Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Jul 2022 · 1 min read

✍️सरहदों के गहरे ज़ख्म✍️

✍️सरहदों के गहरे ज़ख्म✍️
……………………………………………………………………//
जिंदगी के बाकी बचे गिले शिकवे सुन भी लेते हम
अगर साथ होती वो उसका कहां मान भी लेते हम

पराये की तरह गुजरती है वो मेरे मायुस कूचे से
अंजानी सी है वो वर्ना उसका हाल जान भी लेते हम

ये खाली कमरे टकटकी लगाये रहते है खिड़की पर
टूटी दीवार रास्ते पे ना होती घर को झाँक भी लेते हम

साहिल पर अक्सर लहरों को सर पटकते देखा है
गर बस में होता समंदर की छानबीन कर भी लेते हम

सरहदों के गहरे ज़ख्म कभी हमें मयस्सर नहीं हुए
वर्ना बिछड़ने के दर्द गझल में बयान कर भी लेते हम
……………………………………………………………………//
✍️”अशांत”शेखर✍️
10/07/2022

2 Likes · 4 Comments · 66 Views
You may also like:
शहीदों का यशगान
शेख़ जाफ़र खान
तुम मेरा दिल
Dr fauzia Naseem shad
A wise man 'The Ambedkar'
Buddha Prakash
मै पैसा हूं दोस्तो मेरे रूप बने है अनेक
Ram Krishan Rastogi
पितृ-दिवस / (समसामायिक नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
✍️बदल गए है ✍️
Vaishnavi Gupta
*!* दिल तो बच्चा है जी *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
अनामिका के विचार
Anamika Singh
इस दर्द को यदि भूला दिया, तो शब्द कहाँ से...
Manisha Manjari
दामन भी अपना
Dr fauzia Naseem shad
इंसानियत का एहसास भी
Dr fauzia Naseem shad
बँटवारे का दर्द
मनोज कर्ण
आंसूओं की नमी का क्या करते
Dr fauzia Naseem shad
नर्मदा के घाट पर / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
मेरी तकदीर मेँ
Dr fauzia Naseem shad
कुछ दिन की है बात ,सभी जन घर में रह...
Pt. Brajesh Kumar Nayak
काश बचपन लौट आता
Anamika Singh
माँ
आकाश महेशपुरी
पिता
Meenakshi Nagar
सूरज से मनुहार (ग्रीष्म-गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
नित नए संघर्ष करो (मजदूर दिवस)
श्री रमण 'श्रीपद्'
बहुत प्यार करता हूं तुमको
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
एसजेवीएन - बढ़ते कदम
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
कुछ पल का है तमाशा
Dr fauzia Naseem shad
आस
लक्ष्मी सिंह
ओ मेरे साथी ! देखो
Anamika Singh
हमसे न अब करो
Dr fauzia Naseem shad
दूल्हे अब बिकते हैं (एक व्यंग्य)
Ram Krishan Rastogi
तपों की बारिश (समसामयिक नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
पिता - नीम की छाँव सा - डी के निवातिया
डी. के. निवातिया
Loading...