Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 Jul 2022 · 1 min read

✍️यूँही मैं क्यूँ हारता नहीं✍️

✍️यूँही मैं क्यूँ हारता नहीं ✍️
……………………………………………//
जिस राह मुड़ते है सब कदम
उस मोड़ पे मैं क्यूँ चलता नहीं
बिना आरजु के ये दिल किसी
की मोहब्बत में क्यूँ रहता नहीं

बेनाम रिश्तों से अपनापन
का हाथ यूँही बढ़ाने चला हूँ
एक शख्स मेरी रूह में पड़ा है
अपने अंदर मैं क्यूँ झांकता नहीं

बगैर इश्क़ के ही उलझनों का
सेहरा बांधे फिरते है लोग यहाँ
दुनिया की झूठे रस्म रिवाज़ो में
सब तो पड़े है मैं क्यूँ पड़ता नहीं

रोज आश के हौसले जुटाकर
लड़ता हूँ खुद ही अपने आपसे
बच्चो सी मेरी एक ज़िद के आगे
आखिर यूँही मैं क्यूँ हारता नहीं
………………………………………………//
©✍️”अशांत”शेखर✍️
26/07/2022

6 Likes · 10 Comments · 121 Views
You may also like:
क्या बताये वो पहली नजर का इश्क
N.ksahu0007@writer
अपराधी कौन
Manu Vashistha
कवि की नज़र से - पानी
बिमल
ज़ुबान से फिर गया नज़र के सामने
कुमार अविनाश केसर
शायरी
श्याम सिंह बिष्ट
दीपावली,प्यार का अमृत, प्यार से दिल में, प्यार के अंदर...
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
लड़की भी तो इंसान है
gurudeenverma198
लूटपातों की हयात
AMRESH KUMAR VERMA
💥प्रेम की राह पर-69💥
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
इतिहास लिखना है
Shakti Tripathi Dev
दिल में बस जाओ तुम
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
वक्त वक्त की बात है 🌷🌷
Dr. Akhilesh Baghel "Akhil"
शहद वाला
शिवांश सिंघानिया
आस का दीपक
Rekha Drolia
मै लाल किले से तिरंगा बोल रहा हूं
Ram Krishan Rastogi
डरता हूं
dks.lhp
तिरंगे की ललकार हो
kumar Deepak "Mani"
"पराधीन आजादी"
Dr Meenu Poonia
आदर्श पिता
Sahil
वह मौत भी बड़ा सुहाना होगा
Aditya Raj
किन्नर बेबसी कब तक ?
Dr fauzia Naseem shad
कलयुग में भी गोपियाँ कैसी फरियाद /लवकुश यादव "अज़ल"
लवकुश यादव "अज़ल"
हिन्दी थिएटर के प्रमुख हस्ताक्षर श्री पंकज एस. दयाल जी...
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
कभी कभी।
Taj Mohammad
हे माँ जानकी !
Saraswati Bajpai
आतुरता
अंजनीत निज्जर
*सिंह की सवारी (घनाक्षरी : सिंह विलोकित छंद)*
Ravi Prakash
" आपके दिल का अचार बनाना है ? "
DrLakshman Jha Parimal
✍️जुस्तजू आसमाँ की..✍️
'अशांत' शेखर
खुलकर बोलो
Shekhar Chandra Mitra
Loading...