Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

🌷मनोरथ🌷

🌷मनोरथ🌷

रंग-बिरंगे ही, मनोरथ बसे;
हरेक प्राणी के , रग-रग में;
हर मनोरथ सदा, पूरे होते;
सबके कभी , यही जग में।

कुछ मनोरथ , दिखावे की;
कुछ है , निज पहनावे की;
रख मनोरथ , तू ‘ज्ञान’ की;
इच्छा न हो,झूठी शान की।

कहीं मनोरथ , दमित होते;
कहीं मनोरथ, भ्रमित होते;
गुरु ज्ञान से,मनोरथ पालो;
निज कर्म को , तू न टालो।

देश प्रेम की, मनोरथ सही;
स्वार्थी इच्छा, जगे न कहीं;
प्रेमीमन भी, मनोरथ जागे;
घृणित मनोरथ, सब त्यागे।

निज मन में है,एक मनोरथ;
पूरे हों, हर सपनों के तीरथ;
मनोरथ कल्याणकारी दिखे;
विधाता, यही मनोरथ लिखे।
°°°°°°°°°°°°🙏°°°°°°°°°°°

#स्वरचित_सह_मौलिक;
……..✍️पंकज ‘कर्ण’
……………कटिहार।।

4 Likes · 165 Views
You may also like:
"DIDN'T LEARN ANYTHING IF WE DON'T PRACTICE IT "
DrLakshman Jha Parimal
गुरू गोविंद
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
**मानव ईश्वर की अनुपम कृति है....
Prabhavari Jha
💐प्रेम की राह पर-34💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
✍️डार्क इमेज...!✍️
"अशांत" शेखर
वृक्ष थे छायादार पिताजी
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
बड़ा भाई बोल रहा हूं
Satpallm1978 Chauhan
✍️✍️भोंगे✍️✍️
"अशांत" शेखर
साहब का कुत्ता (हास्य व्यंग्य कहानी)
दुष्यन्त 'बाबा'
खुदा ने जो दे दिया।
Taj Mohammad
इस तरहां ऐसा स्वप्न देखकर
gurudeenverma198
आनंद अपरम्पार मिला
श्री रमण
कौन मरेगा बाज़ी
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
पर्यावरण संरक्षण
Manu Vashistha
पिता
Raju Gajbhiye
पिता
Buddha Prakash
आज नहीं तो कल होगा / (समकालीन गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
कुंडलिया छंद
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
माई री [भाग२]
Anamika Singh
पापा करते हो प्यार इतना ।
Buddha Prakash
तुम गर्म चाय तंदूरी हो
सन्तोष कुमार विश्वकर्मा 'सूर्य'
हंसकर गमों को एक घुट में मैं इस कदर पी...
Krishan Singh
शृंगार छंद और विधाएं
Subhash Singhai
🔥😊 तेरे प्यार ने
N.ksahu0007@writer
मुझे तुम्हारी जरूरत नही...
Sapna K S
चुनौती
AMRESH KUMAR VERMA
श्री राम ने
Vishnu Prasad 'panchotiya'
मेरे कच्चे मकान की खपरैल
Umesh Kumar Sharma
देखो हाथी राजा आए
VINOD KUMAR CHAUHAN
खुश रहना
dks.lhp
Loading...