Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Dec 2022 · 2 min read

🌺🌺यह जो वक़्त है यह भी न रहेगा🌺🌺

##मणिकर्णिका##
## चार लाइन की पोस्ट लिखकर चिढ़ाती है##
##आत्ममुग्ध होना क्या है, कल लिखेंगे##
##तुझे तो ज़मीन में घूसूंगा##
##परमात्मा को चैलेंज मत कर, पाखण्डी##
##दण्ड का अभिप्राय दे रही है##
##लोन की ईमेल भेजती है##
##तू लेके दे दे,तुझे तो दण्ड मिलेगा##
##जाल को समझती थी, तब गूँगी थी##
##ज़्यादा कमजोरी मत समझा##
##मोटिवेशनल भी मत बन##
##सदाशय हूँ##

यह जो वक़्त है यह भी न रहेगा,
यह जो वक़्त है यह भी न रहेगा,
उम्मीद के साए में दीपक जलाना है,
अभी ख़ुद को भी आजमाना है,
क़ायम रखेंगे अपनी ख़्यालों की ज़मी पर,
उनके ज़माल का बचा अफ़साना है,
तुम्हारा एतबार था,वह भी न रहेगा,
यह जो वक़्त है यह भी न रहेगा।।1।।
एक सुख भरी आहट ही कभी वो देते,
झूठे वादों की नवाज़िश ही दे देते,
तसल्ली रखी है अभी भी उनकी ज़ानिब में,
अपनी बातों की सदाएँ ही दे देते,
वो चले गये,अब उनका काफ़िया भी न रहेगा,
यह जो वक़्त है यह भी न रहेगा।।2।।
रंजिश न थीं,नेक ख़्यालों का हुजूम था,
मुलाकात के बहाने और सवालों का हुजूम था,
शायद न हो मेरे वास्ते उनके दिल में सुकून,
वास्ते उनके, मेरे दिल में करारों का हुजूम था,
वफ़ा वो ले गए, अब अहल भी न रहेगा,
यह जो वक़्त है यह भी न रहेगा।।3।।
न कहा सिकाहत में उनसे बड़े हैं,
नज़रें झुकाएं तब भी खड़े,अब भी खडें हैं,
कम से कम परवाज़ ही देते,
तब भी अकेले लड़े थे, अब भी लड़े हैं,
सबक तो है,पर कोई सबब न रहेगा,
यह जो वक़्त है यह भी न रहेगा।।4।।

नवाज़िश-संरक्षणता,दयालुता
सिकाहत-सर्वोच्चता
परवाज़-उड़ने की शक्ति

©®अभिषेक:पाराशर: ‘आनन्द’

Language: Hindi
Tag: गीत
1 Like · 53 Views
Join our official announcements group on Whatsapp & get all the major updates from Sahityapedia directly on Whatsapp.
You may also like:
ऐ,चाँद चमकना छोड़ भी,तेरी चाँदनी मुझे बहुत सताती है,
ऐ,चाँद चमकना छोड़ भी,तेरी चाँदनी मुझे बहुत सताती है,
Vishal babu (vishu)
मां जब मैं तेरे गर्भ में था, तू मुझसे कितनी बातें करती थी...
मां जब मैं तेरे गर्भ में था, तू मुझसे कितनी बातें करती थी...
Anand Kumar
Ek jindagi ke sapne hajar,
Ek jindagi ke sapne hajar,
Sakshi Tripathi
मर्यादा पुरुषोत्तम श्री राम
मर्यादा पुरुषोत्तम श्री राम
Er.Navaneet R Shandily
वार्तालाप अगर चांदी है
वार्तालाप अगर चांदी है
Pankaj Sen
तुम ख्वाब हो।
तुम ख्वाब हो।
Taj Mohammad
क्या है खूबी हमारी बता दो जरा,
क्या है खूबी हमारी बता दो जरा,
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
2323.पूर्णिका
2323.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
■ अद्भुत, अद्वितीय, अकल्पनीय
■ अद्भुत, अद्वितीय, अकल्पनीय
*Author प्रणय प्रभात*
यूं जो उसको तकते हो।
यूं जो उसको तकते हो।
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
कोरोना काल
कोरोना काल
Sandeep Pande
" आज भी है "
Aarti sirsat
*दर्प  (कुंडलिया)*
*दर्प (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
💐अज्ञात के प्रति-53💐
💐अज्ञात के प्रति-53💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
तुम्हें नमन है अमर शहीदों
तुम्हें नमन है अमर शहीदों
लालबहादुर चौरसिया 'लाल'
प्रेम में डूब जाने वाले,
प्रेम में डूब जाने वाले,
Buddha Prakash
प्यार की दिव्यता
प्यार की दिव्यता
Seema gupta,Alwar
सॉप और इंसान
सॉप और इंसान
Prakash Chandra
"मैं" का मैदान बहुत विस्तृत होता है , जिसमें अहम की ऊँची चार
Seema Verma
ऊँचे जिनके कर्म हैं, ऊँची जिनकी साख।
ऊँचे जिनके कर्म हैं, ऊँची जिनकी साख।
डॉ.सीमा अग्रवाल
Ek abodh balak
Ek abodh balak
DR ARUN KUMAR SHASTRI
पढ़ना सीखो, बेटी
पढ़ना सीखो, बेटी
Shekhar Chandra Mitra
मातृ दिवस
मातृ दिवस
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
आसान नहीं होता
आसान नहीं होता
Rohit Kaushik
जीने की ख़्वाहिशों में
जीने की ख़्वाहिशों में
Dr fauzia Naseem shad
कहने को आज है एक मई,
कहने को आज है एक मई,
Satish Srijan
"आशा" के दोहे '
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
महाकविः तुलसीदासः अवदत्, यशः, काव्यं, धनं च जीवने एव सार्थकं
महाकविः तुलसीदासः अवदत्, यशः, काव्यं, धनं च जीवने एव सार्थकं
AmanTv Editor In Chief
*आस्था*
*आस्था*
Dushyant Kumar
"माँ"
इंदु वर्मा
Loading...