Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
Aug 1, 2022 · 1 min read

✍️रिश्तेदार.. ✍️

मुमकिन नहीं उन रन्जिशों को भुलाना,
जो हर वक़्त ज़ेहन मे रहती हैं,
क्या कहे तकलीफ उन आँखों की,
जो अपनो मे छिपे दुश्मनो को सहन करती हैं,
नज़रों मे गुस्सा, चेहरे पे मुस्कुराहट,
दिल मे प्यार और शब्दों मे खामोशी रखना कोई आसान काम नहीं,
जो अपने होकर भी पराये बन गए,
उनसे दूर हो जाना कोई आसान काम नहीं,
झूठा प्यार उनका देखकर दिल सहम सा जाता हैं,
इस दिल को समझाना कोई आसान काम नही,
कभी जान छिड़कते थे उनपर,
आज नफरत कर पाना कोई आसान काम नही,
वो मतलब के रिश्ते निभाते क्यों है,
जब दिल मिलते नही तो मिलाते क्यों है,
पैसों के लिए, अपनी ख्वाहिशों, अपनी जरूरतों के लिए,
क्यों नही सोचते,
कोई मर मिटा है उनके लिए,
कोई लुट गया है उनके लिए,
जो आँखें उनकी कामयाबी का ख़्वाब देखती थी,
उन्हीं आँखों मे वो आँसू दे गए,
किस अपने से शिकायत करे इनकी,
सारे अपने तो मतलबी हो गए,
लाचारी देखकर रिश्तों की वो चिड़ाने पर आ गए,
हम डूब रहे थे समुंदर मे,
वो हर अहसान दरकिनार कर खुद किनारे पर आ गए,
पर आजकल बड़े अदब से पेश आते है,
बात भी मानते है सारी,
कुछ तो गड़बड़ है,
शायद उन्हें फ़िर जरूरत है हमारी।

✍️वैष्णवी गुप्ता
कौशांबी

4 Likes · 6 Comments · 69 Views
You may also like:
बताओ तो जाने
Ram Krishan Rastogi
कैसा हो सरपंच हमारा / (समसामयिक गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
सिर्फ तुम
Seema 'Tu haina'
ग़ज़ल- मज़दूर
आकाश महेशपुरी
बुद्ध या बुद्धू
Priya Maithil
गीत
शेख़ जाफ़र खान
यही तो इश्क है पगले
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
"फिर से चिपको"
पंकज कुमार कर्ण
औरों को देखने की ज़रूरत
Dr fauzia Naseem shad
आपको याद भी तो करते हैं
Dr fauzia Naseem shad
"हैप्पी बर्थडे हिन्दी"
पंकज कुमार कर्ण
पिता - जीवन का आधार
आनन्द कुमार
जैवविविधता नहीं मिटाओ, बन्धु अब तो होश में आओ
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
✍️One liner quotes✍️
Vaishnavi Gupta
एक कतरा मोहब्बत
श्री रमण 'श्रीपद्'
बेरोज़गारों का कब आएगा वसंत
Anamika Singh
सोलह शृंगार
श्री रमण 'श्रीपद्'
जीवन संगनी की विदाई
Ram Krishan Rastogi
पहाड़ों की रानी शिमला
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
आह! भूख और गरीबी
Dr fauzia Naseem shad
दर्द अपना है तो
Dr fauzia Naseem shad
यकीन कैसा है
Dr fauzia Naseem shad
पिता का दर्द
Nitu Sah
जी, वो पिता है
सूर्यकांत द्विवेदी
गुरुजी!
Vishnu Prasad 'panchotiya'
🥗फीका 💦 त्यौहार💥 (नाट्य रूपांतरण)
पाण्डेय चिदानन्द
चलो दूर चलें
VINOD KUMAR CHAUHAN
कहीं पे तो होगा नियंत्रण !
Ajit Kumar "Karn"
अनामिका के विचार
Anamika Singh
गुलामी के पदचिन्ह
मनोज कर्ण
Loading...