Sundar Subramanian
ग्रीष्म ऋतु भाग 1
Vishnu Prasad 'panchotiya'
He is " Lord " of every things
Ram Ishwar Bharati
मैं हूँ किसान।
Anamika Singh
तुम थे पास फकत कुछ वक्त के लिए।
Taj Mohammad
"Happy National Brother's Day"
Lohit Tamta
अपनी भाषा
मनमोहन लाल गुप्ता अंजुम
Loading...