Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#5 Trending Author

✍️✍️लफ्ज़✍️✍️

✍️✍️लफ्ज़✍️✍️
…………………………………….//
कभी किसी
का आत्मसम्मान
कट के हो जाये चूर…

कभी किसी
का स्वाभिमान
फट के हो जाये गुरूर…

अपने तीखे
लफ्ज़ो में निर्मान ना
हो कभी ऐसी पैनी धार…!

अपने लफ्ज़ मुलायम हो,
हर किसी के मानसम्मान
को लगे मखमल सा आधार… !
…………………………………….//
✍️”अशांत”शेखर✍️
16/06/2022

76 Views
You may also like:
हृदय का सरोवर
सुनील कुमार
गज़ल
Saraswati Bajpai
प्रार्थना
Anamika Singh
भारत लोकतंत्र एक पर्याय
Rj Anand Prajapati
ज़रा सी देर में सूरज निकलने वाला है
Dr. Sunita Singh
हमारें रिश्ते का नाम।
Taj Mohammad
सितम पर सितम।
Taj Mohammad
ग़ज़ल
Mahendra Narayan
बुद्ध या बुद्धू
Priya Maithil
चला कर तीर नज़रों से
Ram Krishan Rastogi
बंकिम चन्द्र प्रणाम
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
बहुजन की भारत माता
Shekhar Chandra Mitra
मुझसे पहले क्या किसी ने
gurudeenverma198
कुछ यादें जीवन के
Anamika Singh
💐कलेजा फट क्यूँ नहीँ गया💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
आखिरी कोशिश
AMRESH KUMAR VERMA
बख्स मुझको रहमत वो अंदाज़ मिल जाए
VINOD KUMAR CHAUHAN
💐💐वासुदेव: सर्वम्💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
ईश्वर के संकेत
Dr.Alpa Amin
कातिलाना अदा है।
Taj Mohammad
मेरे ख्यालों में क्यो आते हो
Ram Krishan Rastogi
नियति
Anamika Singh
बहुआयामी वात्सल्य दोहे
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
✍️मेरी कलम...✍️
"अशांत" शेखर
हम आज भी हैं आपके.....
अश्क चिरैयाकोटी
✍️हम भी कुछ थे✍️
"अशांत" शेखर
भटकता चाँद
Alok Saxena
फिर एक समस्या
डॉ एल के मिश्र
"अबला नहीं मैं"
Dr Meenu Poonia
कोरोना काल
AADYA PRODUCTION
Loading...