Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#7 Trending Author

✍️मैं काश हो गया..✍️

✍️मैं काश हो गया..✍️
………………………………………………………………//
वो जवानी का शोर परेशानी में खामोश हो गया
लापता हूं खुद से मैं खुद के लिये तलाश हो गया

गुमशुदा चेहरा मेरा मिटा होगा शहर के नक़्श से
मैं तो जिंदा हूं शायद उनके नजर में लाश हो गया

हम भी ख़तीब थे जुबाँ पे मुसलसल शोले रहते थे
अब मेरा रक़ीब मैं मेरे ख़ामोशी पे वो खुश हो गया

सुनने वाले कम ही मिले,हमें सुनाने तो जग आया
बोलती जुबाँ पे ताले लगे देखके मैं बे-होश हो गया

उम्र के सारे तजुर्बे कम पड़ गये एक ही उड़ान में..
ख्वाइशों की उधेड़बुन में खुद ही मैं काश हो गया..
…………………………………………………………….…//
©✍️”अशांत”शेखर✍️
13/07/2022

1 Like · 7 Comments · 61 Views
You may also like:
सिपाही
Buddha Prakash
अनमोल जीवन
आकाश महेशपुरी
गरम हुई तासीर दही की / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
योग दिवस पर कुछ दोहे
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
किसकी तलाश है।
Taj Mohammad
आयेगी मौत तो
Dr fauzia Naseem shad
✍️डार्क इमेज...!✍️
'अशांत' शेखर
कल खो जाएंगे हम
AMRESH KUMAR VERMA
✍️क़ुर्बान मेरा जज़्बा हो✍️
'अशांत' शेखर
🍀🌺परमात्मा सर्वोपरि🌺🍀
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मुकरिया__ चाय आसाम वाली
Manu Vashistha
नियति
Anamika Singh
धीरे-धीरे कदम बढ़ाना
Anamika Singh
चाँद
विजय कुमार अग्रवाल
पुस्तक समीक्षा -'जन्मदिन'
Rashmi Sanjay
ये बारिश की बूंदें ऐसे मुझसे टकराईं हैं।
Manisha Manjari
तन-मन की गिरह
Saraswati Bajpai
भगवान जगन्नाथ रथ यात्रा
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
कालजयी साहित्यकार जयशंकर प्रसाद जी (133 वां जन्मदिन)
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
लेके काँवड़ दौड़ने
Jatashankar Prajapati
श्रीमती का उलाहना
श्री रमण 'श्रीपद्'
हर रोज़ ही हम।
Taj Mohammad
द्रौपदी मुर्मू'
Seema 'Tu haina'
खुशियाँ ही अपनी हैं
विजय कुमार अग्रवाल
एहसासों से हो जिंदा
Buddha Prakash
मैं छोटी नन्हीं सी गुड़िया ।
लक्ष्मी सिंह
दुविधा
Shyam Sundar Subramanian
महताब ने भी मुंह फेर लिया है।
Taj Mohammad
*खाट बिछाई (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
पीला पड़ा लाल तरबूज़ / (गर्मी का गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
Loading...