Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

【21】 *!* क्या आप चंदन हैं ? *!*

सोचो जग में रहने वालों, क्या हम चंदन के जैसे हैं?
क्या कर्म किये हम चंदन से, सोचो हम आखिर कैसे हैं?
{1} वक्त ने ली करवट हम बदले, चांद सितारे कहते हैं
जो भी जग में हम काम करें , वो हमें देखते रहते हैं
सच्चाई का निज दर्पण बन, नदियाँ, झरने बहते हैं
कभी न छोड़े चन्दन निज गुण, हम क्यों ऐसे वैसे हैं
सोचो जग में …………..
{2} फूल न छोड़े खुशबू देना, पेड़ हमें दें शुद्ध हवा
पहाड़ हमें दें जड़ी – बूटियाँ, जिनसे बनती कई दवा
चूल्हा सहायक हो भोजन मेंं, रोटी सेके गर्म तवा
चंदन खुद मेहके – मेहकाये, गुण उपकारी ऐसे हैं
सोचो जग में…………..
{3} बुरी संगती हमें मिले तो, पल में उस में ढ़ल जाते
निज अस्तित्व मिटाकर भी हम, अवगुण के गुण क्यों गाते?
बुरा कभी क्या भला करेगा?, बुरे हमें क्योंकर भाते?
चंदन को व्यापत नहीं विषधर, चाहे वो काल के जैसे हैं
सोचो जग में……………
{4} क्रोध के बदले क्रोध चाहें हम, लड़ने के बदले लड़ना
जो यही रहे पद – चिन्ह , एक दिन पड़ सकता हमको सड़ना
अनहोनी को जान गये हम, अब क्योंकर इसपर अड़ना
चंदन से गुण धारण कर, हम भी तो चंदन के जैसे हैं
सोचो जग में……………

3 Likes · 370 Views
You may also like:
समय
AMRESH KUMAR VERMA
गर बुरा लगता हूं।
Taj Mohammad
Green Trees
Buddha Prakash
जुद़ा किनारे हो गये
शेख़ जाफ़र खान
कन्यादान क्यों और किसलिए [भाग४]
Anamika Singh
आपकी याद
Abhishek Upadhyay
भगवान परशुराम
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मेहमान बनकर आए और दुश्मन बन गए ..
ओनिका सेतिया 'अनु '
निगाह-ए-यास कि तन्हाइयाँ लिए चलिए
शिवांश सिंघानिया
सितम देखते हैं by Vinit Singh Shayar
Vinit Singh
💐💐धड़कता दिल कहे सब कुछ तुम्हारी याद आती है💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
माँ गंगा
Anamika Singh
पिता
Kanchan Khanna
बारी है
वीर कुमार जैन 'अकेला'
सिंधु का विस्तार देखो
surenderpal vaidya
किंकर्तव्यविमूढ़
Shyam Sundar Subramanian
किस्मत ने जो कुछ दिया,करो उसे स्वीकार
Dr Archana Gupta
"विहग"
Ajit Kumar "Karn"
ग़ज़ल
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
समंदर की चेतावनी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
#क्या_पता_मैं_शून्य_न_हो_जाऊं
D.k Math
A wise man 'The Ambedkar'
Buddha Prakash
💐💐प्रेम की राह पर-15💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
सच्चाई का दर्पण.....
Dr. Alpa H. Amin
प्रकाशित हो मिल गया, स्वाधीनता के घाम से
Pt. Brajesh Kumar Nayak
सर रख कर रोए।
Taj Mohammad
ए. और. ये , पंचमाक्षर , अनुस्वार / अनुनासिक ,...
Subhash Singhai
*पापा … मेरे पापा …*
Neelam Chaudhary
रसीला आम
Buddha Prakash
लोग जमसे गये है।
"अशांत" शेखर
Loading...