Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 Apr 2023 · 1 min read

🌺🌺इन फाँसलों को अन्जाम दो🌺🌺

#मणिकर्णिका
#दोनों अलग अलग।
#कब तक छिपेगा।
#सब बाहर आ गया है।
#कितना दुःखद है किसी अपने प्यारे को कष्ट मिलना।
#कितना कष्ट है,कभी पूछो।
#बात करने की हिम्मत नहीं है।
#अब तो और शिष्टाचार मर गया।
#यह गाना रूपा के लिए समर्पित।
#ऑन डिमांड गाना लिखबाना कभी।

इन फाँसलों को अन्जाम दो,
इन फाँसलो को अन्जाम दो,
थक गए हैं नयन देखे बिना,
मैं अधूरा हूँ उनके बिना वो मेरे बिना,
सुना है वो हमारा जिक्र करते हैं,
दूरियाँ गहरी हुईं उनके बिना,
छोड़ो अब ग़मो का ज़बाल दो,
इन फाँसलों को अन्जाम दो।।1।।
तहज़ीब देखी हर उनके इरादों में,
सावन सी हरियाली है उनके वादों में,
मजबूरियाँ ग़र है कुछ तो वह भी बताएँ,
कोई एक आशिक़ निकलता है हज़ारों में,
ए दिल आओ मेरे सवालों का ज़बाब दो,
इन फाँसलों को अन्जाम दो।।2।।
ग़नीमत रही वो भी अकेले हम भी अकेले,
ठहर जाते हम ग़र वो कसम दे देते,
दूर रहकर भी क्या-क्या नहीं झेले,
तसल्ली देकर कोई इनाम देते,
कितना याद किया चलो हिसाब दो,
इन फाँसलों को अन्जाम दो।।3।।
एक बार ही मिले कोई रहम न दिखाया,
आहिस्ता उनका हर निसान मेरे दिल में समाया,
मेरा हाथ उन्होंने पकड़कर ऐसे छोड़ा,
बहुत याद आकर भी जैसे भुलाया,
छोड़ो सनम कोई सुनहरी पैगाम दो,
इन फाँसलों को अन्जाम दो।

©®अभिषेक: पाराशरः “आनन्द”
ज़बाल-नष्ट होना, पतन होना

Language: Hindi
Tag: गीत
1 Like · 193 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Follow our official WhatsApp Channel to get all the exciting updates about our writing competitions, latest published books, author interviews and much more, directly on your phone.
You may also like:
Writing Challenge- रेलगाड़ी (Train)
Writing Challenge- रेलगाड़ी (Train)
Sahityapedia
मैंने तो ख़ामोश रहने
मैंने तो ख़ामोश रहने
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
तू है ना'।।
तू है ना'।।
Seema 'Tu hai na'
ज़िंदगी पर लिखी शायरी
ज़िंदगी पर लिखी शायरी
Dr fauzia Naseem shad
गम होते हैं।
गम होते हैं।
Taj Mohammad
नया एक रिश्ता पैदा क्यों करें हम
नया एक रिश्ता पैदा क्यों करें हम
Shakil Alam
जय अग्रसेन महाराज
जय अग्रसेन महाराज
Dr Archana Gupta
पहले सा मौसम ना रहा
पहले सा मौसम ना रहा
Sushil chauhan
नीति के दोहे 2
नीति के दोहे 2
Rakesh Pathak Kathara
कहाँ लिखता है
कहाँ लिखता है
Mahendra Narayan
*शिव शक्ति*
*शिव शक्ति*
Shashi kala vyas
!!महात्मा!!
!!महात्मा!!
पंकज पाण्डेय सावर्ण्य
Tu wakt hai ya koi khab mera
Tu wakt hai ya koi khab mera
Sakshi Tripathi
हकीकत से रूबरू होता क्यों नहीं
हकीकत से रूबरू होता क्यों नहीं
कवि दीपक बवेजा
विशेष दिन (महिला दिवस पर)
विशेष दिन (महिला दिवस पर)
Kanchan Khanna
■ प्रयोगशाला बना प्रदेश, परखनली में शिक्षा
■ प्रयोगशाला बना प्रदेश, परखनली में शिक्षा
*Author प्रणय प्रभात*
मोहब्बत जिससे हमने की है गद्दारी नहीं की।
मोहब्बत जिससे हमने की है गद्दारी नहीं की।
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
तेरे दुःख दर्द कितने सुर्ख है l
तेरे दुःख दर्द कितने सुर्ख है l
अरविन्द व्यास
कमबख़्त 'इश़्क
कमबख़्त 'इश़्क
Shyam Sundar Subramanian
नियत मे पर्दा
नियत मे पर्दा
Vikas Sharma'Shivaaya'
"याद रहे"
Dr. Kishan tandon kranti
जीवन का सफर
जीवन का सफर
Sidhartha Mishra
दिनेश कार्तिक
दिनेश कार्तिक
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
लैला-मजनूं
लैला-मजनूं
Shekhar Chandra Mitra
खूबसूरत है तेरा
खूबसूरत है तेरा
The_dk_poetry
मैथिली भाषा/साहित्यमे समस्या आ समाधान
मैथिली भाषा/साहित्यमे समस्या आ समाधान
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
हमेशा समय के साथ चलें,
हमेशा समय के साथ चलें,
नेताम आर सी
"लेखक होने के लिए हरामी होना जरूरी शर्त है।"
Dr MusafiR BaithA
*अच्छा लगता है 【मुक्तक】*
*अच्छा लगता है 【मुक्तक】*
Ravi Prakash
Save water ! Without water !
Save water ! Without water !
Buddha Prakash
Loading...