Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

【24】लिखना नहीं चाहता था [ कोरोना ]

लिखना नहीं चाहता था, पर अब कोरोना पर लिखना चाहूँँ
लिखूंगा चर्म – मर्म की बातें, आदर भले मैं ना पाऊं
{1} खाते रोज मुफ्त की रोटी, दावेदार और नेता
सीमा पर होती कड़ी चौकसी, तो ना कोरोना होता
सुना था महीनों पहले चीन में,फैला था कोरोना
तभी जाग जाते तो, अब ना पड़ता हमको रोना
मद में कितने चूर हैं नेता, मन की व्यथा सुनाऊँँ
ऐसे भ्रष्ट – लापरवाह नेताओं, को ना पद पर चाहूँ
लिखना नहीं चाहता था…………
{2} खूंंन खौलता है सुनकर, ये कवि की एक विधा है
बड़े से बड़ा नेता बनने को, हर एक मूर्ख फिदा है
क्या होती है सच्ची सेवा, ये तो कोई जाने न
भृष्ट, घूसखोरी को छोड़, कोई मानवता माने न
कसम से ऐसे जल्लादों को, फांसी पर चढ़वाऊं
अंर्तमन में बहते आँँसू, किसको भला दिखाऊं
लिखना नहीं चाहता था…………

4 Likes · 1 Comment · 538 Views
You may also like:
【1】 साईं भजन { दिल दीवाने का डोला }
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
महाभारत की नींव
ओनिका सेतिया 'अनु '
क्या यही शिक्षामित्रों की है वो ख़ता
आकाश महेशपुरी
मंगलसूत्र
संदीप सागर (चिराग)
मातृभाषा हिंदी
AMRESH KUMAR VERMA
नीम का छाँव लेकर
सिद्धार्थ गोरखपुरी
रत्नों में रत्न है मेरे बापू
Nitu Sah
जीवन इनका भी है
Anamika Singh
ज़िन्दगी की धूप...
Dr. Alpa H. Amin
मैं बेटी हूँ।
Anamika Singh
निस्वार्थ पापा
Shubham Shankhydhar
बिछड़न [भाग ३]
Anamika Singh
Human Brain
Buddha Prakash
ख़ामोश अल्फाज़।
Taj Mohammad
गर्मी
Ram Krishan Rastogi
✍️मैं जब पी लेता हूँ✍️
"अशांत" शेखर
“मोह मोह”…….”ॐॐ”….
Piyush Goel
वक्त सा गुजर गया है।
Taj Mohammad
जग का राजा सूर्य
Buddha Prakash
परछाई से वार्तालाप
Ram Krishan Rastogi
अजब कहानी है।
Taj Mohammad
बुंदेली दोहा-डबला
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
जग
AMRESH KUMAR VERMA
He is " Lord " of every things
Ram Ishwar Bharati
दिल तड़फ रहा हैं तुमसे बात करने को
Krishan Singh
💐प्रेम की राह पर-25💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
चोरी चोरी छुपके छुपके
gurudeenverma198
आत्महत्या क्यों ?
Anamika Singh
गाँधी जी की लाठी
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
वक्त मलहम है।
Taj Mohammad
Loading...