Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

【28】 *!* अखरेगी गैर – जिम्मेदारी *!*

वक्त रहे ना जाग सके, बच्चे चंचल अज्ञानी थे
भ्रम मैं जीना सीख गए, करते नित कई नादानी थे
(1) निज जिम्मेदारी से बच्चे, लाखों मीलों दूर थे
बात युवा बच्चों की, बच्चे आदत से मजबूर थे
छोड़ पढ़ाई इधर-उधर की, बातों में मगरूर थे
अच्छी बातें, संस्कार उन्हें, कूड़ा-करकट वानी थे
वक्त रहे ना……………
(2) आज वक्त उनकी झोली में, नासमझी को बैठे भर
समझ और बुद्धिमानी को, छोड़ आए वो अपने घर
बुरे वक्त और मजबूरी का, उनको नहीं तनिक सा डर
गुरु यूंही कहता रहता , वो नासमझी के दानी थे
वक्त रहे ना………….
(3) मुझे फिकर है इन बच्चों की, जो ऐसा करते – रहते
कल की चिंता को लेकर वो, लेश मात्र भी नहीं डरते
आज की मौज-मस्ती का कल, वो जीभर जुर्माना भरते
हम सब करें मार्गदर्शन तो, मिट जाएं भ्रम नादानी के
वक्त रहे ना …………..
** खैमसिहं सिंह सैनी 【राजस्थान】**

2 Likes · 333 Views
You may also like:
आ जाओ राम।
Anamika Singh
कला के बिना जीवन सुना ..
ओनिका सेतिया 'अनु '
भारतवर्ष
Utsav Kumar Aarya
तुम थे पास फकत कुछ वक्त के लिए।
Taj Mohammad
राम के जन्म का उत्सव
Manisha Manjari
पिता
Keshi Gupta
बेटियाँ
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
भारत
Vijaykumar Gundal
कारवाँ:श्री दयानंद गुप्त समग्र
Ravi Prakash
हर साल क्यों जलाए जाते हैं उत्तराखंड के जंगल ?
Deepak Kohli
✍️दिल बहल जाता है।✍️
"अशांत" शेखर
क्यों कहाँ चल दिये
gurudeenverma198
"ईद"
Lohit Tamta
नारी को सदा राखिए संग
Ram Krishan Rastogi
सुख दुख
Rakesh Pathak Kathara
🌺प्रेम की राह पर-58🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
!!! राम कथा काव्य !!!
जगदीश लववंशी
जिंदगी क्या है?
Ram Krishan Rastogi
बस तेरे लिए है
bhandari lokesh
माँ तुम सबसे खूबसूरत हो
Anamika Singh
मयंक के जन्मदिन पर बधाई
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
I Can Cut All The Strings Attached
Manisha Manjari
इसी से सद्आत्मिक -आनंदमय आकर्ष हूँ
Pt. Brajesh Kumar Nayak
" हाथी गांव "
Dr Meenu Poonia
रेत समाधि : एक अध्ययन
Ravi Prakash
कुंडलिया छंद
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
व्यक्तिवाद की अजीब बीमारी...
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
तमन्ना ए कल्ब।
Taj Mohammad
मैं हो गई पराई.....
Dr. Alpa H. Amin
हक़ीक़त
अंजनीत निज्जर
Loading...