Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

【20】 ** भाई – भाई का प्यार खो गया **

भाई – भाई का प्यार भेदभावों में, रहकर सिमट गया
भाई को थी कभी जांं न्योंछावर, मिटी हुई अब शर्मो हया
{1} कभी भाई का भाई से रिश्ता, गंगाजल सा होता था
भाई के दुःख में भाई देखो, फूट-फूट कर रोता था
भाई के रहते भाई पहले, निर्भय होकर सोता था
भाई ने भाई से करी लड़ाई, प्यार का गुलशन बिखर गया
भाई – भाई का प्यार…………
{2} भाई – भाई की गरिमा रखने में, क्यों कर असमर्थ हुआ
भाई के दर्द ने भाई के दिल को, ना जाने क्यों नहीं छुआ
भाई – भाई का प्यार बना अब, नफरत और दुश्मनी कुंंआ
भाई ने भाई को बहुत सताया, लेश मात्र नहीं रही दया
भाई – भाई का प्यार ………….
{3} भाई – भाई की खातिर अपनी, जान दिया करता था
भाई – भाई को सब अर्पण में, तनिक नहीं ड़रता था
भाई के कष्ट निवारण को भाई, निःसंकोच मरता था
भाई की भाई को प्यार भरे, शब्दों की अब मिट गई हया
भाई – भाई का प्यार …………
{4} राम, लखन और भरत, शत्रुघ्न, जैसा प्यार अगर होता
दुःख में ना होता कोई भाई, कष्ट से ना कोई रोता
लखन सी सेवा, भरत से त्याग से, कोई न दुःख बोझा ढ़ोता
भाई – भाई में प्रीत बड़ी, समझो रामराज्य फिर से आ गया
भाई – भाई का प्यार ……….
लेखक :- खैमसिहं सैनी
भरतपुर ( राजस्थान )
मो.न. :- 9266034599

4 Likes · 1 Comment · 434 Views
You may also like:
कभी सोचा ना था मैंने मोहब्बत में ये मंजर भी...
Krishan Singh
ईश्वर के संकेत
Dr. Alpa H. Amin
इंसाफ के ठेकेदारों! शर्म करो !
ओनिका सेतिया 'अनु '
शेर
dks.lhp
मुझे तुम्हारी जरूरत नही...
Sapna K S
आंखों का वास्ता।
Taj Mohammad
जीने का नजरिया अंदर चाहिए।
Taj Mohammad
गरीब के हालात
Ram Krishan Rastogi
You are my life.
Taj Mohammad
લંબાવને 'તું' તારો હાથ 'મારા' હાથમાં...
Dr. Alpa H. Amin
✍️स्टेचू✍️
"अशांत" शेखर
"कभी मेरा ज़िक्र छिड़े"
Lohit Tamta
खेतों की मेड़ , खेतों का जीवन
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
उलझनें_जिन्दगी की
मनोज कर्ण
कर्म में कौशल लाना होगा
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
✍️निज़ाम✍️
"अशांत" शेखर
परिवाद झगड़े
ईश्वर दयाल गोस्वामी
संडे की व्यथा
ज्ञानीचोर ज्ञानीचोर
आज तिलिस्म टूट गया....
Saraswati Bajpai
दीया तले अंधेरा
Vikas Sharma'Shivaaya'
दोहा छंद- पिता
रेखा कापसे
बंदर मामा गए ससुराल
Manu Vashistha
मजदूर की जिंदगी
AMRESH KUMAR VERMA
मुझे चाहत हैं तेरी.....
Dr. Alpa H. Amin
एक शख्स ही ऐसा होता है
Krishan Singh
💐प्रेम की राह पर-32💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
*हिम्मत मत हारो ( गीत )*
Ravi Prakash
आंखों में तुम मेरी सांसों में तुम हो
VINOD KUMAR CHAUHAN
लघुकथा: ऑनलाइन
Ravi Prakash
बिछड़न [भाग१]
Anamika Singh
Loading...