Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

【8】 *”* आई देखो आई रेल *”*

* छुक – छुक करती आई रेल,
बच्चों छोड़ो अपना खेल *
* कितने सारे जुड़े हैं डिब्बे,
सब डिब्बों देखो मेल *
*धड़ – धड़, छुक – छुक करके चलती,
हवा से बातें करती रेल *
* ढेरे यात्री बैठे इसमें,
तनिक भी ना इतराती रेल *
* बिना टिकट ना बैठो इसमें,
वरना हो जाएगी जेल *
* बच्चों तुम भी रेल बनाओ,
छुक – छुक खेलो अपना खेल *

Arise DGRJ { Khaimsingh Saini }
Mob. – 9266034599

4 Likes · 231 Views
You may also like:
आखिरी पड़ाव
DESH RAJ
✍️✍️ए जिंदगी✍️✍️
"अशांत" शेखर
सच
Vikas Sharma'Shivaaya'
वाक्य से पोथी पढ़
शेख़ जाफ़र खान
तूँ ही गजल तूँ ही नज़्म तूँ ही तराना है...
VINOD KUMAR CHAUHAN
एक पत्र बच्चों के लिए
Manu Vashistha
गांव शहर और हम ( कर्मण्य)
Shyam Pandey
कबीर के राम
Shekhar Chandra Mitra
बंद हैं भारत में विद्यालय.
Pt. Brajesh Kumar Nayak
यूं रो कर ना विदा करो।
Taj Mohammad
मेरा पेड़
उमेश बैरवा
ब्रेक अप
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
"क़तरा"
Ajit Kumar "Karn"
मौसम की तरह तुम बदल गए हो।
Taj Mohammad
काव्य संग्रह से
Rishi Kumar Prabhakar
ग़ज़ल
Mukesh Pandey
चलो जिन्दगी को फिर से।
Taj Mohammad
अग्निवीर
पाण्डेय चिदानन्द
जाने कैसी कैद
Saraswati Bajpai
* फितरत *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
चिड़िया का घोंसला
DESH RAJ
मां शारदे
मनमोहन लाल गुप्ता अंजुम
त्याग की परिणति - कहानी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
इंसानियत
AMRESH KUMAR VERMA
सरसी छंद और विधाएं
Subhash Singhai
''प्रकृति का गुस्सा कोरोना''
Dr Meenu Poonia
आपस में तुम मिलकर रहना
Krishan Singh
गँवईयत अच्छी लगी
सिद्धार्थ गोरखपुरी
गाँव री सौरभ
हरीश सुवासिया
जंगल में कवि सम्मेलन
मनोज कर्ण
Loading...