Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Jan 2023 · 2 min read

🌸🌺दिल पर लगे दाग़ अच्छे नहीं लगते🌺🌸

##मणिकर्णिका##
##नए साल की शुभकामनाएं लेती जा##
##कहाँ जाना है, समझ गई##
##जो कुछ पेंडिंग कार्य हैं,कर ले##
##बौनी ने तो स्वीकार किया है##
##वह बेहतरीन तरीके से समझती है##
##डिमोयवर थेरम भी पढ़ी होगी##
##टेबूड़ करना अच्छा लगता है, मालदीव चली जा##
##बच्चों को धोखा देगी, डेढ़ फुटिया##
##चिन्ता न करो##
##कितनी विद्वान हो##
##डिग्री का पठ्ठा लिए घूमना##
##संस्कृत का श्लोक कॉपी पेस्ट करने से##
##संस्कृत नहीं आ जाती, हे मोमबत्ती!##

दिल पर लगे दाग़ अच्छे नहीं लगते,
दिल पर लगे दाग़ अच्छे नहीं लगते,
तमन्ना के दिये बुझ गए हैं,
कैसे बताएँ, बुझाकर वो ख़ुद गए हैं,
राहों के साथ एतबार न था,
वो लुटाकर मुझे ख़ुद गए हैं,
ख़्यालों के बाग अब अच्छे नहीं लगते,
दिल पर लगे दाग़ अच्छे नहीं लगते।।1।।
तसब्बुर भी रोक लिया अब,
कसम खा ली,उसे भी न मिलने देंगे,
मैंने कहा तुम्हें रोशनी में देखूँगा,
वो कह बैठे मेरे हिस्से में अँधेरे दिखाई देंगे,
आँसू उनके हों या मेरे अच्छे नहीं लगते,
दिल पर लगे दाग़ अच्छे नहीं लगते।।2।।
वक़्त रुक गया है थोड़ा सहारा दो,
छोड़ो नाराजगी,डूबते को किनारा दो,
तुम ग़लत नहीं थे, सावन की हवा कह दूँ,
चलो छोड़ो मुझे रंग हजारा दो,
क्या कहें?पर सीरत पर दाग़ अच्छे नहीं लगते,
दिल पर लगे दाग़ अच्छे नहीं लगते।।3।।
कभी छेड़ो अपने तराने जो मुनासिब हैं,
कभी कोई फ़कत सा किस्सा कह दो,
हम तो ग़रीब हैं, वो हसीब हैं,
इक बार मेरा नाम ही आहिस्ता से कह दो,
‘बे-वजह के हिसाब’मत दो अच्छे नहीं लगते,
दिल पर लगे दाग़ अच्छे नहीं लगते।।4।।

मुनासिब=यथेष्ठ, हसीब=महान,सम्मानित, माननीय
©®अभिषेक: पाराशरः ‘आनन्द’

Language: Hindi
Tag: गीत
1 Like · 47 Views
You may also like:
बिन माचिस के आग लगा देते हो
बिन माचिस के आग लगा देते हो
Ram Krishan Rastogi
💐प्रेम कौतुक-359💐
💐प्रेम कौतुक-359💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
दीपावली :दोहे
दीपावली :दोहे
Sushila Joshi
सब्र
सब्र
Pratibha Kumari
अंतर्राष्ट्रीय जल दिवस
अंतर्राष्ट्रीय जल दिवस
डॉ.सीमा अग्रवाल
लोकतंत्र में तानाशाही
लोकतंत्र में तानाशाही
Vishnu Prasad 'panchotiya'
जहाँ तक राजनीति विचारधारा का संबंध है यदि वो सटीक ,तर्कसंगत
जहाँ तक राजनीति विचारधारा का संबंध है यदि वो सटीक...
DrLakshman Jha Parimal
तानाशाहों का हश्र
तानाशाहों का हश्र
Shekhar Chandra Mitra
✍️समतामूलक प्रकृति…
✍️समतामूलक प्रकृति…
'अशांत' शेखर
हम ऐसे ज़ोहरा-जमालों में डूब जाते हैं
हम ऐसे ज़ोहरा-जमालों में डूब जाते हैं
Anis Shah
नारी और वर्तमान
नारी और वर्तमान
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
जिन पर यकीं था।
जिन पर यकीं था।
Taj Mohammad
बच्चों की दिपावली
बच्चों की दिपावली
Buddha Prakash
कुछ मुझको लिखा होता
कुछ मुझको लिखा होता
Dr fauzia Naseem shad
वक्त के रूप में हम बदल जायेंगे...,
वक्त के रूप में हम बदल जायेंगे...,
कवि दीपक बवेजा
कौन लोग थे
कौन लोग थे
Surinder blackpen
आधा किस्सा आधा फसाना रह गया
आधा किस्सा आधा फसाना रह गया
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
मुस्कान हुई मौन
मुस्कान हुई मौन
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
कुदरत से हम सीख रहे हैं, कैसा हमको बनना
कुदरत से हम सीख रहे हैं, कैसा हमको बनना
Dr Archana Gupta
काश हम बच्चे हो जाते
काश हम बच्चे हो जाते
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
नायक
नायक
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
माँ दुर्गा।
माँ दुर्गा।
Anil Mishra Prahari
कबले विहान होखता!
कबले विहान होखता!
पाण्डेय चिदानन्द "चिद्रूप"
शेर
शेर
pradeep nagarwal
*राजनीति का सार  (कुंडलिया)*
*राजनीति का सार (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
शब्द कम पड़ जाते हैं,
शब्द कम पड़ जाते हैं,
laxmivarma.lv
इश्क़ इबादत
इश्क़ इबादत
DR ARUN KUMAR SHASTRI
फेमस होने के खातिर ही ,
फेमस होने के खातिर ही ,
Rajesh vyas
🧑‍🎓My life simple life🧑‍⚖️
🧑‍🎓My life simple life🧑‍⚖️
Ankit Halke jha
■ सुझाव / समय की मांग
■ सुझाव / समय की मांग
*Author प्रणय प्रभात*
Loading...