Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Sep 2022 · 1 min read

✍️वो जहर नहीं है✍️

✍️वो जहर नहीं है✍️
…………………………………………………………………//
मैंने अपने जुबाँ की वो मिठास कम कर दी है
अब मुझे गन्ने की तरह पीस जाना मंजूर नहीं है

करेले भी कुछ मर्ज पे दवाँ का काम करते है
थोड़े कड़वे जरूर होते है मगर वो जहर नहीं है
…………………………………………………………………//
©✍️’अशांत’ शेखर✍️
08/09/2022

1 Like · 2 Comments · 47 Views
You may also like:
तेरा साथ मुझको गवारा नहीं है।
सत्य कुमार प्रेमी
बिहार में खेला हो गया
Ram Krishan Rastogi
कलम ये हुस्न गजल में उतार देता है।
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
दिल का मोल
Vikas Sharma'Shivaaya'
मजदूर भाग -दो
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
इतना मत लिखा करो
सूर्यकांत द्विवेदी
सांसे चले अब तुमसे
Rj Anand Prajapati
रोना
Dr.S.P. Gautam
दो शे'र
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
सच वह देखे तो पसीना आ जाए
कवि दीपक बवेजा
प्रकाश
Saraswati Bajpai
बारिश का मौसम
विजय कुमार अग्रवाल
जोशीमठ
Dr Archana Gupta
इंतजार
Anamika Singh
ख़तरे में लोकतंत्र
Shekhar Chandra Mitra
*आओ बात करें चंदा की (मुक्तक)*
Ravi Prakash
जो मैंने देखा...
पीयूष धामी
" निरोग योग "
Dr Meenu Poonia
■ लघुकथा / अलार्म
*प्रणय प्रभात*
मैथिलीमे चारिटा हाइकु
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
✍️बुरी हु मैं ✍️
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
रखना खयाल मेरे भाई हमेशा
gurudeenverma198
क्यों भूख से रोटी का रिश्ता
Dr fauzia Naseem shad
जब ये ख्वाहिशें बढ़ गई।
Taj Mohammad
Affection couldn't be found in shallow spaces.
Manisha Manjari
अविश्वास की बेड़ियां
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
कविता: सपना
Rajesh Kumar Arjun
✍️बिच की दिवार✍️
'अशांत' शेखर
मेरी प्रथम शायरी (2011)-
लक्ष्मण 'बिजनौरी'
प्यार
विशाल शुक्ल
Loading...